विदिशा (मध्यप्रदेश) की खबर 29 मई

आपदा प्रबंधन, पूर्व तैयारियों की बैठक सम्पन्न

vidisha news
वर्षाकाल के दौरान जिले में किसी भी प्रकार की क्षति ना हो इसके लिए किए जाने वाले प्रबंधनों पर आज विचार विमर्श किया गया। कलेक्टर श्री अनिल सुचारी की अध्यक्षता में आहूत इस बैठक में अपर कलेक्टर श्री एचपी वर्मा, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक श्री विनोद सिंह चैहान, समस्त एसडीएम एवं विभिन्न विभागों के अधिकारी मौजूद थे। कलेक्टेªट सभाकक्ष में हुई इस बैठक में डिस्ट्रिक्ट कमाण्डेट होमगार्ड श्री सुनीत मिश्रा ने पावर प्रेजेन्टेशन के माध्यम से बाढ़ आपदा प्रबंधन पर आधारित महत्वपूर्ण जानकारियां एवं पूर्व तैयारियों और राहत बचाव के कार्यो को रेखांकित किया। उन्होंने कहा कि हर विभाग को अपनी-अपनी कार्ययोजना तैयार कर इसकी प्रति उपलब्ध कराने के निर्देश पूर्व में प्रसारित किए गए है जिसमें मुख्य रूप से नोड्ल अधिकारी एवं उसके सहायक का नाम एवं सम्पर्क नम्बर, बाढ़ आपदा प्रबंधन के संबंध में बचाव स्त्रोतों की जानकारी दी जानी है। उन्होंने कहा कि किसी प्रकार की बैठक समस्त एसडीएम अपने स्तर पर आहूत कर स्थानीय स्तर पर किए जाने वालीे प्रबंधनों की सूची संधारित करें। इस दौरान बाढ़ के प्रकार, बाढ़ से खतरा, बाढ़ के प्रभाव, बाढ़ के दुष्परिणामों को बढाने वाले कारक तैयार योजना, पूर्व चेतावनी तंत्र, निर्धारित स्थलों की तैयारियां, बाढ़ के पहले की तैयारी, आपातकालीन वस्तुएं, बाढ़ के दौरान त्वरित किए जाने वाले कार्य, प्रभावितों को राहत शिविरों में ठहराने के प्रबंध, बाढ़ संबंधी चेतावनी देने, चेतावनी के उपरांत किए जाने वाले कार्य, पानी में डूबे व्यक्ति की सहायता, बाढ़ के बाद सामान्य जनजीवन के संबंध में विस्तृत जानकारी दी गई। उन्होंने बताया कि प्रत्येक तहसील में विभाग के माध्यम से चार-चार गोताखोर, लाइफ जैकेट, नाव मुहैया कराई गई है। उन्होंने स्थानीय स्थलों के नवीने गोताखोरो की सूची तैयार कर एक प्रति होमगार्ड कार्यालय को उपलब्ध कराने का आग्रह किया बाढ़ पूर्व तैयारियों के संबंध में की जाने वाली कार्यवाही, बाढ़ के दौरान राहत एवं बचाव कार्यो की चेकलिस्ट भी सभी अधिकारियों को प्रदाय की गई। कलेक्टर श्री सुचारी ने कहा कि जिले में जो भी जलाश्य, नदियां है जिनके माध्यम से वर्षारूपी जल बस्तियों, शहर में भरता है का चिन्हांकन पूर्व में किया जा चुका है। इसके अलावा और नए क्षेत्रों में जलभराव की संभावना हो तो उसकी सूची तैयार की जाए।  वर्षाकाल के दौरान स्थानीय एसडीएम, तहसीलदार सतर्क रहें और जिला कार्यालय, राज्य के बाढ़ आपदा कंट्रोल रूम से सतत सम्पर्क बनाए रखें। बांधो का पानी छोड़ने से पूर्व संबंधित क्षेत्रों के रहवासियों को चेतावनी दी जाए। बाढ़ के दौरान किसी भी प्रकार से जनहानि ना हो के प्रबंध पूर्व में सुनिश्चित किए जाए। इसी प्रकार पशु हानि भी ना हो पुख्ता प्रबंध सुनिश्चित कराए जाने पर उन्होंने बल दिया। कलेक्टर श्री सुचारी ने कहा कि जिन विभागोें की सड़कों पर पुल-पुलिया है कि सूची तैयार की जाए और बाढ़ से प्रभावित होने वाली पुल-पुलियों पर बेरीकेट् लगाने और चैकीदार तैनात करने की जबावदेंही संबंधित विभाग की होगी। उन्होंने कहा कि जिस प्रकार जिला मुख्यालय पर कंट्रोल रूम का गठन किया जाता है ठीक वैसे ही तहसील स्तरों पर कार्यवाही की जाए। उन्होंने तहसीलों पर स्थापित वर्षामापी यंत्रो की जानकारियां प्राप्त की। उन्होंने कहा कि बाढ़ से प्रभावितों को जिन राहत शिविरों में रखा जाएगा की सूची पूर्व में तैयार करने और राहत शिविरों में तमाम बुनियादी आवश्यकताओं की पूर्ति कराए जाने के निर्देश दिए।कलेक्टर श्री सुचारी ने कहा कि भोपाल के जलाश्य, तालाबों से छोडा जाने वाला पानी जिले की नदियों के माध्यम से प्रवाहित होता है। इसलिए भोपाल के कंट्रोल रूम के नम्बरों से सतत सम्पर्क बनाए रखें। कि कब-कब पानी छोड़ा जाएगा। उन्होंने कहा कि अफवाहों पर ध्यान ना दें। क्षेत्र के कोटवारों सहित अन्य शासकीय अमले को प्रशिक्षित किया जाए और उनके सम्पर्क नम्बरों की सूची तैयार की जाए।



