विदिशा (मध्यप्रदेश) की खबर 15 जून

मुख्यमंत्री जी की मंशा, पढ़ा लिखा हो मध्यप्रदेश - राज्यमंत्री श्री मीणा
  • ‘‘स्कूल चले हम’’ अभियान का शुभांरभ हर्षोल्लास से

vidisha news
विदिशा, दिनांक 15 जून, मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चैहान की मंशा है कि पढा लिखा हो मध्यप्रदेश इसके लिए राज्य सरकार द्वारा हर संभव प्रयास किए जा रहे है उक्त आश्य के विचार उद्यानिकी तथा खाद्य प्रसंस्करण (स्वतंत्र प्रभार) वन, राज्यमंत्री श्री सूर्यप्रकाश मीणा ने ‘‘स्कूल चलें हम’’ अभियान के अंतर्गत जिला स्तरीय प्रवेशोत्सव कार्यक्रम में व्यक्त किए।  विदिशा विकासखण्ड के ग्राम पालकी में आयोजित कार्यक्रम में राज्यमंत्री श्री मीणा ने कहा कि शिक्षा के लोकव्यापीकरण को ध्यानगत रखते हुए राज्य में अधिक से अधिक शासकीय स्कूल का संचालन किया जा रहा है। राज्य सरकार द्वारा स्कूलों में पढ़ने वाले बच्चों की सुविधाओं का पूरा ध्यान रखा जा रहा है। विद्यार्थियों को निःशुल्क किताबे, डेªस, साइकिल प्रदाय की जा रही है इसके अलावा छात्रवृत्ति, मध्यान्ह भोजन भी मुहैया कराया जा रहा है। उन्होंने बच्चों से आग्रह किया कि वे शासन की सुविधाओं का लाभ लेेते हुए स्वंय शिक्षित हो और प्रदेश को शिक्षावान बनाएं। श्री मीणा ने बच्चों के अभिभावकों से आग्रह किया कि वे अपने बच्चों को हर रोज स्कूल अनिवार्यतः भेजे और उनकी शिक्षा-दीक्षा पर भी नजर रखें। कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे स्थानीय विधायक श्री कल्याण सिंह ठाकुर ने कहा कि गांव के बच्चे प्रतिभावान होते है। उन्हें कुशल मार्गदर्शन मिल जाने से वे अपने लक्ष्यों की प्राप्ति सुगमता से कर लेते है उन्होंने गुरूजनों से कहा कि वे अपने दायित्वों का निर्वहन पूर्ण ईमानदारी से कर आने वाली पीढ़ी को शिक्षावान बनाने में कोई कोर कसर ना छोडे़।विधायक श्री ठाकुर ने कार्यक्रम स्थल पर अपनी विधायकनिधि से तीन स्कूलांे के लिए  टेबिल-कुर्सी देने की घोषणा की तदानुसार ग्राम पालकी के लिए 18 नग, ग्राम ठर्र के लिए तीस और ग्राम भदरबाडा के स्कूल हेतु दस टेबिल कुर्सी देने की घोषणा की। जिला पंचायत अध्यक्ष श्री तोरण सिंह दांगी ने कहा कि राज्य सरकार द्वारा शिक्षा पर विशेष जोर दिया जा रहा हैै। इस प्रकार के अभियान का मुख्य उद्वेश्य कोई भी बच्चा स्कूल जाने से वंचित ना रहें। इस कार्य में हम सबकी अति महत्वपूर्ण जिम्मेदारी है। खासकर ग्रामीण क्षेत्रों में रह रहे बच्चे नियमित स्कूल आए इसके लिए उनके पालकों को भी जागरूकता का परिचय देना होगा। नगरपालिका अध्यक्ष श्री मुकेश टण्डन ने कहा कि स्कूल जाने और पढ़ने की लालसा जिन बच्चों में होती है वे तो शिक्षा के क्षेत्र में आगे बढ जाते है किन्तु गांव के ऐसे बच्चे जो स्कूल जाने में ज्यादा रूचि नही दिखाते है उन बच्चों पर विशेष ध्यान देना होगा। उन्होंनें कहा कि कोई भी व्यवसाय करने के लिए हमें शिक्षित होना अतिआवश्यक है। आधुनिक युग इलेक्ट्राॅनिक युग है जिसमें शिक्षा की महत्वता स्वयमेव प्रतिपादित हो रही है। शिक्षा के क्षेत्र में गांव के बच्चे पिछड ना पाए इसके लिए सरकार द्वारा हर प्रकार से सहूलियते मुहैया कराई जा रही है। काॅ-आपरेटिव बैंक के अध्यक्ष श्री श्यामसुन्दर शर्मा ने कहा कि शिक्षावान समाज की महत्वता अन्य समाज से श्रेष्ठ हो जाती है हमारा गांव शिक्षित, सुशिक्षित हो इसके लिए हमें आगे आना होगा। आने वाली पीढी पूर्ण शिक्षावान हो ताकि जिले और प्रदेश का विकास शिक्षा के क्षेत्र में पिछड़ ना पाए। उन्होंने ग्रामीणजनों से कहा कि वे स्कूलांे के संचालन पर भी नजर रखें। कलेक्टर श्री अनिल सुचारी ने कहा कि शासकीय स्कूल अब निजी स्कूल से कम नही है मेरिट सूची मंे अधिकांशतः शासकीय स्कूलोें के बच्चों ने स्थान हासिल किया है जो इस बात का घोतक है कि लगन और परिश्रम से हम शिक्षा के क्षेत्र में आगे निकल सकते है। उन्हांेने स्कूली बच्चांे से कहा कि वे मन लगाकर पढ़ाई करें। शासन उन्हें हर सुविधा मुहैया करा रही है इसी प्रकार शिक्षकों से उन्होंने कहा कि वे समय पर शैक्षणिक गतिविधियों का संचालन स्कूलों में करें ताकि बच्चों का लगाव स्कूल के प्रति बढे़। उन्होंने ग्रामीणों से आग्रह किया कि वे शाला प्रबंधन समिति के माध्यम से स्कूलों पर सतत नजर रखें जिसमें बच्चों को दी जाने वाली सुविधाएं और गुरूजनों की उपस्थिति को शामिल करते हुए उन्होंने कहा कि यदि किसी शिक्षक के द्वारा लापरवाही बरती जाती है तो अविलम्ब जिला प्रशासन को अवगत कराएं। पुलिस अधीक्षक श्री धर्मेन्द्र चैधरी ने योग्य नागरिक बनने में शिक्षा की महत्वपूर्ण भूमिका पर प्रकाश डाला। जिला शिक्षा अधिकारी श्री एचएन नेमा ने स्कूल चले हम अभियान के तहत प्रवेशोत्सव आयोजन के उद्वेश्यों को रेखांकित किया। 

