विदिशा (मध्यप्रदेश) की खबर 20 अप्रैल

दिव्यांगजनों हेतु परिचय सम्मेलनों का आयोजन 

विवाह योग्य निःशक्तजनों के लिए परिचय सम्मेलनोें का आयोजन जिले की सभी जनपद पंचायतों एवं निकायों के एक साथ तिथिवार आयोजित की जाएगी। मुख्यमंत्री कन्या विवाह योजनांतर्गत निःशक्तजनों के विवाह हेतु आयोजित होने वाले परिचय सम्मेलन की तिथियांे के संबंध में जिला पंचायत सीईओ श्री दीपक आर्य ने बताया कि 26 अपै्रल को सिरांेज एवं लटेरी में, 27 अपै्रल को बासौदा एवं कुरवाई में तथा 28 अपै्रल को नटेरन, शमशाबाद और ग्यारसपुर में, जबकि 29 अपै्रल को विदिशा में निःशक्तजनों का परिचय सम्मेलन आयोजित किया गया है।


आर्थिक मदद जारी 

कलेक्टर श्री अनिल सुचारी ने दो प्रकरणों में आर्थिक मदद के आदेश जारी कर दिए हैै। ट्रिनिटी स्कूल के सामने ज्ञात वाहन से टक्कर हो जाने पर उदयनगर काॅलोनी निवासी श्री प्रमोद कुमार क्षिरे घायल हो गए थे। उन्हें साढे बारह हजार रूपए की आर्थिक मदद जारी की गई है। ग्राम खेजडा अहमदपुर की श्री रामवती बाई कृषि कार्यो के दौरान आंशिक अपंग होने पर मुख्यमंत्री कृषक जीवन कल्याण योजना के तहत पीड़िता को साढे सात हजार रूपए की आर्थिक सहायता जारी की गई है। 

युगपुरूष महात्मा के महात्मा नाटक का मंचन 24 को

संस्कृति विभाग के सौजन्य से विदिशा जिला मुख्यालय पर युग पुरूष महात्मा के महात्मा नाटक का मंचन 24 अपै्रल को किया जाएगा। उक्त नाटक का मंचन जालोरी गार्डन में सायं साढे सात बजे से शुरू होगा। श्रीमद् राजचंद्र मिशन धरमपुर संस्थान के कलाकारों द्वारा राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के जीवन पर आधारित युग पुरूष महात्मा के महात्मा की प्रस्तुति प्रस्तुत की जाएगी। उक्त नाटक का निर्देशन श्री राजेश सोनी, लेखन श्री उत्तम गडा एवं संगीत श्री सचीन-जिगर का होगा।

कृषि रथ इन गांवो में पहुुंचेगे आज

किसानों को कृषि क्षेत्र में हुए नवाचार से अवगत कराने और उनकी कृषि संबंधी समस्याओ के निदान हेतु कृषि महोत्सव के दौरान कृषि क्रांति रथ जिले के सभी विकासखण्डों के ग्रामों में भ्रमण जारी है। किसान कल्याण तथा कृषि विकास विभाग के उप संचालक श्री पीके चैकसे ने बताया कि प्रत्येक विकासखण्ड में दो-दो कृषि रथ भ्रमण कर रहे है। 21 अपै्रल शुक्रवार को विदिशा में दल क्रमांक-एक ग्राम मूडरापरसूखेडी, देहरी, ठर्र एवं दल क्रमांक -दो ग्राम सुल्तनिया, अहमदानगर, शेरपुर में पहुंचेगें। इसी प्रकार ग्यारसपुर में दल क्रमांक-एक ग्राम नौरजा, हैदरगढ़ दल क्रमांक-दो ऐरन, इकोदिया ग्राम बासौदा में मसूदपुर, अरनोट एवं बारोद एवं सिरनोटा में, नटेरन के पीपलधार,धोबीखेडा एवं नानकपुर, सोमवारा ग्राम, सिरोंज के ग्राम पैकोली, असीरगढ़, घटोली एवं बगरोदा, लटेरी में ग्राम गोपालपुर, दनवास, उनारसीकलां एवं जरसेना, इसी प्रकार कुरवाई विकासखण्ड के ग्राम शहरवासा, कोसी, मेहलुआ, विशनपुर और रोशन पिपरिया ग्राम में पहंुचेगा।

