दुमका : शिवमय बाबा की नगरी में आस्था का चरमोत्कर्ष पर है, बोलबम के नारों से गुंजायमान है वासुकिनाथ धाम

basukinath-sawan-darshan
दुमका (अमरेन्द्र सुमन) अनेकता में एकता का जबरदस्त मिशाल देखना हो तो बाबा बैद्यनाथ की नगरी से बाबा वासुकिनाथ की नगरी के बीच सड़कों पर गुजरिये। केसरिया रंग से सराबोर बाबा के भक्त कांवर में पवित्र गंगा जल संभाले बोलबम के नारों के साथ  अपने गन्तव्य की ओर लगातार अग्रसर हैं। बाबा के प्रति समर्पित भाव से आस्था का ही परिणाम है कि पथरीली सड़क व पैर में चूभते कंकड़ों के बाद भी तकरीबन 105 किमी की लम्बी यात्रा के बाद भी बाबा वासुकिनाथ धाम तक पहुंचने में वे कोई कोर-कसर नहीं छोड़ रहे। तनिक भी उन्हें इन रास्तों पर चलने के बाद भी कष्ट का अहसास नहीं होता। मासव्यापी विश्व प्रसिद्ध श्रावणी मेला का 10 वाँ दिन पूरा हो चुका हैं। श्रद्धालुओं को हर तरह की सुविधा के लिये जिला प्रशासन भी लगातार तत्पर दिखलाई पड़ रहा है। श्रद्धालुओं को बाबा तक पहुंचने में कोई कष्ट न हो इसका पूरा ध्यान रखा जा रहा है।  बढ़ती गर्मी में श्रद्धालुओं का सैलाव दिन बुधवार को भी वासुकिनाथ धाम के चारों ओर देखने को मिला। श्रद्धालु मंदिर की ओर लगातार बढ़ते हुए दिख रहे हैं। शिवगंगा में आस्था की डुबकी के साथ ही पूरे मेला क्षेत्र में बोलबम व हर हर महादेव का नारा गंूज रहा है। पूर्वा0 3ः50 में पुरोहित पूजा के बाद से ही बाबा पर जलार्पण शुरू हो गया। पूरा मंदिर परिसर केसरियामय है। कतारबद्ध श्रद्धालु शांतिपूर्ण ढंग से बाबा पर जलापर्ण करते नजर आ रहे थे। महिला व पुरुष सुरक्षा कर्मी प्रत्येक दिन की भांति दिन बुधवार को भी पूरे मेला क्षेत्र पर अपनी पकड़ बनाए दिख रहे थे। श्रद्धालुओं को कतारबद्ध कराकर सुगमता पूर्वक जलार्पण कराने में सुरक्षा कर्मी लगे हुये थे।  दुमका के उपायुक्त मुकेष कुमार ने मीडिया सेंटर में लगे सीसीटीवी के माध्यम से सभी आवासन केन्द्रों का अवलोकन किया। उन्होंने कहा कि आवासन केन्द्रों में प्रतिनियुक्त सूचना सहायता कर्मी श्रद्धालुओं की सुरक्षा का ख्याल रखें। सभी सूचना सहायता कर्मी षिफ्ट लगाकर ड्यूटी पर तैनात रहे ताकि विश्राम कर रहे श्रद्धालुओं की सुरक्षा बनी रहे। उपायुक्त ने सभी आवासन केन्द्रों में विश्राम कर रहे श्रद्धालुओं को देखा सभी आवासन केन्द्र पूरी तरह से भरा था सभी आवासन केन्द्र में पंखा और लाइट उपलब्ध थी। उन्होंने कहा कि कोई भी श्रद्धालु सड़क पर न सोये इसे सुनिष्चित करें। सभी श्रद्धालु आवासन केन्द्र में ही विश्राम करें। उन्होंने कहा कि इतनी लंबी सफर पैदल चलने के बाद श्रद्धालु वासुकिनाथ पहुंचते