बच्चो का स्वागत
अतिथियों द्वारा नवप्रवेशीय स्कूूली विद्यार्थियों का तिलक लगाकर एवं माला पहनाकर स्वागत किया गया।

लाड़ली चली स्कूल की ओर
मुख्यमंत्री लाड़ली लक्ष्मी योजना से लाभांवित कुमारी सोहनी आदिवासी भी अब स्कूल की ओर कदम बढाई है। इससे पहले कुमारी सोहनी आंगनबाडी केन्द्र में हर रोज जाती थी। नवप्रवेशीय सोहनी को पालकी की प्राथमिक शाला में कक्षा एक में दाखिला इसी वर्ष कराया गया है। 

सामग्री
सभी स्कूली बच्चों को निःशुल्क पाठ्यपुस्तके प्रदाय की गई। वही युवा समाजसेवी श्री लोचन सिंह राजपूत के सौजन्य से बच्चों को स्कूली बैग, पानी की बाटल, पेन, पेसिंल, कम्पास इत्यादि सामग्री का वितरण अतिथियों द्वारा किया गया। 

पौधरोपण
अतिथियों द्वारा स्कूल प्रागंण में पौधरोपण कार्य में भी सहभागिता निभाई गई। कार्यक्रम का संचालन कविवर श्री संतोष शर्मा ने किया और आगंतुको के प्रति आभार डीपीसी श्री सुरेश खांडेकर ने व्यक्त किया। कार्यक्रम स्थल पर श्री संदीप सिंह डोंगर, श्री मनोज कटारे के अलावा स्थानीय प्रतिनिधि, एसडीएम श्री आरपी अहिरवार, तहसीलदार श्री संतोष बिटौलिया के अलावा स्कूल शिक्षा विभाग के अधिकारी, ग्रामीणजन और बच्चे मौजूद थे। 
दस्तक अभियान का शुभांरभ

