बिहार : कन्हैया और जिग्नेष की गिरफ्तारी फासीवादी हमला व निन्दनीय

  • ए.आई.एस.एफ ने तत्काल रिहा करने की मांग की, रिहाई नहीं होने पर कल से आंदोलन की चेतावनी 

aisf-condemn-kanhiaya-arresst
पटना:-  जे.एन.यू. छात्र संघ के पूर्व अध्यक्ष कन्हैया कुमार एवं ऊना आंदोलन के नेता जिग्नेष मेवानी और कई प्रगतिषील लोगों सहित 50 लोगों की गिरफ्तारी को ए.आई.एस.एफ. बिहार राज्य परिषद ने फासीवादी हमला करार दिया है। आॅल इण्डिया स्टूडेन्ट्स फेडरेषन, बिहार राज्य परिषद ने गिरफ्तारी को निन्दनीय बताते हुए सभी लोगों को तत्काल रिहा करने की मांग की है। साथ ही शीघ्र रिहाई नहीं होने पर कल से चरणबद्ध आंदोलन की चेतावनी दी है। गौरतलब है कि ऊना आंदोलन के एक साल पूरा होने पर दलित और अल्पसंख्यकों पर जारी दरिंदगी के खिलाफ गुजरात के अहमदाबाद में ऊना कूच में शामिल होने आये कन्हैया कुमार एवं जिग्नेष मेवानी को गुजरात पुलिस ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के इषारे पर गिरफ्तार कर लिया है। इस मार्च में देष भर के कई हिस्सों से आये प्रगतिषील लोगों का जमावड़ा लगा था। ऊना कूच के परमिषन को पहले रद्द किया गया तथा सभा के दरम्यिान ही गिरफ्तारी की गयी । ए.आई.एस.एफ. ने कहा कि देष के अन्दर में नरेन्द्र मोदी की सरकार के खिलाफ पूरे देष के विभिन्न हिस्सों खासकर दलित, अल्पसंख्यक, आदिवासी एवं युवाओं का गुस्सा बढ़ता जा रहा है। यह कुछ छात्र-युवा नेताओं एवं प्रगतिषील जमात को गिरफ्तार करने एवं जेल भेजने से थमने वाला नहीं है। किसी भी प्रकार के दमन के खिलाफ पूरे देष में इसका जमकर प्रतिकार होगा।   

Share on Google Plus

About आर्यावर्त डेस्क

एक टिप्पणी भेजें
loading...