झारखंड के मसानजोर, मैथन एवं कांके डैम पर बनेगा रोपवे: अमर बाउरी

ropeway-in-jharkhand-amar-bauri
दुमका,15 जून, झारखंड के पर्यटन मंत्री अमर बाउरी ने कहा है कि प्रदेश में पर्यटन को बढ़ावा देने के उद्धेश्य से मसानजोर, मैथन और कांके डैम पर रोपवे का निर्माण कराया जायेगा।  श्री बाउरी ने आज यहां परिसदन में संवाददाताओं से बातचीत में कहा कि राज्य सरकार पर्यटन को बढ़ावा देने के उद्धेश्य से मनोरम और दर्शनीय स्थलों को आवश्यक संसाधनों से विकसित और सुव्यवस्थित करने की दिशा में तेजी से कार्य कर रही है। राज्य सरकार द्वारा इस दिशा में आवश्यक पहल शुरू कर दी गयी है। मसानजोर में पर्यटकों को आवसीय सुविधा में मुहैया कराने के उद्धेश्य से निर्माणाधीन पर्यटन कम्पलेक्स का निर्माण कार्य शीघ्र पूरा कर अागामी श्रावणी मेला से पूर्व उसे जनता को समर्पित कर दिया जायेगा।  श्री बाउरी ने कहा कि राज्य सरकार आगामी श्रावणी मेला के दौरान देश-विदेश से भारी तादाद में आनेवाले श्रद्धालुओं को बेहतर सुविधा मुहैया कराने की दिशा में भी सरकार कार्य कर रही है और विभिन्न स्तरों पर समीक्षा बैठक कर आवश्यक तैयारियों को अंतिम रूप दिया जा रहा है। इस वर्ष श्रावणी मेला शुरू होने के पूर्व यात्रियों की सुविधा के लिए प्रथम चरण में तैयार क्यू कम्पलेक्स को प्रारम्भ कर दिया जायेगा। उन्होंने बताया कि राज्य सरकार श्रावणी मेला में विधि व्यवस्था को दुरूस्त रखने के साथ नागरिक सुविधा बेहतर बनाने की दिशा में भी कार्य कर रही है। उन्होंने बताया कि श्रावणी मेला में सुरक्षा के मद्देजर विद्युत विभाग बिजली के तार को अंडर ग्राउन्ड करने और खराब पड़े ट्रांसफर्मरों को बदलने का निर्देश दिया गया है। 

श्री बाउरी ने बताया कि श्रावणी मेला में देश-विदेश से आने वाले यात्रियों को आवसीय सुविधा मुहैया कराने के साथ साफ-सफाई आदि की भी समुचित व्यवस्था की जायेगी। उन्होंने कहा कि ज्य सरकार द्वारा गरीबी रेखा से नीचे जीवन बसर करनेवाले सभी धर्म और समुदाय के 60 वर्ष से अधिक उम्र के बुजुर्गों के तीर्थाटन के लिए मुख्यमंत्री दिग्दर्शन योजना की शुरूआत की गयी है। इसके लिए राज्य सरकार द्वारा बजट में आवश्यक राशि का प्रावधान किया गया हैं। योजना के तहत राज्य के तीन प्रमंडलों क्षेत्र के बुजुर्गों को भोजन सहित सभी जरूरी सुविधाओं के साथ धार्मिक स्थलों का नि:शुल्क तीर्थटन कराया गया है। इसी क्रम में गुरूवार से संतालपरगना के विभिन्न प्रखंडों के करीब एक हजार बुजुर्गों के जत्थे को रेल से हरिद्वार दर्शन के लिए रवाना किया गया है। मंत्री ने कहा कि सरकार द्वारा सभी धर्म और समुदाय के बुजुर्गों के लिए यह योजना शुरू की जा रही है। इसके तहत अल्पसंख्यक समुदाय में मुस्लिम भाईयों के लिए मोईनुद्दीन चिश्ती, इसाई के लिए गोवा, सिक्ख के लिए अमृतसर के अलावे सरना और अन्य धर्मावलम्बियों के दशर्नीय स्थलों का दर्शन कराने की योजना है। उन्होंने बताया कि प्रत्येक रेल जत्थे पर लगभग एक करोड़ रुपये खर्च करने का प्रावधान है। श्री बाउरी ने मंदिरों के गांव मलूटी को पर्यटन केन्द्र के रूप में विकसित किये जाने और नष्ट होते मंदिरों के संरक्षण की दिशा में किये जा रहे कार्यां की चर्चा के क्रम में कहा कि मंदिरों की मौलिकता को अक्षुण्ण बनाये रखने को राज्य सरकार गम्भीर है। इसके लिए केन्द्र सरकार के पर्यटन विभाग को पत्र भेज कर राज्य की भावना से अवगत करा दिया गया है। उन्होंने मलूटी के मंदिरों के सरंक्षण के कार्य से संबंधित केन्द्र सरकार के पुरातत्व विभाग की टीम के जांच रिपोर्ट पर असंतोष जाहिर करते हुए कहा कि मंदिरों की मौलिकता को अक्षुण्ण बनाये रखने के मामले में कोई समझौता नहीं किया जायेगा। इस मौके पर समाज कल्याण मंत्री डा.लोईस मरांडी समेत अन्य लोग मौजूद थे। 
Share on Google Plus

About आर्यावर्त डेस्क

एक टिप्पणी भेजें
loading...