दुमका : अवैध पत्थर खनन से सड़क का हुआ बुरा हाल, इधर पत्थर माफिया हो रहे मालामाल

कादर पोखर में पप्पू खान, शेख मुर्तजा, निताई भण्डारी व कार्तिक गोराई।  गोसाईं पहाड़ी में महेन्द्र पोद्दार। कुलकुली डंगाल में रामजीत मंडल। लिपिपाड़ा में बैजनाथ मंडल।  रामजाम में सुरेश प्र0 साह द्वारा धड़ल्ले से जारी है अवैध पत्थर खनन का कार्य। गोसाई पहाड़ी में अवैध पत्थर खनन का कार्य कर रहे पत्थर माफिया सुजीत-सोहराब ने सड़क के छोर की जमीन की ऐसी खुदाई करवा रखी है, जिससे सड़क का दोनों किनारा अंदर ही अंदर खोखला हो चुका है। इस रास्ते से गुजरने वाले कई इंसानों सहित जानवरों की मौत इसी वजह से हो चुकी है। भविष्य में और भी बड़ी दुर्घटनाओं के संकेत प्राप्त हो रहे हैं।   





illegal-mining-dumka
दुमका (अमरेन्द्र सुमन) उप राजधानी दुमका के शिकारीपाड़ा प्रखंड अंतर्गत कई स्थानों पर अवैध तरीके से हो रहे पत्थर उत्खनन कार्यों से स्थानीय नागरिकों को इन दिनों परेशानियों से जार-जार होना पड़ रहा है। प्रखंड के गोसाई पहाड़ी में  जिला परिषद्, दुमका के तत्वावधान में गोसाई पहाड़ी फुटबॉल मैदान से रामजाम तक सड़क निर्माण का कार्य कराया गया था। इससे  आवागमन काफी दुरूस्त हो गया था। ग्रामीण इलाके के लोग काफी प्रसन्न थे, किंतु स्थिति इन दिनों इस सड़क की काफी भयानक हो चुकी है। गोसाई पहाड़ी में अवैध पत्थर उत्खनन कार्य कर रहे पत्थर माफिया सुजीत-सोहराब ने सड़क के दोनों तरफ जमीन की ऐसी खुदाई करवा रखी है जिससे सड़क का दोनों किनारा अंदर ही अंदर खोखला हो गया है।  सड़क  संकीर्ण तो हो ही चुकी है, सड़क के दोनों तरफ का इलाका विशाल गड्ढा में तब्दील हो चुका है। इस रास्ते से आगे बढने का मतलब सीधा मौत को दावत देने के समान रह गया है। इस सड़क से नीचे  विशाल खाई में गिरने से कई मानवों सहित जानवरों की मौत हो चुकी है। कई बड़ी-बड़ी दुर्घटनाओं के बाद भी स्थिति जस की तस बनी हुई है। पत्थर माफिया सुजीत-सोहराब के द्वारा  जमीन खोदकर अवैध रूप  से पत्थर निकालने का सिलसिला अनवरत जारी है। कादरपोखर में पप्पू खान, शेख मुर्तजा, निताई भण्डारी व कार्तिक गोराई, गोसाईं पहाड़ी में महेन्द्र पोद्दार, कुलकुली डंगाल में रामजीत मंडल, लिपिपाड़ा में बैजनाथ मंडल व रामजाम में सुरेश प्र0 साह द्वारा धड़ल्ले से जारी है अवैध पत्थर उत्खनन का कार्य।  इन अवैध पत्थर उत्खनन कारोबारियों के विरूद्ध स्थानीय प्रशासन सहित राज्य सरकार को लगातार शिकारीपाड़ा प्रखंड सहित रानेश्वर, गोपीकान्दर व रामगढ़ के लोग अवगत कराते रहे हैं किन्तु इन पत्थर कारोबारियों पर इसका कोई असर नहीं दिख रहा। उपरोक्त प्रखंडों के नागरिकों का कहना है कि माइनिंग डिपार्टमेंट की शह पर अवैध पत्थर उत्खनन का गोरखधंधा बिना रोक-टोक फल-फूल रहा है। इन प्रखण्डों के नागरिकों की सीधी मांग यह है कि यह गोरखधंधा बंद करवायी जाए। यदि पत्थर खनन का कार्य करवाना ही है तो कानूनी प्रक्रिया से पत्थर कारोबारियों को गुजरने के लिये बाध्य किया जाय ताकि प्रतिदिन माह करोड़ों रुपये के राजस्व के भारी नुकसान से राज्य लाभान्वित हो सके। जिन पत्थर खनन व्यवसायियों की वजह से गोसाईपहाड़ी सड़क का दोनों छोर तालाबनुमा रुप ले चुका है, उनके विरुद्ध कड़ी से कार्रवाई होनी चाहिए। खुद के पैसे से उन्हें सड़क निर्माण कार्य की जिम्मेवारी सौंपी जानी चाहिए ताकि कानून-व्यवस्था के खिलाफ काम करने वालों के भीतर खौफ बना रह सके। 

Share on Google Plus

About आर्यावर्त डेस्क

एक टिप्पणी भेजें
loading...