विदिशा, दिनांक 15 जून, उद्यानिकी तथा खाद्य प्रसंस्करण (स्वतंत्र प्रभार) वन, राज्यमंत्री श्री सूर्यप्रकाश मीणा ने ग्राम पालकी के आंगनबाडी केन्द्र में दस्तक अभियान का शुभांरभ बच्चों को दवा पिलाकर किया। इस अवसर पर विधायक श्री कल्याण सिंह ठाकुर, जिला पंचायत अध्यक्ष श्री तोरन सिंह दांगी, विदिशा नगरपालिका अध्यक्ष श्री मुकेश टण्डन, काॅ-आपरेटिव बैंक के अध्यक्ष श्री श्यामसुन्दर शर्मा ने भी बच्चों को दवा पिलाने में सहभागिता निभाई। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डाॅ बीएल आर्य ने बताया कि  दस्तक अभियान का प्रथम चरण 15 जुलाई तक जिले में क्रियान्वित किया जाएगा। अभियान का मुख्य उद्वेश्य बाल सुरक्षा के लिए सेहत की दस्तक घर-घर तक देना है। उन्होंने बताया कि अभियान अवधि के दौरान पांच वर्ष से उम्र के गंभीर, कुपोषित बच्चों की सक्रिय रूप से पहचान एवं प्रबंधन, बच्चों में गंभीर एनीमिया की स्क्रीनिंग, समस्त बच्चों को विटामिन-ए अनुपूरण के अलावा बच्चों में बाल्यकालीन निमोनिया की त्वरित पहचान कर उपचार करना के अलावा दस्त रोग के नियंत्रण हेतु ओआरएस की उपयोगिता को सामुदायिक जागरूकता में बढावा देना है। स्तनपान संबंधी भ्रांतियों को भी अभियान के दौरान दूर करने पर विशेष बल दिया जाएगा।

मत्स्याखेट पर पूर्ण प्रतिबंध 

विदिशा, दिनांक 15 जून, वर्षा ऋतु में मछलियों की वंशवृद्वि (प्रजनन) के दृष्टिकोण से उन्हें संरक्षण देने हेतु जिले में भी 16 जून से 15 अगस्त तक की अवधि को क्लोज सीजन अधिघोषित किया गया है इस अवधि में सभी प्रकार का मत्स्याखेट एवं विक्रय, विनिमय, परिवहन पूर्णतः निषिद्व किया गया है। कलेक्टर श्री अनिल सुचारी ने जारी आदेश का अक्षरशः पालन सुनिश्चित कराने के निर्देश मत्स्य विभाग के साथ-साथ अन्य विभागों के अधिकारियों को दिए है। प्रतिबंधित अवधि के दौरान यदि कोई उल्लघंन करता पाया गया तो उसके खिलाफ कठोर कार्यवाही का प्रावधान मत्स्योद्योग अधिनियम के तहत की जाएगी। 

पुरस्कार हेतु आवेदन आमंत्रित

स्वर्गीय देवी प्रसाद शर्मा और भैया श्री मिश्रीलाल गंगवाल सद्भावना पुरस्कार के लिए प्रस्तावयुक्त आवेदन पत्र सामान्य प्रशासन विभाग के द्वारा आमंत्रित किए गए है। स्वर्गीय देवी प्रसाद शर्मा पुरस्कर वर्ष 2016-17 के लिए चतुर्थ श्रेणी कर्मचारियों से आवेदन पत्र आमंत्रित किए गए है। पुरस्कार एक अपै्रल 2016 से 31 मार्च 2017 तक किए गए कार्यो के आंकलन पर दिया जाएगा। आवेदन पत्र सामान्य प्रशासन विभाग मंत्रालय भोपाल में 20 जून तक जमा किए जा सकते है। भैया श्री मिश्रीलाल गंगवाल सद्भावना पुरस्कार 2016 के लिए आवेदन आमंत्रित किए गए है। विगत पांच वर्षो से निरंतर समाज सेवा के उल्लेखनीय कार्यो को सम्पादित करने वाली संस्थाओं से आवेदन पत्र आमंत्रित किए गए है। जिला स्तरीय समिति की अनुशंसा के उपरांत दस जुलाई तक सामान्य प्रशासन विभाग को आवेदन प्रेषित किए जा सकते है। उक्त दोनो पुरस्कारों के संबंध में अन्य विस्तृत जानकारी के लिए कलेक्टेªट, अधीक्षक से कार्यालयीन दिवसों, अवधि में सम्पर्क कर प्राप्त की जा सकती है।

