भारत आईसीटी सेवाओं के निर्यात में शीर्ष पर : संयुक्त राष्ट

india-top-in-ict-service
संयुक्त राष्ट, 16 जून, भारत सूचना एवं संचार प्रौद्योगिकी के सबसे बड़े निर्यातक के रप में उभरा है। विश्व बौद्धिक संपदा संगठन :डब्ल्यूआईपीओ: ने ेवैश्विक नवोन्मेष सूचकांके के अपने दसवें संस्करण में यह बात कही है । इस रपट में उसने भारत को एशिया में उभरता नवोन्मेषी देश बताया है। इस रपट के अनुसार भारत को दुनिया के 130 सबसे नवोन्मेषी देशों में 60 वें स्थान पर रखा गया है। भारत ने मध्य एवं दक्षिण एशिया में अपना शीर्ष स्थान बरकरार रखा है । वह पिछले साल के 66 वें स्थान से चढ़कर 60 वें स्थान पर पहुंच गया है । रपट के अनुसार भारत, केन्या और वियतनाम समेत कुछ देश अपने विकास के मामले में अपने समकक्ष देशों से नवोन्मेष में आगे रहे हैं। संयुक्त राष्ट की इस एजेंसी के अनुसार सबसे नये उत्पादों के संदर्भ में वैश्विक नवोन्मेष में समृद्ध देशों का वर्चस्व बना हुआ है । स्विटरजरलैंड लगातार सातवें साल शीर्ष पर रहा । भारत ने कई मापदंडों पर बहुत अच्छा प्रदर्शन किया है। वह सूचना और संचार प्रौद्योगिकी में शीर्ष पर रहा है। वह विज्ञान एवं अभियांत्रिकी में स्नातकों के संदर्भ में दसवें नंबर पर, ई सहभागिता में 27 वें नंबर पर, वैश्विक शोध एवं विकास कंपनियों की उपस्थिति के हिसाब से 14 वें नंबर पर, सरकारी ऑनलाइन सेवाओं के लिहाज से 18 वें स्थान पर, ज्ञानप्रभाव के संदर्भ में 30 वें पायदान और बौद्धिक संपदा भुगतान के लिहाज से 29 वें नंबर पर रहा है। भारत लगातार दूसरे साल नवोन्मेष गुणव}ाा में दूसरे पायदान पर रहा। हालांकि कुछ श्रेणियों में उसका प्रदर्शन अपेक्षाकृत निम्न रहा है। भारत राजनीतिक स्थायित्व एवं सुरक्षा के हिसाब से 106 वें, कारोबार माहौल के हिसाब से 121 वें नंबर पर, शिक्षा के लिहाज से 104 वें नंबर पर, विद्यार्थी-शिक्षक अनुपात के हिसाब से 104 वें स्थान पर, कारोबार शुरूआत सुगमता के हिसाब से 118 वें नंबर पर और कर भुगतान सुगमता के संदर्भ में 118 वें स्थान पर है। यह रपट डब्ल्यूआईपीओ, कार्नल विश्वविद्यालय और आईएनएसईएडी ने मिलकर तैयार की है।

Share on Google Plus

About आर्यावर्त डेस्क

एक टिप्पणी भेजें
loading...