हैं। हमें उनकी सेवा करनी है। उन्हें किसी भी प्रकार का कष्ट न हो इसका ध्यान रहे। उन्होंने ने वासुकिनाथ धाम में श्रद्धालुओं के विश्राम के लिये बनाये गये निःषुल्क टेन्ट सिटी पहुंचकर व्यवस्थाओं का जायजा लिया। उपायुक्त ने प्रतिनियुक्त कर्मी को निदेष दिया कि टेंट सिटी में साफ-सफाई एवं सुरक्षा का ध्यान रखा जाय। उन्होंने कहा कि टेंटे सिटी में लगे सभी सीसीटीवी फूटेज पर ध्यान रखा जाय ताकि किसी भी प्रकार की समस्या में सीसीटीवी फुटेज की मदद ले सकें। उपायुक्त ने मुख्य प्रषासनिक शिविर स्थित स्वास्थ्य षिविर पहुंचकर उपस्थित स्वास्थ्य कर्मियों से दवाई की उपलब्धता के बारे में जानकारी ली। उन्होंने कहा कि श्रद्धालुओं को हर जरुरी दवाईयां उपलब्ध करायें। उन्होंने कहा कि खत्म हो गयी दवाईयों की आपूर्ति सुनिष्चित करें। ओ आर एस जैसे घोल श्रद्धालुओं को अवष्य दें ताकि उनमें फिर से ए5 नयी उर्जा का संचार हो। मंदिर प्रांगण पहुंचकर उपायुक्त ने विधि व्यवस्था का जायजा लिया एवं सभी सुरक्षा कर्मी को पूरी ईमानदारी पूर्वक श्रावणी मेला के बचे दिनों में अपने कर्तव्य पर रहने का निदेष दिया। इसके उपरांत दुमका के उपायुक्त मुकेष कुमार एवं पुलिस अधीक्षक मयूर पटेल ने षिवगंगा के चारों ओर कांवरिया रुट लाइन का निरीक्षण किया निरीक्षण के दौरान पुलिस अधीक्षक मयूर पटेल ने सुरक्षा कर्मियों को ड्यूटी के दौरान पूरी ईमानदारी पूर्वक कार्य करने का निदेष दिया। उन्होंने कहा ड्यूटी के दौरान चेयर पकड़कर न बैठे। आपका पूरा ध्यान श्रद्धालुओं पर रहे कोई भी श्रद्धालु दौड़ते हुए मंदिर की ओर न जाये इसका ध्यान रखें। उन्होंने कहा कि श्रद्धालुओं के साथ नरमी से पेष आयें ताकि वे यहां से एक अच्छा संदेष लेकर जाये। उन्होंने कहा कि षिवगंगा के चारों ओर कांवरिया रुट लाइन में किसी भी प्रकार की दुकानें नहीं लगनी चाहिये इसका ध्यान रखें। उन्होंने कहा कि बड़ी तादाद में श्रद्धालु जलार्पण काउंटर के माध्यम से जलार्पण कर रहे हैं। सुरक्षा कर्मी ध्यान रखें कि श्रद्धालु पूरी सुगमता पूर्वक कतारबद्ध होकर जलार्पण कर सके। उन्होंने कहा कि श्रद्धालुओं की तादाद को देखते हुए विभिन्न जगहों पर जलार्पण काउंटर बनाये गये हैं। नवनिर्मित प्रषासनिक भवन पहुंच उपायुक्त मुकेष कुमार एवं पुलिस अधीक्षक मयूर पटेल ने सीसीटीवी फूटेज के माध्यम से पूरे मेला क्षेत्र को देखा। उन्होंने प्रतिनियुक्त कर्मी को निदष दिया कि फुटेज में अगर किसी भी प्रकार की आपत स्थिति दिखायी दे तो इसकी सूचना जल्द से जल्द वरीय अधिकारी को दें। 

Share on Google Plus

About आर्यावर्त डेस्क

एक टिप्पणी भेजें
loading...