दो प्रकरणों में आर्थिक मदद जारी

कलेक्टर श्री अनिल सुचारी ने दो प्रकरणों में क्रमशः चार-चार लाख रूपए की अनुदान सहायता राशि स्वीकृति के आदेश जारी कर दिए है। जारी आदेश में उल्लेख है कि शमशाबाद तहसील के ग्राम शहपुरा काॅलोनी की कुमारी लाड़बाई की मृत्यु कुएं में गिरने (पानी में डूबने से) हो जाने के कारण मृतिका के पिता श्री गोविन्दी बंजारा को चार लाख रूपए की तथा ग्राम झिरिया (झिरी) के श्री मोती सिंह राजपूत की मृत्यु पानी में डूबने से हो जाने के कारण मृतक की पत्नी श्रीमती सावित्री बाई राजपूत को भी चार लाख रूपए की अनुदान सहायता आरबीसी के प्रावधानोें के तहत जारी की गई है।

दलहन फसलों का समर्थन मूल्य जारी
   
विदिशा, दिनांक 15 जून, राज्य सरकार द्वारा दलहन फसलों के उपार्जन कार्य हेतु समर्थन मूल्य जारी किया गया है जिसमें प्रत्येक दलहन जिन्स के लिए बोनस राशि 425 रूपए प्रति क्ंिवटल के मान से समर्थन मूल्य में शामिल है। जिले में समर्थन मूल्य पर दलहनी फसलों का खरीदी कार्य तीस जून तक विपणन सहकारी संस्थाओं के माध्यम से किया जाएगा। कलेक्टर श्री अनिल सुचारी के द्वारा जिले मे समर्थन मूल्य पर दलहनी फसलों का उपार्जन कार्य सुव्यवस्थित रूप से सम्पन्न हो इसके लिए उनके द्वारा नोड्ल अधिकारी भी नियुक्त किए गए है अपर कलेक्टर श्री एचपी वर्मा को समस्त खरीदी कार्य का संचालन मार्गदर्शन एवं पर्यवेक्षण का दायित्व सौंपा गया है। कलेक्टर श्री सुचारी के द्वारा जिला स्तरीय निगरानी समिति का भी गठन किया गया है। अपर कलेक्टर को समिति का अध्यक्ष बनाया गया है इसके अलावा सात अन्य सदस्यों को भी शामिल किया गया है। इसी प्रकार खरीदी केन्द्रों में गुणवत्ता हेतु आकस्मिक निरीक्षण के लिए कलेक्टर द्वारा अनुविभाग स्तर पर निरीक्षण दल भी गठित किए गए है। जिला आपूर्ति अधिकारी श्री मोहन मारू ने बताया कि जिले में समर्थन मूल्य पर मूंग खरीदी कार्य विदिशा और बासौदा की कृषि उपज मंडी मंे किया जाएगा। मंूग का समर्थन मूल्य 5225 रूपए प्रति क्ंिवटल है। उड़द खरीदी कार्य बासौदा की कृषि उपज मंडी में ही होगा। उडद का समर्थन मूल्य पांच हजार रूपए प्रति क्ंिवटल घोषित किया गया है इसी प्रकार अरहर (तूअर) खरीदी कार्य शमशाबाद कृषि उपज मंडी में किया जाएगा। अरहर का समर्थन मूल्य पांच हजार पचास रूपए है।

एनसीसी शिविर का आयोजन 

एनसीसी ग्रुप भोपाल के सौजन्य से विदिशा के एसएटीआई पाॅलिटेक्निक में 19 जून से एनसीसी केम्प का आयोजन किया गया है। जिसमें विदिशा, भोपाल, होशंगाबाद, रायसेन जिले के लगभग छह सौ एनसीसी कैडेट भाग लेंगे। 

बाल हृदय केम्प का आयोजन 20 को

जिन चिकित्सालय गंजबासौदा में खण्ड स्तरीय निःशुल्क बाल हृदय केम्प का आयोजन बीस जून को किया गया है कि जानकारी देते हुए मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डाॅ बीएल आर्य ने बताय कि राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम के तहत एलएन मेडीकल काॅलेज एण्ड जेके हास्पिटल द्वारा निःशुल्क बाल हृदय केम्प आयोजित किया गया है। शिविर में 18 वर्ष तक के हृदय रोग से पीडित बच्चों की निःशुल्क जांच की जाएगी जो भी बच्चे धनात्मक पाए जाएंगे उनका निःशुल्क उपचार हास्पिटल द्वारा किया जाएग। 
Share on Google Plus

About आर्यावर्त डेस्क

एक टिप्पणी भेजें
loading...