सिसोदिया से सीबीआई की पूछताछ पर राजनीति गर्मायी

heated-debate-over-questioning-of-sisodiya-by-cbi
नयी दिल्ली, 16जून, केन्द्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) की टीम द्वारा आज दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया से उनके घर में की गई पूछताछ को लेकर सत्ता पक्ष और विपक्ष के बीच आरोप-प्रत्यारोप का दौर शुरू हो गया है, आम आदमी पार्टी (आप) के नेता जहां इसे सीबीआई की छापेमारी बताते हुए मोदी सरकार पर निशाना साध रहे हैं, वहीं सीबीआई का कहना है कि यह कोई छापा नहीं था, बल्कि जांच के सिलसिले में की गई पूछताछ भर थी। सीबीआई की टीम आम आदमी पार्टी सरकार द्वारा ‘टाक टू एके’ के नाम से चलाये गये सोशल मीडिया अभियान में कथित अनियमितताआें से जुड़ी जांच के संबंध में पूछताछ के लिए श्री सिसोदिया के घर गई थी। इस अभियान को लेकर श्री सिसोदिया जांच के घेरे में हैं। दिल्ली के सतर्कता विभाग की शिकायत पर सीबीआई ने अभियान के संबंध में श्री सिसोदिया और दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येन्द्र जैन की पुत्री सौम्या जैन के खिलाफ जनवरी में प्राथमिक जांच का मामला दर्ज किया था। आज सीबीआई की टीम इसी जांच के संबंध में श्री सिसोदिया से कुछ पूछताछ के लिए उनके घर गई थी। आप ने इसे सीबीआई का छापा बताया है। श्री सिसोदिया के मीडिया सलाहकार अरुणोदय प्रकाश ने ट्वीट कर कहा, ‘‘उप मुख्यमंत्री के घर सीबीआई का छापा पड़ा है। सरकार ‘पिंजरे में बंद तोते’ का इस्तेमाल विरोधियों का मुंह बंद करने के लिए कर रही है। अगर वह यह समझ रही है कि इससे सिसोदिया भयभीत हो जाएंगे और स्कूलों के लिए काम करना बंद कर देंगे तो वे गलती कर रहे हैं, बहुत बड़ी गलती।’’ केजरीवाल सरकार के राजेश गौतम ने कहा कि केंद्र सरकार आप को परेशान करने में लगी है। वह इसके लिए सीबीआई का गलत इस्तेमाल कर रही है। अगर 'टॉक टू एके' के सिलसिले में पूछताछ की जा रही है, तो प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के संवाद कार्यक्रम 'मन की बात' की भी जांच होनी चाहिए। दूसरी ओर भारतीय जनता पार्टी के सांसद और पूर्व क्रिकेटर कीर्ति आजाद ने इस मामले में अप्रत्याशित रूप से आप का पक्ष लेते हुए कहा कि सीबीआई ने अक्टूबर 2015 में डीडीसीए में 400 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी का मामला दर्ज किया था। इसमें वित्त मंत्री अरुण जेटली भी जांच के घेरे में थे, लेकिन सीबीआई उस मामले को छोड़कर श्री सिसोदिया के यहां छापे मार रही है। केजरीवाल सरकार पर भ्रष्टाचार के कई आरोप लगा चुके दिल्ली के पूर्व मंत्री कपिल मिश्रा ने सीबीआई पूछताछ को सही ठहराते हुए कहा कि जांच एजेंसी अभी उप मुख्यमंत्री पर और कई मामलों में भी शिकंजा कस सकती है। इस बीच सीबीआई प्रवक्ता आर के गौड़ ने छापेमारी के अारोप से इन्कार करते हुए कहा है कि उसकी टीम छापा मारने नहीं, बल्कि श्री सिसोदिया से एक मामले से जुड़ी जांच के संबंध में कुछ स्पष्टीकरण लेने गई थी। उन्होंने स्पष्ट किया कि श्री सिसोदिया के घर पर न तो कोई छापा मारा गया है और न ही उनके घर की तलाशी ली गई है।

Share on Google Plus

About आर्यावर्त डेस्क

एक टिप्पणी भेजें
loading...