मेजर गोगोई ने वाहन से व्यक्ति को बांधने के कदम का किया बचाव

major-gogoi-defends-the-step-to-bind-the-person-in-front-of-the-vehicle
नयी दिल्ली 23 मई, पत्थरबाजों से बचाव के लिए एक व्यक्ति को मानव सुरक्षा कवच के तौर पर इस्तेमाल करने के लिए सेना के वाहन से बांधने के बाद विवादों में आये मेजर लीतुल गोगोई ने आज अपने इस कदम का बचाव करते हुए कहा कि उन्होंने कुछ भी गलत नहीं किया और बिना गोली चलाये कई जिंदगी बचा ली । मेजर गोगोई ने एक समाचार चैनल से कहा, ‘ मैं डरता नहीं हूं । मैने कुछ भी गलत नहीं किया । यह मेरे ,मेरी संस्था और मेरे देश के लिए गलत नहीं था । मैंने अपना और कई नागरिकों का जीवन बचा लिया । इससे कोई बडा नुकसान नहीं हुआ । मेरे हिसाब से मैंने किसी बात का उल्लंघन नहीं किया । ’ मेजर ने कहा ‘ हम यहां लोगों की मदद के लिए हैं । सेना यहां उन लोगों से आम लोगों की रक्षा के लिए है जो हथियारों से लैस हैं और देश के खिलाफ लड रहे हैं । मेरा अपने सभी कनिष्ठ जवानों को यह संदेश है कि यदि आपका इरादा नेक है तो आपको कुछ नहीं होगा । ऐसे संकट के समय में हमारे वरिष्ठ आपके साथ हैं । सकारात्मक रहिये और कठिन परिश्रम करें । चीजें ठीक हो जाएंगी । ’ मेजर गोगोई ने कहा जब एक व्यक्ति को बांधने वाला वीडियो वायरल होेने पर विवाद खडा हुआ तो यह उनके लिए कठिन समय था । हालांकि यह पहले से सोचा -समझा फैसला नहीं था । ' अपने कदम का बचाव करते हुए उन्हाेंने कहा ,‘ उन्हें यह बात समझनी चाहिए यदि मैं फायरिंग करता तो क्या होता । ’ उन्होंने कहा कि जम्मू कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री फारूक अब्दुल्ला की टिप्पणियों से उन्हें कोई फर्क नहीं पडता । हो सकता हो उन्होंने अपमानित महसूस किया हो । लेकिन यदि वह या कोई और मेरे स्थान पर होता तो क्या करता। श्रीनगर लोकसभा सीट के उपचुनाव के दौरान नौ अप्रैल को एक व्यक्ति को वाहन से बांधने का वीडियो वायरल होने के बाद मेजर गोगोई को आलोचनाओं का सामना करना पडा था । इसकी चौतरफा आलोचना होने के बाद सेना ने जांच के आदेश दिये थे । मेजर गोगोई को कल सेना प्रमुख के ‘प्रशस्ति पत्र से सम्मानित किया गया । सैन्य सूत्रों ने बताया कि जम्मू कश्मीर में आतंकवाद के विरूद्ध सतत प्रयास के लिए उन्हें यह सम्मान दिया गया है ।

Share on Google Plus

About आर्यावर्त डेस्क

एक टिप्पणी भेजें
loading...