बंगाल में भाजपा लगायेगी पूरा ज़ोर, कश्मीर घाटी को सूना छोड़ा

bjp-focus-on-bangal
नयी दिल्ली 24 मई, भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) मोदी सरकार के तीन साल पूरा होने के मौके पर सर्वाधिक कार्यक्रम पश्चिम बंगाल में करेगी जहां दो मुख्यमंत्रियों एवं पांच केन्द्रीय मंत्रियों सहित 26 बड़े नेता 60 से अधिक कार्यक्रमों में भाग लेंगे लेकिन कश्मीर घाटी में कोई केन्द्रीय नेता भेजने की फिलहाल कोई योजना नहीं बनायी गयी है। भाजपा ने 27 मई से 15 जून के बीच पश्चिम बंगाल में दो मुख्यमंत्रियों, पांच केन्द्रीय मंत्रियों, उत्तर प्रदेश के पांच मंत्रियों, झारखंड के चार मंत्रियों और छत्तीसगढ़ के एक मंत्री, पांच सांसदों, और पार्टी के चार राष्ट्रीय पदाधिकारियों को भेजने का फैसला किया है। पार्टी सूत्रों के अनुसार छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री रमन सिंह, झारखंड के मुख्यमंत्री रघुबर दास, केन्द्रीय मंत्री अनंत कुमार, स्मृति ईरानी, नरेन्द्र सिंह तोमर, सुरेश प्रभु एवं संतोष गंगवार, उत्तर प्रदेश के मंत्री सिद्धार्थनाथ सिंह, रीता बहुगुणा जोशी, महेन्द्र सिंह, एस पी सिंह बघेल एवं सुरेश राणा, झारखंड के मंत्री नीलकंठ मुंडा, सी पी सिंह, सरयू राय एवं रणधीर कुमार, छत्तीसगढ़ के मंत्री बृजमोहन अग्रवाल, सांसद रामेश्वर तेली, कामाख्या प्रसाद, अजय निषाद, सुनील सिंह एवं मनोज तिवारी तथा राष्ट्रीय पदाधिकारियों में महासचिव कैलाश विजयवर्गीय, सचिव राहुल सिन्हा, सुरेश पुजारी और पूर्व केन्द्रीय मंत्री सैयद शाहनवाज हुसैन पश्चिम बंगाल में कार्यक्रमों में भाग लेंगे। जम्मू कश्मीर के बारे में पूछे जाने पर सूत्रों ने कहा कि उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत, राष्ट्रीय उपाध्यक्ष अविनाश राय खन्ना और केन्द्रीय राज्य मंत्री अजय टम्टा जम्मू कश्मीर जायेंगे। उनके कार्यक्रम स्थलों के बारे में प्रदेश इकाई फैसला करेगी। कश्मीर घाटी के बारे में पूछे जाने पर सूत्रों ने स्वीकार किया कि घाटी के जिलों के बारे में अभी तक कोई कार्यक्रम नहीं है। हालांकि प्रदेश इकाई से परामर्श करके वहां भी कार्यक्रम तय किया जायेगा। उल्लेखनीय है कि पार्टी ने सोमवार को एक संवाददाता सम्मेलन में मोदी सरकार के तीन साल पूरे होने के मौके पर देशभर में सभी जिलों में पहुंचने और 900 से अधिक कार्यक्रम करने की घोषणा की थी।

Share on Google Plus

About आर्यावर्त डेस्क

एक टिप्पणी भेजें
loading...