पटना ब्‍लास्‍ट की साजिश रांची में रची गयी थी.

सोमवार, अक्तूबर 28, 2013
आतंकी संगठन इंडियन मुजाहिदीन ने पटना में बम ब्लास्ट कराया. इसकी साजिश रांची में रची गयी. पटना से गिरफ्तार रांची के इम्तियाज के सिटियो स्थित घर पर छापेमारी में विस्फोटक मिलने के बाद पुलिस ने जांच तेज कर दी है. बम ब्लास्ट का मास्टर माइंड तहसीन उर्फ मोनू था. उसने पांच साथियों के साथ विस्फोट की साजिश रची. पकड़ा गया इम्तियाज उसके संपर्क में था. साजिश के तार रांची से जुड़े होने के बाद पुलिस ने डोरंडा व बरियातू में भी छापेमारी की.

बम धमाकों के बाद पटना पुलिस ने जिस युवक को गिरफ्तार किया है, उसका नाम इम्तियाज है. वह रांची के धुर्वा थाना क्षेत्र के सीठियो इलाके का रहनेवाला है. पटना पुलिस द्वारा सूचना दिये जाने के बाद धुर्वा पुलिस ने उसके घर पर छापामारी की. पुलिस  इम्तियाज के पिता व भाई को हिरासत में लेकर पूछताछ कर रही है. डीजीपी राजीव कुमार ने बताया कि इम्तियाज के घर से पुलिस ने एक प्रेशर कूकर, काले रंग का पाउडर (करीब ढाई किलो) और उर्दू में लिखी कुछ धार्मिक सामग्री बरामद किया है.

 रांची जोन के आइजी ने बताया कि इम्तियाज के घर से बरामद काले पाउडर की जांच की जा रही है. पटना पुलिस ने दो और लोगों के नाम बताये  हैं, जो रांची के रहनेवाले हैं. दोनों की तलाश में छापेमारी की जा रही है. पुलिस मुख्यालय के प्रवक्ता एडीजी एसएन प्रधान ने बताया कि ब्लास्ट में झारखंड और रांची में रह रहे युवकों का नाम सामने आया है. इनके खिलाफ कार्रवाई की जा रही है. पुलिस के एक आधिकारिक सूत्र ने बताया कि ब्लास्ट मामले में पुलिस ने बरियातू थाना क्षेत्र में छापामारी की है. डोरंडा थाना क्षेत्र के दरजी मुहल्ला और मणिटोला में भी छापामारी की गयी है.

इन जगहों पर हुई छापेमारी में पुलिस को वे लोग नहीं मिले, जिनकी तलाश थी. पुलिस को इम्तियाज से संपर्क रखनेवाले किसी मो शाहीद और मोहसीन अख्तर की तालाश है. एनआइए जुटी है छानबीन में :  उल्लेखनीय है कि रांची में इंडियन मुजाहिदीन (आइएम) से जुड़े मंजर इमाम और दानिश को पुलिस ने गिरफ्तार किया था. जिसके बाद से लगातार इस तरह की खबरें आ रही थीं कि इंडियन मुजाहिदीन के लिए काम करनेवाले और भी कई युवक रांची में रह कर संगठन के लिए काम कर रहे हैं.

नेशनल इनवेस्टीगेशन एजेंसी (एनआइए) की टीम भी रांची में लगातार छानबीन कर रही थी. टीम मंजर और दानिश से संपर्क रखनेवाले युवकों का पता लगा रही थी. दोनों के संपर्क में किसी भी तरह से आनेवाले हर व्यक्ति से पूछताछ कर विस्तृत जानकारी हासिल कर रही थी. हालांकि एनआइए की टीम ने अब तक आइएम से जुड़े किसी तीसरे व्यक्ति को गिरफ्तार नहीं किया है. इससे पहले पटना के गांधी मैदान व पटना जंकशन पर हुए बम धमाकों के सिलसिले में पटना में चार संदिग्धों को पुलिस ने हिरासत में लिया. पुलिस मुख्यालय सूत्रों के अनुसार, बम विस्फोट के दौरान जख्मी हालत में पाये गये रांची के युवक की संदिग्ध भूमिका बम प्लांट करने में थी, तभी वह पुलिस के हत्थे चढ़ गया. उसे जख्मी हालत में तत्काल इंदिरा गांधी आयुर्विज्ञान संस्थान, शेखपुरा में भरती कराया गया. उसके कान के पास स्प्रींटर लगा है, जिससे वहां छेद हो गया.  चिकित्सकों द्वारा उसका ऑपरेशन किया गया है. उसकी हालत चिंताजनक बतायी गयी है.

सूत्रों ने बताया कि गांधी मैदान इलाके से दो संदिग्धों को स्पेशल टास्क फोर्स ने हिरासत में लिया है, तो एक संदिग्ध व्यक्ति को पटना पुलिस ने हिरासत में लिया है. पुलिस मुख्यालय को उनके पास से कुछ कागजात व मोबाइल व अन्य सामान मिले हैं. पुलिस द्वारा उनके मोबाइल कॉल डिटेल्स निकाले जा रहे हैं. उनकी पहचान को लेकर भी छानबीन की जा रही है. उनसे पूछताछ जारी है.

दो संदिग्धों को स्पेशल टॉस्क फोर्स ने तब हिरासत में लिया, जब वे ब्लास्ट के बाद शराब पीने के लिए बांसघाट इलाके में जा रहे थे. उनके चेहरे पर किसी प्रकार का तनाव नहीं था. जैसे ही वे पुलिस के हत्थे चढ़े, उनकी हालत खस्ता हो गयी. उन्होंने पुलिस को बरगलाने की कोशिश की.

सीरियल बम ब्लॉस्ट के बाद पूरे राज्य में हाई अलर्ट कर दिया गया. इसके साथ ही प्रमुख ऐतिहासिक व सार्वजनिक स्थलों की सुरक्षा सख्त कर दी गयी. पटना सचिवालय परिसर व मुख्यमंत्री आवास सहित एयरपोर्ट इलाके को पुलिस ने सील कर दिया है. मुख्य सचिवालय परिसर सहित अन्य स्थानों में जाने वालों की पहचान सुनिश्चित करने के बाद ही सुरक्षाकर्मियों द्वारा अनुमति प्रदान की जा रही थी.

Share this

Related Posts

Previous
Next Post »
loading...
Loading...