बारिश ने दिल्ली को भिगोया , अगले 24 घंटे में मानसून के दस्तक देने की संभावना

rain-lashes-delhi-possibility-of-more-rain-in-the-next-24-hours
नयी दिल्ली 28 जून, दिल्ली और नोएडा में आज अच्छी बारिश हुई है तथा उम्मीद है कि दक्षिण-पश्चिम मानसून अगले 24 घंटों में मध्य प्रदेश, बिहार, उत्तर प्रदेश, हरियाणा, दिल्ली, पंजाब , हिमाचल प्रदेश और जम्मू -कश्मीर में दस्तक दे सकता है। मौसम का पूर्वानुमान लगाने वाली स्काईमैट के अनुसार पिछले 24 घंटों के दौरान दक्षिण-पश्चिम मानसून कोंकण, गोवा, केरल, विदर्भ और दक्षिण मध्य प्रदेश में जोरदार रहा । तटीय कर्नाटक , दक्षिण गुजरात, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ और झारखंड के कुछ स्थानों पर सक्रिय मानसून की स्थिति बनी रही। इस दौरान मध्य महाराष्ट्र, रायलसीमा, दक्षिण तमिलनाडु और पूर्वोत्तर राज्यों में मानसून कमजोर रहा । संस्था के अनुसार पूर्वाह्न साढ़े 11 से ढ़ाई बजे तक सफदरजंग पर 15 मिलीमीटर वर्षा रिकार्ड की गयी। इस दौरान पालम में छह मिलीमीटर बारिश दर्ज की गयी । बारिश से दिल्ली और राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र के नोएडा ,फरीदाबाद और गुरूग्राम में लोगों को गर्मी से राहत मिली। इससे पहले सुबह भी राजधानी के कई क्षेत्रों में हल्की बारिश हुई । स्काईमैट ने अनुमान व्यक्त किया है मानसून की उत्तरी सीमा राजस्थान के बाडमेर, चित्तौढ़गढ,मध्य प्रदेश गुना , सतना , सिद्धि और पटना से गुजर रही है। दक्षिण-पश्चिम मानसून अगले 24 घंटों में मध्य प्रदेश, बिहार, उत्तर प्रदेश, हरियाणा, दिल्ली, पंजाब , हिमाचल प्रदेश और जम्मू -कश्मीर के हिस्सों में आगे बढ़ सकता है। इस बीच राजस्थान के बाकी बचे हिस्सों को भी अगले दो-तीन दिनों में मानसून कवर कर सकता है। अगले 24 घंटों में मानसून कोंकण गोवा और केरल पर काफी सक्रिय रहेगा । इस दौरान मुंबई में भारी बारिश होने की संभावना है। दक्षिण गुजरात , तटीय कर्नाटक , ओडिशा के कुछ हिस्से, छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश , बिहार के तराई वाले भागों , उप हिमालयी , पश्चिम बंगाल और असम के कुछ क्षेत्रों पर मानसून सक्रिय रहेगा। इस दौरान मराठवाड़ा , मध्य महाराष्ट्र, रायलसीमा, आंतरिक कर्नाटक और तमिलनाडु में मानसून कमजोर रहेगा। पूर्वोत्तर राज्यों के शेष हिस्सों में मानसून की स्थिति सामान्य रहेगी। पिछले 24 घंटों के दौरान नागपुर में 113 मिलीमीटर वर्षा रिकार्ड की गयी। मलज्जखंद में 108 मिलीमीटर और महाबलेश्वर में 87 मिलीमीटर बारिश दर्ज की गयी। 27 जून तक कुल वर्षा का आंकड़ा सामान्य से एक प्रतिशत कम रहा । उत्तर-पश्चिम और दक्षिण भारत में सामान्य से क्रमश: 21 और 11 प्रतिशत अधिक बारिश हुई । मध्य भारत , पूर्वी और पूर्वोत्तर भारत में एक प्रतिशत तथा 14 प्रतिशत कम बारिश देखी गयी।

Share on Google Plus

About आर्यावर्त डेस्क

एक टिप्पणी भेजें
loading...