परमाणु समझौते को लेकर अमेरिका और ईरान ने लगाए एक दूसरे पर आरोप

us-iran-trade-barbs-over-landmark-2015-nuclear-deal
बेरूत/वाशिंगटन, 21 अप्रैल, ईरान और अमेरिका ने 2015 में हुए ऐतिहासिक परमाणु समझौते को लेकर एक दूसरे पर उसकी शर्तों का पालन नहीं करने का आरोप लगाया है। अमेरिका ने ईरान पर परमाणु समझौते के नियमों का पालन नहीं करने का आरोप लगाया है जबकि ईरान के वरिष्ठ राजनयिक ने अमेरिका को समझौते के तहत किए गए वादों को पूरा करने के लिए कहा है। दोनों देशों के बीच ऐतिहासिक परमाणु समझौते को लेकर शुरू हुआ यह आरोप-प्रत्यारोप का दौर अमेरिकी विदेश मंत्री रेक्स टिलरसन की ओर से ईरान पर से अंतरराष्ट्रीय आर्थिक प्रतिबंध हटाए जाने के कदमों की समीक्षा के बारे में कांग्रेस को एक पत्र के माध्यम से सूचित किए जाने के बाद आया है। श्री टिलरसन ने अपने पत्र में कहा कि ईरान समझौते के दायरे में परमाणु कार्यक्रमों पर तो अमल कर रहा है लेकिन कई माध्यमों के जरिए ‘प्रायोजित आतंकवाद’ में उसकी भूमिका अहम है जिस पर चर्चा की आवश्यकता है और इसे नजरअंदाज नहीं किया जा सकता। गौरतलब है कि वियाना में जुलाई 2015 में तेहरान और छह विश्व शक्तियों के बीच हुए ऐतिहासिक परमाणु समझौते के अनुरूप प्रतिबंध संबंधित कदम उठाया गया था। श्री ट्रम्प ने इस समझौते को सबसे बुरा करार दिया था। ईरान के विदेश मंत्री मोेहम्मद जावेद जरीफ ने ट्वीट कर कहा कि अमेरिका को परमाणु समझौते के तहत किए गए अपने वायदों को पूरा करना चाहिए। इससे पहले अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने राष्ट्रीय सुरक्षा एजेंसी को यह जांच करने का आदेश दिया था कि ‘समग्र संयुक्त कार्ययोजना’ (जेसीपीओए) के तहत ईरान पर से हटाए गये प्रतिबंध देश की सुरक्षा के हित में हैं अथवा नहीं।

Share on Google Plus

About आर्यावर्त डेस्क

एक टिप्पणी भेजें
loading...