टीम गठन
आपदा प्रबंधन के तहत जिला मुख्यालय, तहसील, ग्राम पंचायत और ग्राम स्तर पर टीम गठित करने के निर्देश कलेक्टर द्वारा दिए गए। प्रत्येक टीम में पांच-पांच सदस्यों के अलावा स्थानीय गणमान्य नागरिकों को भी शामिल किया जाएगा। 

राहत शिविर
कलेक्टर श्री सुचारी ने कहा कि बाढ़ आपदा के दौरान प्रभावितों को जिन स्थलों, स्कूलों में रूकवाने की व्यवस्था की जाती है वहां पर्याप्त बुनियादी सुविधाएं पूर्व में ही ईजाद की जाए। 

अग्रिम राशि
कलेक्टर श्री सुचारी ने जिले के सभी तहसीलदारों को आपदाओं से त्वरित निपटान हेतु मोटर बोट के ईंधन हेतु पांच-पांच हजार रूपए अग्रिम देने के निर्देश दिए। 

उपकरणों का परीक्षण
कलेक्टर श्री सुचारी ने डिस्ट्रिक्ट होमगार्ड कमाण्डेट को निर्देश दिए कि बाढ़ से बचाव के उपयोग मंे लाई जाने वाली सामग्री की जांच पड़ताल पूर्व में कर ली जाए और आवश्यकतानुसार नई सामग्री क्रय करने की कार्यवाही की जाए। 

नोड्ल अधिकारी
पुलिस अधीक्षक श्री धर्मेन्द्र चैधरी ने कहा कि प्रत्येक विभाग के नोड्ल अधिकारी वर्षाकाल अवधि में सतत सम्पर्क में बने रहेंगे। आवश्यकता पड़ने पर अमले सहित बचाव राहत स्थल पर अविलम्ब पहुंचेगे। उन्होंने ऊर्जा विभाग और नगरपालिका की एक-एक टीम पुलिस थानों में समुचित उपकरणों सहित मौजूद रहेगी। 

