दुमका : फास्टट्रैक कोर्ट के द्वारा दोषियों को शीघ्र सजा मिलेगी।

  • ’राज्य में कानून का शासन सर्वोपरि। रामगढ़ व गिरिडीह में हुई घटना के दोषियों के खिलाफ कठोर कार्रवाई की जायेगी। किसी को भी कानून अपने हाथ में लेने का अधिकार नही-मुख्यमंत्री 

fast-track-court-punish-raghubar
दुमका (अमरेन्द्र सुमन/ बी बी सारस्वत) झारखण्ड के रामगढ़ व गिरिडीह में पिछले दिनों हुई घटना पर क्षोभ प्रकट करते हुए मुख्यमंत्री रघुवर दास ने दोषियों के विरुद्ध कठोर कार्रवाई करने का भरोसा दिलाया।  मुख्यमंत्री श्री दास ने  कहा कि पुलिस शीघ्रता व मुस्तैदी से दोषियों को पकड़े, ताकि फास्टट्रेक कोट के माध्यम से जल्द से जल्द दोषियों को सजा दिलायी जा सके। 30 जून 2017 को देवघर में कानून व्यवस्था पर मुख्यमंत्री रघुवर दास की अध्यक्षता में की गयी समीक्षा बैठक में इस अवसर पर राज्य की मुख्य सचिव राजबाला वर्मा, अपर मुख्य सचिव सह विकास आयुक्त अमित खरे, पुलिस महानिदेशक डी. के. पाण्डेय, प्रधान सचिव गृह एस के जी रहाटे, एडीजी अनुराग गुप्ता, आईजी आशीष बत्रा, आईजी सुमन गुप्ता, डीआईजी अखिलेश झा, एसपी देवघर बिजया लक्ष्मी व एसपी दुमका मयूर पटेल उपस्थित थे। पुलिस महानिदेशक डी के पाण्डेय ने कहा कि रामगढ़ की घटना में दोषी तेरह नामजदों में समाचार लिखे जाने तक एक की गिरफ्तारी कर ली गई है।  गिरिडीह की घटना के लिये कुल तेरह अभियुक्तों को गिरफ्तार किया जा चुका है। सीआईडी. सहित  चार  स्पेशल टीम बनाकर अपराधियों को पकड़ने की कार्रवाई की जा रही है।  मुख्यमंत्री ने कहा कि पशु रक्षा हो या कोई औेर बात, किसी को भी कानून अपने हाथ में लेने का अधिकार नहीं है। राज्य में कानून का शासन सर्वोपरि है। मुख्यमंत्री ने कहा कि यदि निचले स्तर पर प्रशासन में कमी दिखे तो शासन उनके विरूद्ध भी कड़ी कार्रवाई कर जनता में स्पष्ट संदेश दें। दोषी चाहें कोई भी हो बचना नहीं चाहिए। मुख्यमंत्री ने कहा कि ऐसी घटना की पुनरावृत्ति न हो इसे सुनिश्चित करें। उन्होंने कहा कि अलग-अलग थाना क्षेत्रों में  गाय या अन्य पशुओं की तस्करी की खबर की पुष्टि के बाद संबंधित थानेदार बर्खास्त कर दिये जायेंगे,  साथ ही संबंधित डीएसपी तथा अन्य उच्चअधिकारी भी कार्रवाई की जद् में होंगें। एसपी के विरूद्ध भी गोपनीय प्रवृष्टि करते हुए कार्रवाई की जायेगीे। मुख्यमंत्री ने स्पष्ट और कड़े शब्दों में कहा कि, यह कड़ी कार्रवाई का समय है। पूरे राज्य में गाय सहित पशु की तस्करी पूरी तरह से प्रतिबंधित रहेगी।  मुख्यमंत्री ने घोषणा करते हुए कहा कि 04 जुलाई, 2017 को अजीतानन्द ओझा को सरदार पंडा की गद्दी पर पारंपरिक रीति-रिवाज के साथ विराजमान किया जायेगा। देवनगरी में देवतुल्य व्यवस्था हो। देशभर के श्रद्धालु बाबाधाम से राज्य की अच्छी छवि लेकर घर जाएॅ। उन्होंने कहा कि साफ-सफाई लगातार हो, किन्तु रात 12 बजे से सुबह 6 बजे तक पूरा मेला क्षेत्र साफ-सुथरा हो। उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय स्तर पर मेला का प्रचार-प्रसार सूचना एवं जन-संपर्क विभाग की जिम्मेवारी होगी। मेला की ऐसी छवि बने कि देश के सर्वश्रेष्ठ आयोजनों में इसे एक माना जाय। मुख्यमंत्री श्री दास ने कहा कि श्रावणी मेला के दौरान 10 जुलाई से 7 अगस्त तक देवघर व बासुकिनाथ धाम मेला क्षेत्र में शराब की बिक्री व सेवन पूरी तरह प्रतिबन्धित रहेगा। गत वर्ष की तरह इस वर्ष भी मेला सफलतापूर्वक संचालित हो। चाहे सरकारी ंहों या गैर सरकारी सभी लोग सजग व सतर्क रहें। समीक्षा में प्राप्त सुझावों पर सभी सम्बद्ध विभाग संज्ञान लेकर प्रस्ताव तैयार करें। उन्होंने कहा कि टेंट सिटी में श्रद्धालुओं की आस्था को देखते हुए बिस्तर की जगह भूमि पर शयन व विश्राम हेतु दरी का उपयोग किया जायेगा। देवघर में पुनासी व चान्दन जलापूर्ति की योजना तैयार कर पेयजल की समस्या दूर की जायेगी। राज्य के मुख्य सचिव राजबाला वर्मा से कहा कि वे स्वयं पहल करते हुए जल संसााधन एवं नगर विकास की उच्चस्तरीय बैठक बुला कर इसे कार्यान्ववित करायें। बासुकिनाथ धाम में सैरात व मेला में दुकानों को लगाये जाने के बावत मुख्यमंत्री ने कहा कि दुकानों को व्यवस्थित करते हुये नये क्षेत्र में विधिवत मेला लगाया जाये। दुमका प्रशासन इसके लिये पहल करें। बासुकिनाथ धाम में भी सुविधाओं से युक्त अतिथि आवासन केन्द्र बनेगा। पर्यटन आवासन केन्द्र का भी विस्तार करें।

Share on Google Plus

About आर्यावर्त डेस्क

एक टिप्पणी भेजें
loading...