समय पर सेवाएं दें-कलेक्टर, सिविल सेवा दिवस पर कार्यशाला 

vidisha news
सिविल सेवा दिवस पर आज एक दिवसीय कार्यशाला का आयोजन कलेक्टेªट के सभाकक्ष में किया गया था जिसमें शासकीय सेवाएं आमजनों को कैसे बेहतर दें पर गहन विचार विमर्श हुआ। कलेक्टर श्री अनिल सुचारी ने अधिकारियों के लिए आहूत सिविल सेवा दिवस कार्यशाला में कहा कि नागरिकों को हम कैसे बेहतर सेवाएं देें पर आत्मचिन्तन कर उसमें सुधार करते हुए क्रियान्वयन करें। उन्होंने अधिकारियों से कहा कि शासन का जो दायित्व उनके द्वारा निर्वहन किया जाना है उसे वे अपने बेहतर व्यवहार से अच्छी सेवाओं में पर्णित कर सकते है। उन्होंने बताया कि सिविल सेवा दिवस की शुरूआत अंग्रेजों के समय से हुई है जिसका मुख्य उद्वेश्य आमजनों के हितों के कार्य सुगमता, सरलता और त्वरित हो सकें इसके लिए नवाचार हर स्तर पर किए गए है। कलेक्टर श्री सुचारी ने अधिकारियों से कहा कि वे अपने शासकीय कार्यो के प्रति वफादार होकर जिम्मेदारी से समय सीमा में निर्वहन करंे जिससे आमजनों के बीच उनकी लोकप्रियता स्वंयमेव प्रतिपादित होने लगती है। प्रायः देखने में आया है कि शिकायतकर्ता हो हम अपना दुश्मन मानने लगते है यही से खटांस की शुरूआत होती है। उन्होंने शिकायतकर्ता के प्रति मित्रवर व्यवहार करने की सीख देते हुए कहा कि सदाचार, नम्र व्यवहार से कार्यो में विलम्ब होने पर भी आमजनों में आक्रोश नही पनपता है। उन्हांेने कार्यालयों में आने वाले आमजनों की बाते धैर्यतापूर्वक सुनने पर बल देते हुए कहा कि जो काम हो सकते है उसे शीघ्र करें। विभागीय क्षमताओं से बाहर के काम हो तो आवेदकों को धैर्यतापूर्वक समझाएं और उन्हें यह बताएं कि उनका कार्य किस विभाग से हो सकता है। कलेक्टर श्री सुचारी ने कहा कि पदीय दायित्व का निर्वहन हम निस्वार्थ भावना से कर अच्छी सेवाएं देने वालो की श्रेणी में शामिल हो सकते है कि ओर मनन करें। पुलिस अधीक्षक श्री धर्मेन्द्र चैधरी ने अधिकारियों को स्मरण कराया कि हमारी सेवाएं जनता के लिए है इस बात से हम भटके ना। आमजनों के काम हम त्वरित करते है तो आत्म संतुष्टि आनंद की अनुभूति होती है। उन्होंने सीसीटीव्ही केमरों की उपयोगिता एवं महत्वता को विस्तार से रेखांकित किया। वन संरक्षक श्री रविन्द्र सक्सेना ने आनंद प्राप्ति के लिए स्वस्थ मन का होना अतिआवश्यक बताते हुए कहा कि मन तन से जुडा है और तन, वन एवं पर्यावरण से, विकास और वन एक दूसरी की धूरि है। विकास चहुंओर हो रहा है उस अनुपात में वनोक्षेत्र की परिधि नही बढ़ रही है। उन्होंने कहा कि मानव जीवन को पेड सदैव देने का काम करते है अतः हमारा भी नैतिक दायित्व है कि हम पेडो की रक्षा करें और उनकी वृद्वि के लिए सफल प्रयास करें।अपर कलेक्टर श्री एचपी वर्मा ने कहा कि हम अच्छी सेवाएं समय अवधि में देकर हर रोज सिविल डे मना सकते है। अधिकारो के लिए हम लड़ते है किन्तु हम अपने कर्तव्य और दायित्व में ढीला रवैया अपनाने लगते है। उन्होंने कहा कि शासकीय प्रक्रिया में हर पद का अपना अलग महत्व है। टीमवर्क की भावना से किए जाने वाले कार्यो से आमजनो को त्वरित लाभ मिलता है वही विभाग की छवि में भी सुधार दिखता है। उन्होंने कहा कि हम पद से सुशोभित ना हो बल्कि पद हम से सुशोभित हो ऐसा नम्र व्यवहार कर हम आमजनों के दिलोें-दिमाग में अपना स्थान बना सकते है। एसडीएम श्री आरपी अहिरवार ने आनंद संस्थान के उद्वेश्यों को प्रतिपादित किया वही बृजेश शिवहरे ने कुपोषण की सबसे बड़ी जड़ जागरूकता नही होना बताया। श्रीमती ऊषा गुप्ता ने लिंग भेद की परीपाटी नही अपनाने का आव्हान किया। कार्यक्रम को लीड बैंक आफीसर, लोक स्वास्थ्य विभाग के कार्यपालन यंत्री ने भी सम्बोधित किया। कार्यक्रम का सफल संचालन श्री भूपेश गुप्ता ने किया। कार्यशाला में समस्त विभागों के अधिकारी मौजूद थे। सिविल सर्विस डे के दूसरे दिन अर्थात 21 अपै्रल की प्रातः11 बजे से प्रधानमंत्री का उद्बोधन कलेक्टेªट के सभाकक्ष में लाइव प्रसारण किया जाएगा। कलेक्टर ने जिलाधिकारियों से कहा कि वे समय पर उपस्थित होना सुनिश्चित करें।

Share on Google Plus

About आर्यावर्त डेस्क

एक टिप्पणी भेजें
loading...