आदर्श ग्रामोें में सभी विभागों के कार्य परलिक्षित हो-कलेक्टर

कलेक्टर श्री अनिल सुचारी ने आज लंबित आवेदनों की समीक्षा बैठक के दौरान कहा की प्रधानमंत्री आदर्श ग्राम, माॅडल पंचायत और मुख्यमंत्री द्वारा ग्राम पंचायत इमलिया को आदर्श ग्राम बनाए जाने की कि गई घोषणा के संबंध में सभी विभाग अपने विभागीय कार्य इन ग्रामों में करना सुनिश्चित करें। ज्ञातव्य हो कि प्रधानमंत्री आदर्श ग्राम योजना के तहत लटेरी के जालपुर, सिरोंज में हमीदपुर, नटेरन में रतनपुरचक्क, कुरवाई में वीरपुर और खिरियाबाडी, बासौदा में रजोदा और विदिशा में हिरनई गांव का चयन किया गया है। इसी प्रकार माॅडल पंचायत के तहत पठारी चिन्हांकित की गई है वही त्योंदा को सांसद आदर्श ग्राम योजना के तहत सांसद एवं राज्य विदेश मंत्री श्री एमजे अकबर के द्वारा गोद लिया गया है। कलेक्टर श्री सुचारी ने पूर्व उल्लेखित ग्रामों, ग्राम पंचायतों में कृषि, उद्यानिकी, मत्स्यपालन, पशुपालन समेत अन्य विभागों के अधिकारियों से कहा कि वे विभागीय हर योजना का क्रियान्वयन इन ग्रामों में अनिवार्यतः करें। 

सर्र्वे/पंजी
कलेक्टर श्री सुचारी ने हितग्राहीमूलक योजनाओं का क्रियान्वयन करने वाले विभागों के अधिकारियों से कहा कि पूर्व उल्लेखित ग्रामों में डोर-टू-डोर सर्वे कर हर विभाग पंजी संधारित करने का कार्य करेगा ताकि विभागीय योजनाओं से ग्राम के किन-किन हितग्राहियों को लाभांवित किया गया है कि जानकारी अविलम्ब प्रस्तुत की जा सकें। कलेक्टर श्री सुचारी ने निर्माण कार्यो को सम्पादित करने वाले विभागों के अधिकारियों से कहा कि वे स्वंय इन ग्रामों का भ्रमण कर ग्रामवासियों की आवश्यकता के अनुरूप कार्ययोजना तैयार कर निर्माण कार्यो को कराना सुनिश्चित करें। 



समीक्षा
कलेक्टर श्री सुचारी ने ग्रामोदय से भारत उदय अभियान के तहत विभिन्न विभागों को प्राप्त आवेदनों के निराकरण की भी इस दौरान समीक्षा की। उन्होंने कहा कि जिन-जिन विभागों के आवेदनों की संख्या पोर्टल पर दर्ज है उन आवेदनों के निराकरण की जानकारी प्रपत्र-चार में मंगलवार तक दर्ज कराना सुनिश्चित करें। आवेदन संबंधित जनपदों को लौटाएं जाने है ताकि विशेष ग्रामसभाएं जो 31 मई से नौ जून तक आयोजित की जाएगी। इन ग्रामसभाओं में आवेदकों को उनके आवेदन पर हुई कार्यवाही से अवगत कराया जाएगा। कलेक्टर श्री सुचारी ने कहा कि अभियान अवधि में ऐसे आवेदन जो पोर्टल पर दर्ज नही किए गए है उन आवेदनों का भी निराकरण इस दौरान किया जाए। 

