जीएसटी समारोह का बहिष्कार करेगी कांग्रेस

congress-will-not-participate-in-gst-function
नयी दिल्ली 29 जून, कांग्रेस ने भारतीय जनता पार्टी पर प्रचार के लिए संसद के केन्द्रीय कक्ष का इस्तेमाल करने का आरोप लगाते हुए आज कहा कि वह कल आधी रात होने वाले वस्तु एवं सेवाकर (जीएसटी)समारोह का बहिष्कार करेगी। कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं गुलाम नबी आजाद तथा मल्लिकार्जुन खडगे ने आज यहां पार्टी मुख्यालय में संवाददाता सम्मेलन बताया कि पार्टी संसद के केन्द्रीय कक्ष में होने वाले जश्न का बहिष्कार करेगी। इस समारोह में पार्टी के वरिष्ठ नेता एवं पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को सरकार की ओर से मंच साझा करने के लिए आमंत्रित किया गया है। इन नेताओं ने कहा कि केन्द्रीय कक्ष में आधी रात को अब तक आजादी से जुड़े समारोहों का ही आयोजन किया जाता रहा है। पहली बार ऐसा आयोजन 1947 में किया गया था। उसके बाद 1972 में आजादी की रजत जयंती पर और फिर 1997 में आजादी की स्वर्ण जयंती पर आधी रात को कार्यक्रम आयोजित किया गया था। श्री आजाद ने कहा कि भाजपा ने आजादी के आंदोलन में हिस्सा नहीं लिया, इसलिए उसकी अहमियत का अंदाजा नहीं है। श्री खडगे ने कहा कि भाजपा ‘पब्लिसिटी मास्टर’ है और यह आयोजन भी वह प्रचार पाने के लिए ही कर रही है। उन्होंने कहा कि संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन सरकार ने जनता के फायदे के लिए सूचना का अधिकार, शिक्षा का अधिकार, खाद्य सुरक्षा तथा मनरेगा जैसे कई महत्वपूर्ण कदम उठाए लेकिन कभी भी आधी रात का समारोह आयोजित नहीं किया। जीएसटी का उत्सव मनाने की क्या जरूरत है। जीएसटी कानून में भविष्य में परिवर्तन भी हो सकता है। श्री आजाद ने कहा कि देश में दलितों, महिलाओं और अल्पसंख्यकों पर अत्याचार की घटनाएं हो रही हैं लेकिन उन पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, उनके मंत्री तथा भाजपा के मुख्यमंत्री चुप्पी साधे बैठे हैं। किसान आत्महत्या कर रहे हैं। अल्पसंख्यकों, दलितों की हत्याएं हो रही हैं लेकिन उन पर कुछ नहीं किया जा रहा है। यह सरकार बहरी बनी हुई है, उसे लोगों की चीख-पुकार नहीं सुनाई देती है। उन्होंने कहा कि कश्मीर से लेकर पूर्वोत्तर क्षेत्र तक हालात बिगड़ रहे हैं लेकिन सरकार का उस पर कोई ध्यान नहीं है। 

Share on Google Plus

About आर्यावर्त डेस्क

एक टिप्पणी भेजें
loading...