गोरखालैंड आंदोलन. दार्जिलिंग हिल्स में 12 घंटे का बंद, सेना ने की गश्त

army-patrols-in-darj-apprehending-more-trouble-as-gjm-marches-with-3
दार्जिलिंग/सिलीगुड़ी 18 जून, पृथक गोरखालैंड की मांग को लेकर पिछले कुछ दिनों से अशांत दार्जिलिंग हिल्स और मैदानी इलाके डुआर्स एवं तेराई में आज 12 घंटे का बंद रहा। बंद के मद्देनजर सेना और पैरा-मिलिट्री बल ने समूचे दार्जिलिंग हिल्स में गश्त किया। इस बीच कोलकाता से प्राप्त रिपोर्ट के मुताबिक मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह को फोन पर दार्जिलिंग की मौजूदा स्थिति से अवगत कराया। उन्होंने दार्जिलिंग में स्थिति नियंत्रण करने के लिए और अधिक अर्द्धसैनिक बलों की मांग की। इससे पहले सुश्री बनर्जी ने कल आरोप लगाया था कि दार्जिलिंग की हिंसा पूर्व नियोजित एवं पूर्वोत्तर उग्रवाद से प्रेरित है , अन्यथा एक दिन में ही काफी संख्या में बम और हथियार नहीं पहुंच सकते। उन्होंने कहा, “ मैं अपनी जान देने के लिये तैयार हूं, लेकिन पश्चिम बंगाल का विभाजन करने की अनुमति नहीं दूंगी।” गोरखा जनमुक्ति मोर्चा(जीजेएम) ने सिंघनमाड़ी में कल कथित पुलिस फायरिंग के विरोध में 12 घंटे का बंद का आह्वान किया था।हालांकि मुख्यमंत्री और अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक अनुज शर्मा ने सिंघनबाड़ी में पुलिस फायरिंग की घटना से इंकार किया है। प्राप्त रिपोर्ट के मुताबिक संदिग्ध गोरखा समर्थकों ने कल रात जलढाका के समीप कुमानी वन कार्यालय में आग लगा दी तथा पुलिस के दो वाहनों में तोड़फोड़ की और जलढाका थाने में आग लगाने का प्रयास किया। जीजेएम के सहायक सचिव ने किसी अज्ञात स्थान से जारी एक बयान में कहा कि सिंघनबाड़ी में पुलिस फायरिंग में उनके तीन समर्थत सुनील राय, महेश गुरुंग और विमल शसंकार की माैत हो गयी जबकि 13 अन्य घायल हुये हैं। घायलों में दो की हालत गंभीर बनी हुई है। बहुत से घायलों को दक्षिणी सिक्किम स्थित नामची अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

Share on Google Plus

About आर्यावर्त डेस्क

एक टिप्पणी भेजें
loading...