जीएसटी से दवाईयां, स्‍मार्टफोन, चिकित्‍सा उपकरण होंगे सस्ते

after-gst-medicines-smartphones-medical-devices-become-cheaper
नयी दिल्ली 23 मई, देश में एक राष्ट्र एक कर की परिकल्पना पर आधारित वस्‍तु एवं सेवा कर (जीएसटी) के लागू होने पर सीमेंट, दवाईयों, स्मार्टफोन और सर्जिकल उपकरणों जैसी विभिन्‍न वस्‍तुओं पर कर दर घटने से ये सस्ते हो सकते हैं, सीमेंट पर केंद्रीय उत्‍पाद शुल्‍क 12.5 प्रतिशत और 125 रूपये पीएमटी तथा 14.5 प्रतिशत की दर से वैट लगता है, इन दरों पर कुल वर्तमान कर 29 प्रतिशत से अधिक है। अगर इसमें केंद्रीय बिक्री कर (सीएसटी), चुंगी शुल्‍क, प्रवेश कर आदि जोड़े तो तो यह 31 प्रतिशत से अधिक होता है जबकि जीएसटी में यह कुल मिलाकर 28 प्रतिशत है। आयुर्वेदिक, यूनानी, सिद्धा, होम्‍योपैथिक या जैव रसायन सहित दवाईयों के मामले में भी कर का बोझ कम होगा। आम तौर पर दवाईयों पर छह प्रतिशत केंद्रीय उत्‍पाद शुल्‍क और 5 प्रतिशत वैट लगता है। इनके अलावा दवाईयों पर केन्द्रीय विक्रय कर (सीएसटी), चुंगी, प्रवेश कर आदि भी लगते हैं। इन दरों पर वर्तमान कुल कर 13 प्रतिशत से अधिक है। इसके विपरीत आयुर्वेदिक औषधियों सहित दवाईयों पर प्रस्‍तावित जीएसटी दर 12 प्रतिशत है। स्‍मार्टफोन पर अभी दो 2 प्रतिशत केंद्रीय उत्‍पाद शुल्‍क (1 प्रतिशत उत्‍पाद शुल्‍क और 1 प्रतिशत राष्‍ट्रीय आपदा दस्‍ता शुल्‍क -एनसीसीडी) लगता है। अलग अलग राज्‍यों में वैट दर 5 प्रतिशत से 15 प्रतिशत है। स्‍मार्टफोन पर औसत वैट दर लगभग 12 प्रतिशत है। इस प्रकार इस पर अभी कुल कर 13.5 प्रतिशत से अधिक है। इसके विपरीत जीएसटी में स्‍मार्टफोन पर कर दर 12 प्रतिशत है। इसी तरह सर्जिकल उपकरणों सहित चिकित्‍सीय उपकरणों पर आमतौर पर 6 प्रतिशत केंद्रीय उत्‍पाद शुल्‍क और 5 प्रतिशत वैट लगता है। सीएसटी, चुंगी ,प्रवेश कर आदि के साथ कुल वर्तमान कर 13 प्रतिशत से अधिक है। इसके विपरीत जीएसटी के तहत प्र‍स्‍तावित दर 12 प्रतिशत है।

Share on Google Plus

About आर्यावर्त डेस्क

एक टिप्पणी भेजें
loading...