राजीव गांधी चैरिटेबल से पूछा सरकारी जमीन पर कैसे चला रहे हैं महिला प्रशिक्षण केन्द्र?

question-to-rajivgandhi-charitable-trust
रायबरेली :उत्तर प्रदेश:, 12 मई, कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी की अध्यक्षता वाले राजीव गांधी चैरिटेबल ट्रस्ट को एक नोटिस जारी करके सरकारी जमीन पर महिला प्रशिक्षण केन्द्र चलाने के आधार के बारे में पूछा गया है। अमेठी की तिलोई तहसील के उपजिलाधिकारी अशोक शुक्ल ने आज यहां बताया कि पहले भी कई नोटिस जारी होने के बाद उन्होंने भी गत 22 अप्रैल को राजीव गांधी चैरिटेबल ट्रस्ट को नोटिस जारी कर पूछा था कि किन अभिलेखों तथा किस आदेश पर वह सरकारी जमीन पर प्रशिक्षण केन्द्र चला रहा है? हालांकि 15 दिन का समय मांगने के बाद भी अब तक जवाब नहीं दिया गया। मालूम हो कि कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी इस ट्रस्ट की अध्यक्ष हैं, जबकि पार्टी उपाध्यक्ष राहुल गांधी इसके बोर्ड ऑफ ट्रस्टीज के सदस्य हैं। शुक्ल ने बताया कि वर्ष 1982 के आसपास जायस कस्बे में चकबंदी के दौरान कुछ जमीन गांव के लोगों के सार्वजनिक उपयोग के लिये सुरक्षित की गई थी। इस पर केवल सरकार का ही अधिकार है। यह तय होता था कि इसका सार्वजनिक उपयोग या बालिका विद्यालय खोलने, व्यवसायिक ट्रेनिंग के लिये किया जायेगा। उन्होंने बताया कि वर्तमान में इस जमीन पर 10 हजार 360 वर्ग मीटर क्षेत्र में राजीव गांधी चैरिटेबल ट्रस्ट के बैनर तले महिला प्रशिक्षण केन्द्र संचालित किया जा रहा है। प्रशासन जानना चाहता है कि किस आदेश और अभिलेख के आधार पर केन्द्र संचालन में सरकारी जमीन का इस्तेमाल किया जा रहा है।


शुक्ल ने बताया कि इससे पहले जिला विकास अधिकारी अमेठी ने नोटिस जारी कर जवाब मांगा था कि सरकारी प्रबन्धन की जमीन पर राजीव गांधी चैरिटेबल ट्रस्ट की पहुंच कैसे बनी, इसके अभिलेख उपलब्ध कराये जाएं, लेकिन कोई दस्तावेज मुहैया नहीं कराया गया। शुक्ल ने बताया कि उसके बाद मुख्य विकास अधिकारी ने नोटिस देकर जवाब मांगा तो भी कोई अभिलेख नहीं उपलब्ध कराये गये और एक माह का समय मांग लिया गया। ज्ञातव्य है कि राजीव गांधी चैरिटेबल ट्रस्ट का गठन वर्ष 2002 में हुआ था। इसके उद्देश्यों में देश के वंचित समाज, खासकर ग्रामीण गरीबों के विकास सम्बन्धी जरूरतों की पूर्ति में मदद करना शामिल है। यह ट्रस्ट इस समय राजीव गांधी महिला विकास परियोजना तथा इंदिरा गांधी आई हास्पिटल एण्ड रिसर्च सेंटर परियोजनाओं के तहत उत्तर प्रदेश तथा हरियाणा के बेहद पिछड़े इलाकों में काम कर रहा है। यह ट्रस्ट उत्तर प्रदेश के 42 जिलों में महिला सशक्तीकरण के लिये सक्रिय है।
Share on Google Plus

About आर्यावर्त डेस्क

एक टिप्पणी भेजें
loading...