मोदी और मैकमास्टर के बीच आंतकवाद और द्विपक्षीय सबंधों पर अहम चर्चा

important-discussions-on-terrorism-and-bilateral-relations-between-modi-and-mcmaster
नयी दिल्ली,18 अप्रैल, अमेरिका के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार लेफ्टिनेंट जनरल एच आर मैकमास्टर ने आज यहां प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के साथ मुलाकात कर भारत और अमेरिका के बीच द्विपक्षीय संबंधों की समीक्षा के साथ ही आतंकवाद और दक्षिण एशिया के ताजा हालात पर चर्चा की । प्रधानमंत्री आवास पर हुई इस मुलाकात के मौके पर राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल, विदेश सचिव एस जयशंकर और कई अन्य वरिष्ठ अधिकारी भी मौजूद थे । सूत्रों के मुताबिक बैठक सौहार्दपूर्ण माहौल में हुई। इस मौके पर भारत और अमेरिका के बीच सहयोग और आतंकवाद के मसले पर चर्चा हुई । दोनों देश सैन्य सहयोग बढ़ाने और आतंकवाद के खिलाफ सूचनाओं के आदान-प्रदान को बढ़ाने पर भी राजी हुए । श्री मोदी से मिलने के पहले श्री मैकमास्टर और डोभाल के बीच भी करीब दो घंटे की बैठक हुई जिसमें दक्षिण एशिया के सुरक्षा हालात पर विस्तार से चर्चा की गयी। भारत ने दोहराया कि पाकिस्तान में पनप रहा आतंकवाद पूरे क्षेत्र के लिए गंभीर खतरा है । श्री मैकमास्टर का विदेश मंत्री सुषमा स्वराज और रक्षा मंत्री अरुण जेटली से भी मिलने का कार्यक्रम है। मैकमास्टर का भारत दौरा ऐसे वक्त हो रहा है जब अमेरिका ने अफगानिस्तान में इस्लामिक स्टेट के आतंकवादी ठिकानाें पर अपने सबसे बड़े गैर परमाणु बम का इस्तेमाल किया है और दूसरी ओर कुलभूषण जाधव को फांसी की सजा सुनाए जाने के कारण भारत और पाकिस्तान के बीच तनाव बढ़ा है। ऐसी उम्मीद की जा रही है कि भारत मैकमास्टर के साथ यह मामला उठा सकता है और मैकमास्टर इस मसले पर कोई बयान दे सकते हैं । कल रात भारत पहुंचे मैकमास्टर यहां आने से पहले पाकिस्तान और अफगानिस्तान का दौरा भी कर चुके हैं। उन्होंने कल पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ , विदेश मंत्री सरताज अजीज, वहां के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार लेफ्टिनेंट जनरल (सेवानिवृत्त) नसीर जनजुआ,सैन्य प्रमुख कमर जावेद बाजवा और पाकिस्तान के उप विदेश मंत्री सैयद तारीक फातमी के साथ मुलाकात कर कई अहम श्रेत्रीय मुद्दों पर चर्चा की । इस अवसर पर उन्हाेंने एक बार फिर यह बात दाेहराई कि भारत और पाकिस्तान के बीच कश्मीर समेत तमात विवादों को सुलझाने तथा बेहतर रिश्ते कायम करने के लिए बातचीत ही एक मात्र रास्ता है । अमेरिका द्वारा अफगानिस्तान में इस्लामिक स्टेट के आतंकवादी ठिकानों पर सबसे बड़ा गैर परमाणु बम गिराए जाने के बाद हो रही श्री मैकमास्टर की इस यात्रा को लेकर ऐसी संभावना जतायी जा रही है कि भारत और पाकिस्तान के बीच उपजे विवादों को सुलझाने में अमेरिका संभवत: मध्यस्थ की भूमिका निभाने का इरादा रखता है ।

Share on Google Plus

About आर्यावर्त डेस्क

एक टिप्पणी भेजें
loading...