तेजस्वी मामले में राजद के जवाब का भाजपा करेगी इंतजार : सुशील मोदी

bjp-will-wait-for-rjd-dissision-susil-modi
पटना 11 जुलाई, बिहार भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) विधानमंडल दल के नेता सुशील कुमार मोदी ने केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) के उप मुख्यमंत्री तेजस्वी प्रसाद यादव के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करने के बाद राज्य में मचे सियासी घमासान के बीच सत्तारूढ़ महागठबंधन के मुख्य घटक जनता दल यूनाईटेड (जदयू) के रुख पर आज कहा कि श्री यादव को तथ्यों के आधार पर जनता को जवाब देने की मांग कर जदयू ने राजनीतिक गेंद राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के पाले में डाल दी और इसपर उसके जवाब का भाजपा भी इंतजार करेगी। श्री मोदी ने आज यहां संवाददाता सम्मेलन में कहा, “जदयू विधानमंडल दल, जिलाध्यक्षों तथा विभिन्न प्रकोष्ठों के अध्यक्षों की हुई बैठक में उप मुख्यमंत्री तेजस्वी प्रसाद यादव से राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव की 1000 करोड़ रुपये की बेनामी संपत्ति मामले में सीबीआई की ओर से उनके खिलाफ दर्ज की गई प्राथमिकी में लगाये गये आरोपों का जनता को तथ्यों के आधार पर जवाब देने की मांग की गई है। ऐसा करके जदयू ने राज्य की सियासी गेंद राजद के पाले में डाल दी है। अब देखना होगा कि इसपर राजद कबतक जवाब देता है क्योंकि जदयू की तरह भाजपा को भी उसके जवाब का इंतजार है।” भाजपा नेता ने कहा कि वह आशा करते हैं कि जदयू की मांग पर श्री तेजस्वी प्रसाद यादव के जवाब देने की अवधि अनिश्चितकालीन नहीं होगी। संभवत: चार से पांच दिन के अंदर जवाब आ जाना चाहिए। उन्होंने कि जवाब आने के बाद जदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की उप मुख्यमंत्री के खिलाफ की जाने वाली कार्रवाई का भी उन्हें इंतजार है। इसके बाद ही उनकी पार्टी आगे की रणनीति तय करेगी। 


श्री मोदी ने कहा, “उप मुख्यमंत्री के मामले में स्पष्टीकरण की कोई आवश्यकता नहीं थी। यह बिल्कुल स्पष्ट मामला था और हमे अपेक्षा थी कि श्री कुमार उनके खिलाफ तत्काल कार्रवाई करेंगे क्योंकि पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी के मामले में उन्होंने त्वरित कार्रवाई की थी जबकि वह नौ साल पुराना मामला था।” भाजपा नेता ने कहा कि जब जदयू ने श्री तेजस्वी प्रसाद यादव को जवाब देने का मौका दे ही दिया है तो बतायें कि वह राजधानी पटना के सगुना मोड़ स्थित 200 करोड़ रुपये मूल्य की तीन एकड़ जमीन और 1000 करोड़ रुपये की बेनामी संपत्ति के मालिक कैसे बन गये। इसके अलावा वह चार कंपनियों डिलाइट मार्केटिंग, ए. बी. एक्सपोर्ट्स, ए. के. इंफोसिस्टम्स प्राइवेट लिमिटेड और फेयरग्रो के शेयरधारक और निदेशक कैसे बन गये। श्री मोदी ने कहा कि उप मुख्यमंत्री के मामले में सत्तारूढ़ महागठबंधन के तीनों घटक दलों का रुख साफ हो गया है। राजद ने स्पष्ट कर दिया है कि किसी भी कीमत पर श्री तेजस्वी प्रसाद यादव अपने पद से इस्तीफा नहीं देंगे। वहीं, कांग्रेस भी राजद के सुर में सुर मिला रही है। उन्होंने कहा कि वैसे भी भ्रष्टाचारियों का साथ देना कांग्रेस का इतिहास रहा है। चारा घोटाला मामले में भी कांग्रेस ने राजद अध्यक्ष को बचाने का प्रयास किया था। उन्होंने कहा कि अब जदयू ने भी जनता के बीच तथ्यों के आधार पर जवाब देने की मांग कर श्री तेजस्वी प्रसाद यादव को मौका दे दिया है। 

भाजपा नेता ने राजद की ओर से केंद्रीय मंत्री उमा भारती के इस्तीफे की मांग पर कहा कि उनके (सुश्री भारती) खिलाफ कोई आपराधिक नहीं बल्कि यह एक राजनीतिक मामला है। उन्होंने कहा कि नेताओं पर राजनीतिक मामला दर्ज होना कोई नई बात नहीं है। छात्र आंदोलन के समय उनपर और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार समेत कई आंदोलनकारियों के खिलाफ प्राथमिकी हुई थी। श्री मोदी ने कहा कि राजद सदस्य कह रहे हैं कि केवल मामला दर्ज होने से श्री तेजस्वी प्रसाद यादव इस्तीफा नहीं देंगे। यह कोई नई बात नहीं है क्योंकि राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव ने भी चारा घोटाला मामले में गैर जमानती वारंट जारी होने के बाद ही मुख्यमंत्री के पद से इस्तीफा दिया था। वहीं, हवाला मामले में नाम आने के बाद पूर्व गृहमंत्री लालकृष्ण आडवाणी ने आरोप पत्र दाखिल होने से पूर्व ही त्यागपत्र दे दिया था। भाजपा नेता ने पार्टी पर महागठबंधन सरकार को गिराने के आरोप लगाये जाने पर कहा कि भाजपा सरकार गिराने में विश्वास नहीं रखती है। राज्य की सरकार को पांच साल के लिए जनादेश मिला है, इसलिए उनकी पार्टी चाहेगी कि यह सरकार अपना कार्यकाल पूरा करे लेकिन यदि सरकार में भ्रष्टाचारी शामिल हों तो भाजपा चुप नहीं बैठेगी। 

Share on Google Plus

About आर्यावर्त डेस्क

एक टिप्पणी भेजें
loading...