लालू के साथ भाजपा नेताओं की संपत्ति की भी हो जांच : पप्‍पू यादव

bjp-leader-alongwith-lalu-should-investigate-pappu-yadav
पटना 22 मई, जन अधिकार पार्टी (लो) के राष्‍ट्रीय संरक्षक सह सांसद पप्‍पू यादव ने राष्ट्रीय जनता दल (राजद) अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव के साथ ही भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के प्रदेश नेताओं की संपत्ति की जांच की मांग की है। श्री यादव ने आज यहां पत्रकारों से बातचीत में राजद अध्यक्ष और भाजपा के वरिष्ठ नेता सुशील कुमार मोदी पर जम कर निशाना साधा। उन्होंने कहा, “ राजद सुप्रीमों देश में भ्रष्‍टाचार को अलग तरह से परिभाषित करना चाहते हैं। उनके हिसाब से ‘उसने लूटा तो हमने लूटा’ की परिपाटी शुरू की गई है, जो जनतंत्र के लिए खतरनाक है। अकूत बेनामी संपत्ति की जांच के बदले राजद अध्यक्ष बड़ा चोर – छोटा चोर, बड़ा बेईमान – छोटा बेईमान का चलन शुरू कर बचने की कोशिश कर रहे हैं।” सांसद ने लालू यादव पर अपने परिवार को बचाने का अरोप लगाते हुए कहा कि जब शहाबुद्दीन पर आरोप लगा, तब उन्हें कोई फर्क नहीं पड़ा। उन्होंने खुद ही अपनी पार्टी के पूर्व सांसद अली अशरफ फातमी पर दस करोड़ में बिकने की बात कही थी। इसी तरह जब राजद सांसद तसलीमुद्दीन पर आरोप लगे, तो भी वे मौन ही रहे।


जाप संरक्षक ने भाजपा विधानमंडल दल के नेता और राज्य के पूर्व उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी को भी निशाने पर लेते हुए कहा कि सिर्फ लालू यादव को ही निशाना क्‍यों बनाया जा रहा है। आखिर भाजपा के लोगों के अकूत संपत्ति की जांच क्‍यों नहीं चाहिए। भाजपा नेताओं ने राजधानी पटना में बड़े – बड़े शो रूम कैसे खोले। उन्होंने सवालिया लहजे में कहा कि सहरसा, सुपौल में भाजपा विधायक के अकूत संपत्ति पर आखिर सुशील मोदी क्‍यों चुप हैं। श्री यादव ने बेनामी संपत्ति के खिलाफ पार्टी की लड़ाई का जिक्र करते हुए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से बेनामी संपत्ति रखने वाले सभी सांसद, विधायक, अधिकारी की संपत्ति की जांच की मांग की। उन्‍होंने कहा कि अनंत सिंह, सूरजभान सिंह, संजय सारवगी, ललित चौधरी, हुलास पांडेय, धूमल सिंह आदि लोगों की संपत्ति की जांच मुख्ममंत्री निगरानी से क्‍यों नहीं करा लेते हैं। श्री यादव ने भ्रष्‍टाचार को लोकतंत्र का सबसे बड़ा दुश्‍मन बताया और कहा कि उग्रवाद, आतंकवाद और नक्सलवाद से जितने लोगों की मौत नहीं होती, उससे कई गुना ज्‍यादा लोग भ्रष्‍टाचारियों के भेंट चढ़ जाते हैं। जब उग्रवादी, आतंकवादी और नक्सलवादियों पर कार्रवाई हो सकती है तो भ्रष्‍टाचारियों पर क्‍यों नहीं। उन्होंने भ्रष्टाचार के खिलाफ कड़ा कानून बनाने की मांग की। जाप नेता ने 27 अगस्‍त को पटना में होने वाली राजद की रैली पर तंज कसते हुए कहा कि यह देश बचाओ नहीं, बल्कि परिवार बचाओ और लूट का धन खपाओ रैली है। उन्‍होंने मुख्‍यमंत्री से राजद की रैली में शामिल होने को लेकर स्थिति स्पष्ट करने को कहा है। 

Share on Google Plus

About आर्यावर्त डेस्क

एक टिप्पणी भेजें
loading...