विशेष : अच्छे प्रेरकों की पहचान के लिए लोक शिक्षा केन्द्र का आंतरिक मूल्यांकन


lok-shiksha-kendr-dumka
साक्षर भारत कार्यक्रम के तहत जिले में संचालित कार्यक्रम व गतिविधियों की समीक्षा के लिए जिला शिक्षा पदाधिकारी-सह-सचिव जिला साक्षरता समिति, दुमका धर्मदेव राय की अध्यक्षता में दिन मंगलवार (20 जून 2017) को जिला साक्षरता समिति की बैठक आयोजित की गयी। डीईओ धर्मदेव राय ने मुख्य कार्यक्रम प्रबंधक सिंहासन कुमारी एवं डीपीएम अशोक सिंह के साथ मिलकर प्रखण्डवार कार्यक्रम के प्रगति की समीक्षा की। समीक्षा के क्रम में सभी प्रखण्डों के बीपीएम ने बताया कि पंचायत के प्रेरकों के द्वारा भीटी के माध्यम से गाँव-टोला स्तर पर फिर से लक्ष्य के अनुसार नये एवं छुट हुए असाक्षरों का नामांकन कर साक्षरता केन्द्रों का संचालन शुरू कर दिया गया है। शिक्षण सामग्री का वितरण भी किया जा चुका है। प्रखण्ड और पंचायत स्तर से अनुश्रवण भी किया जा रहा है। समीक्षा के क्रम में डीईओ धर्मदेव राय द्वारा राज्य से प्राप्त निदेश के आलोक में सभी प्रबंधकों को निदेश दिया गया कि शत-प्रतिशत साक्षर पंचायत के तहत पूर्व में चयनित 3-3 पंचायत के अतिरिक्त फिर प्रति प्रखण्ड 5-5 नये पंचायतों का चयन कर सूची एक सप्ताह के अन्दर जिला को उपलब्ध करायें। इसके चयन में 50 प्रतिशत से कम महिला साक्षरता दर वाले पंचायतों तथा कम असाक्षरों की संख्या वाले पंचायतों का चयन करें। साथ ही यह भी ध्यान रखें कि यह पंचायत पूर्व में चयनित शत-प्रतिशत साक्षर पंचायतों के बगल वाला हो और वहाँ के प्रेरक सक्रीय भी हों। इस क्रम में यह भी स्पष्ट किया गया कि अच्छे प्रेरकों की पहचान के लिए लोक शिक्षा केन्द्रों का आंतरिक मूल्यांकन किया जा रहा है, जिन्हें सम्मानित भी किये जाने की योजना है। साथ ही निष्क्रीय व लापरवाह प्रेरकों को भी चिन्हित किया जा रहा है ताकि उन पर कार्रवाई किया जा सके। जिला स्तर से विभिन्न प्रखण्डों में लगातार हो रहे अनुश्रवण और उससे प्राप्त वस्तुस्थिति की समीक्षा करते हुए यह भी निर्णय लिया गया कि प्रखण्ड स्तर से अनुश्रवण के दौरान लोक शिक्षा केन्द्र बंद पाये जाने पर संबंधित प्रेरकों को प्रखण्ड स्तर से स्पष्टीकरण जारी किया जायेगा लेकिन आज की तिथि के बाद जिला स्तरीय पदाधिकारी द्वारा अनुश्रवण के दौरान अगर कोई लोक शिक्षा केन्द्र बंद पाया गया तो बिना स्पष्टीकरण जारी किये सीधे संबंधित प्रेरक को कार्यमुक्त किये जाने की कार्रवाई की जायेगी। बैठक में जिला कार्यकारिणी में लिये गये निर्णय के अनुपालन की स्थिति की समीक्षा की गयी, जिसके आलोक में प्रखण्ड एवं पंचायत साक्षरता समितियों के पुनर्गठन का निदेश दिया गया, जिसमें जरमुण्डी के बीपीएम ने बताया कि जरमुण्डी के सभी पंचायतों में पंचायत साक्षरता समितियों का पुनर्गठन हो गया है, प्रखण्ड समिति का पुनर्गठन बाकी है। डीईओ ने कहा कि कार्ययोजना के क्रियान्वयन के साथ-साथ समितियों के पुनर्गठन का कार्य भी जल्द पूरा करें। साथ ही सभी बीपीएम क्षेत्र भ्रमण कर केन्द्रों का अनुश्रवण करें और रिपोर्ट जिला को उपलब्ध करायें, साथ ही अकिल बत्ती साक्षरता व्हाटसेप ग्रुप पर भी फोटो डालें। सभी बीपीएम अपने-अपने प्रखण्ड का व्हाटसेप ग्रुप बनाकर प्रेरकों को उससे जोड़ें। इसी क्रम में प्रेरकों को डीबीटी के तहत आधार सिडिंग की रिपोर्ट जिला को जल्द देने को कहा गया, नही ंतो प्रेरकों का मानदेय भुगतान नहीं किया जायेगा। बैठक में कई प्रखण्डों के प्रखण्ड कार्यक्रम प्रबंधक शामिल हुए।







अमरेन्द्र सुमन, 
दुमका
Share on Google Plus

About आर्यावर्त डेस्क

एक टिप्पणी भेजें
loading...