सीहोर (मध्यप्रदेश) की खबर 21 जून

सर्वोत्तम कृषक पुरूस्कार के आवेदन 15 जुलाई तक आमंत्रित

राज्य शासन के निर्देशानुसार वर्ष 2016-17 की गतिविधियों के आधार पर कृषि विस्तार सुधार कार्यक्रम आत्मा के अन्तर्गत पुरस्कार का प्रावधान किया गया है। जिसमें राज्य, जिला, विकास खण्ड के अन्तर्गत कृषक/समूह को पुरस्कार की सुविधा प्रदान की जायेगी। विभिन्न स्तर जैसे ब्लाक, जिला, राज्य स्तरीय सर्वोत्तम कृषक पुरस्कार एवं जिला स्तरीय सर्वोत्तम    कृषक समूह पुरस्कार प्रदान करने हेतु 15 जुलाई,2017 तक आवेदन आमंत्रित किए जायेंगे। विकासखण्ड स्तरीय सर्वोत्तम कृषक पुरस्कार हेतु कृषि के साथ-साथ उद्यानिकी, पशुपालन, मत्स्यपालन एवं कृषि अभियांत्रिकी के क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य करने वाले कृषक विभागवार आवेदन कर सकते है। कोई भी कृषक एक से अधिक श्रेणी के लिए आवेदन नही करे। अधिक जानकारी के लिए वरिष्ठ कृषि विकास अधिकारी, ब्लाक तकनीकी मैनेजर आत्मा अथवा क्षेत्र के ग्रामीण कृषि विस्तार अधिकरी से सम्पर्क कर आवेदन प्राप्त कर सकते है।



जीका वायरस को लेकर अलर्ट जारी, बीमारी के लक्षण मिलते ही तुरंत नियंत्रण कक्ष के सूचित करने के निर्देष

sehore news
अहमदाबाद में जीका वायरस से प्रभावित तीन मरीज मिलने के बाद स्वास्थ्य संचालनालय, मध्यप्रदेष भोपाल ने विष्व स्वास्थ्य संगठन के दिषा निर्देष पर सभी जिलों में हाई अलर्ट जारी किया है। इस संबंध में मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डाॅ.आर.के.गुप्ता ने बताया कि सीहोर जिले में जीका वायरस से संबंध कोई भी मरीज अभी तक नहीं मिला है। उन्हांेने बताया कि इस बीमारी का वाहक भी डेंगू फैलाने वाला एडीज मच्छर ही है। जीका वायरस से प्रभावित मरीज के मुख्य लक्षणों में मरीज के शरीर पर चकते,बुखार, जोड़ों में दर्द, मांसपेषियों में दर्द, सिर में दर्द, बेचैनी, आंखें लाल होना प्रमुख है। वर्तमान में संबंधित बीमारी की जांच की सुविधा एनसीडीसी नई दिल्ली और नेषनल इंस्टीट्यूट आॅफ वायरोजलाॅजी पूणे महाराष्ट्र में है। जीका वायरस के संबंध में और अधिक जानकारी प्रदान करते हुए मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डाॅ.आर.के.गुप्ता ने बताया कि जीका वायरस एडीज मच्छर से फैलाता है। जीका वायरस से बचाव  के लिए पूरे शरीर को ढक कर रखें। हल्के रंग के कपडे़ पहने, और बच्चों के प्रति विषेष सावधानी बरतें। जीका वायरस के मरीज को पूरी तरह बेड रेस्ट लेना जरूरी है। मरीज को अधिक मात्रा में पानी और तरल पदार्थ दिया जाना चाहिए। उन्होंने बताया कि डेंगू फैलाने वाला एडिज मच्छर ही जीका वायरस का वाहक है जो दिन में काटता है। सोते समय हमेषा मच्छरदानी का ही उपयोग करें। उन्होंने बताया कि जीका वायरस रोग के लिए कोई विेषेष उपचार नहीं है। सिमटोमेटिक एवं सपोर्टिव उपचार किया जाता है। उक्त बीमारी से बचाव के लिए किसी प्रकार का वैक्सीन उपलब्ध नहीं है। उन्होंने जिला स्टोर प्रभारी तथा जिला मलेरिया अधिकारी को जिले में उक्त संभावित रोग की रोकथाम एवं उपचार के लिए सहयोगी औषधियों/सामग्रियों की उपलब्धता सुनिष्चित करने के निर्देष दिए है। संबंधित लक्षणों वाले मरीजों की आवष्यक जांच के निेर्देष भी सभी बीएमओ को दिए गए है। डाॅ.गुप्ता ने बताया कि फेफडे़, हुदय, लीवर, गुर्दा, मधुूमेह, कैंसर आदि लम्बी बीमारियों वाले यात्रियों को यात्रा पर जाने से पहले चिकित्सक से उचित सलाह लेना कहा गया है। जिला एपीडियोमीलाॅजिस्टर सहित जिला मलेरिया अधिकारी को निर्देषित किया गया है कि बीमारी के संबंध में कड़ी निगरानी रखें साथ ही भारत शासन की गाईड लाईन का कड़ाई से पालन किया जाए एवं संदिग्ध मरीज मिलने पर इसकी सूचना तत्काल राज्य सर्विलेंस ईकाई भोपाल को दी जाएं।

लाडली लक्ष्मी योजना

मध्यप्रदेष शासन व मा. मुख्यमंत्री जी की अत्यंत महत्वपूर्ण व महत्वकांक्षी लाडली लक्ष्मी योजना नवीन स्वरूप अन्तर्गत ई लाडली बन चुकी है। ई लाडली अन्तर्गत हितग्राही बालिकाओं को पूर्व में प्रदत्त राष्ट्रीय बचत पत्र (छैब्) के स्थान पर ई प्रमाण पत्र प्रदाय किया जा चुका है। जिला सीहोर में लाडली लक्ष्मी योजना पात्र ऐसे हितग्राही जिन्होंने अभी तक अपनी छैब् जमा नहीं कराई है, वह यथाषीघ्र अपनी छैब् आंगनबाड़ी केन्द्र अथवा एकीकृत बाल विकास परियोजना कार्यालय अथवा जिला महिला सषक्तिकरण कार्यालय में जमा करवाकर ई प्रमाण पत्र प्राप्त कर सकते हैं। लाडली लक्ष्मी योजनान्तर्गत योजना का लाभ लिया जाने हेतु आवेदन-पत्र संबंधित आंगनबाड़ी केन्द्र/एकीकृत बालविकास परियोजना कार्यालय पर निषुल्क जमा किया जा सकता है तथा लोक सेवा गारंटी केन्द्र/ आॅनलाईन कियोस्क सेन्टर से निर्धारित राषि भुगतान कर आवेदन पत्र जमा किया जा सकता है। अधिक जानकारी हेतु जिला महिला सषक्तिकरण कार्यालय, जिला सीहोर में हेल्प लाईन सम्पर्क क्रं.  9993183931 पर कार्यालयीन समय में संपर्क किया जा सकता है।

Share on Google Plus

About आर्यावर्त डेस्क

एक टिप्पणी भेजें
loading...