जमीन घोटाले के आरोपों का लालू पास कोई जवाब नहीं : सुशील मोदी

lalu-have-no-answer-in-land-scam
पटना 21 अप्रैल, बिहार भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) विधानमंडल दल के नेता एवं पूर्व उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने कथित जमीन घोटाले के आरोपों पर राष्ट्रीय जनता दल (राजद) अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव की चुप्पी को लेकर सवाल खड़े करते हुये आज कहा कि इससे यह साबित होता है उनकी ओर से लगाये गये आरोपों का श्री यादव के पास कोई जवाब नहीं है। श्री मोदी ने यहां सवालिया लहजे में कहा कि वर्ष 2008 में रेलवे के रांची एवं पुरी स्थित दो होटल के बदले तत्कालीन रेलमंत्री लालू प्रसाद यादव के करीबी माने जाने वाले राजद के सांसद प्रेमचंद गुप्ता की कंपनी डिलाइट मार्केटिंग को कारोबारी हर्ष कोचर द्वारा लिखी गई राजधानी पटना की 200 करोड़ रुपये मूल्य की दो एकड़ जमीन और इस जमीन पर बनने वाले बिहार के सबसे बड़े शॉपिंग मॉल के खुलासे के बावजूद श्री यादव ने चुप्पी क्यों साध ली है। भाजपा नेता ने कहा आज तक राजद अध्यक्ष यह क्यों नहीं बता पा रहे हैं कि आखिर श्री गुप्ता ने 200 करोड़ रुपये की जमीन के साथ अपनी कंपनी डिलाइट मार्केटिंग भी श्री यादव के परिवार को क्यों सौंप दी। 


पूर्व उप मुख्यमंत्री ने कथित जमीन घोटाले को लेकर लालू परिवार के खिलाफ लगातार जारी हमले को जारी रखते हुये कहा कि श्री यादव ने रेल मंत्री बनने के चार महीने के भीतर ही रेलवे बोर्ड से रांची एवं पुरी के दो होटलों को लीज पर देने का फैसला क्यों कराया। उन्होंने कहा कि बोर्ड के निर्णय के चार महीने के अंदर ही हर्ष कोचर ने प्रेमचंद गुप्ता की कम्पनी डिलाइट मार्केटिंग को पटना में दो एकड़ जमीन रजिस्ट्री क्यों कर दी। श्री मोदी ने कहा कि आखिर प्रेमचन्द गुप्ता की पत्नी सरला गुप्ता एवं पुत्र गौरव गुप्ता डिलाइट मार्केटिंग में अपने सारे शेयर और निदेशक पद को छोड़कर अपनी कम्पनी जमीन सहित लालू परिवार को क्यों सौंप दी। उन्होंने कहा कि आखिर नोटबंदी के ठीक चार दिन बाद ही 12 नवम्बर 2016 को डिलाइट मार्केटिंग कम्पनी का नाम बदल कर लारा (ला-लालू, रा-राबड़ी) प्रोजेक्टस प्राइवेट लिमिटेड क्यों कर दिया गया। भाजपा नेता ने कहा कि क्या आज उसी जमीन पर लालू परिवार का बिहार का सबसे बड़ा मॉल (करीब 5 लाख वर्गफुट) का निर्माण सुरसंड से राजद विधायक सैयद अब्दुल दोजाना की कम्पनी मेरिडियन कंस्ट्रक्शन नहीं करा रही है। 
Share on Google Plus

About आर्यावर्त डेस्क

एक टिप्पणी भेजें
loading...