हर शनिवार को बैठक
कलेक्टर श्री अनिल सुचारी ने बताया कि अब प्रत्येक शनिवार को प्रत्येक जनपदों के कार्यो की समीक्षा जिला मुख्यालय पर की जाएगी। बैठक में श्रम, कृषि, खनिज, आधार कार्ड, लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी, स्वास्थ्य विभाग, ऊर्जा विभाग के लंबित आवेदनों पर गहन समीक्षा की गई। इसके अलावा बैठक में जाति प्रमाण पत्र, सार्वजनिक वितरण प्रणाली की अद्यतन प्रगति की भी समीक्षा की गई। वही वरिष्ठ कार्यालयों के साथ-साथ मानव अधिकार आयोग, पीजी सेल, समाधान आॅन लाइन और जन शिकायत निवारण के प्राप्त आवेदनों और पेपर कंटिग पर अब तक संबंधित विभागों के अधिकारियों द्वारा की गई कार्यवाहियों की बिन्दुवार जानकारियां प्रस्तुत की गई।कलेक्टेªट के सभाकक्ष में हुई इस बैठक में जिला पंचायत सीईओ श्री दीपक आर्य, अपर कलेक्टर श्री एचपी वर्मा, एसडीएम श्री आरपी अहिरवार, डिप्टी कलेक्टर द्वय श्री मनोज कुमार वर्मा, श्री एके मांझी के अलावा समस्त विभागों के जिलाधिकारी मौजूद थे।

स्थानांतरण के आवेदन आॅन लाइन स्वीकार होंगे

इस वर्ष कर्मचारियों के स्थानांतरण हेतु आॅन लाइन आवेदन स्वीकार किए जाएंगे। इसके लिए ईजाद किए गए साफ्टवेयर एकीकृत वित्तीय प्रबंधन सूचना प्रणाली (आईएफएमआईएस) की कार्य प्रणाली की जानकारी पावर प्रेजेन्टेशन के माध्यम से जिला कोषालय के माध्यम से प्रस्तुत की गई। जिला कोषालय अधिकारी श्री एके परिहार ने बताया कि स्वंय के व्यय पर होने वाले स्थानांतरणों के मामलों में सभी विभाग प्रमुखों के द्वारा आॅन लाइन आवेदन ही स्वीकार किए जाएंगे। आवेदन प्रक्रिया के लिए कर्मचारियों को यूनिक कोड और पासवर्ड वितरित किए जा चुके है ऐसे कर्मचारी जो कम्प्यूटर का संचालन नही कर सकते है उनके आवेदन कार्यालय प्रमुख के द्वारा आॅन लाइन अग्रेषित किए जाएंगे। जिसमें संबंधित कर्मचारी का यूनिक कोड, पासवर्ड और चुनिंदा प्रथम तीन जगह का नाम अंकित करना अनिवार्य किया गया है।

पत्रकारवार्ता गुरूवार को

मतदाताओं के नाम मतदाता सूची में जोड़ने हेतु एक जुलाई से विशेष अभियान जिले में क्रियान्वित किया जाएगा। ततसंबंध में निर्वाचन आयोग द्वारा जारी कार्ययोजना एवं कैलेण्डर के अनुसार प्रेस कांफे्रस का आयोजन गुरूवार को किया गया है। कलेक्टर श्री अनिल सुचारी ने बताया कि एक जून को ततसंबंध में पत्रकारवार्ता का आयोजन कलेक्टेªट सभाकक्ष में दोपहर 12 बजे से किया गया है। कलेक्टर श्री सुचारी ने मीडियाकर्मियों से आग्रह किया कि वे पत्रकारवार्ता में शामिल होकर अपने बहुमूल्य सुझावों से अवगत कराएं।

मुख्यमंत्री जी ने उद्यानिकी फसलों का जायजा लिया

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चैहान आज अल्पप्रवास पर विदिशा आए। मुख्यमंत्री श्री चैहान ग्राम निमखिरिया एवं बैस नगर में स्थित अपने फार्म हाउस में पहुंचकर उद्यानिकी फसलों का जायजा लिया। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चैहान ने बैस नगर में स्थित अपने फार्म हाउस के पाॅली हाउस में लगे आर्किड के पौधो को देखा एवं पत्रकारो से चर्चा की। मुख्यमंत्री के साथ उनकी धर्मपत्नी श्रीमती साधना सिंह और पुत्र कार्तिकेय साथ मौजूद थे। 
Share on Google Plus

About आर्यावर्त डेस्क

एक टिप्पणी भेजें
loading...