जांच एजेंसियों का राजनीतिक इस्तेमाल कर रहा केन्द्र : फातमी

center-using-investigative-agency-fatmi
दरभंगा 11 जुलाई, राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के वरिष्ठ नेता और पूर्व केन्द्रीय मंत्री मोहम्मद अली अशरफ फातमी ने पार्टी अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव और उनसे जुड़े ठिकानों पर केन्द्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) की छापेमारी को राजनीति से प्रेरित करार दिया और कहा कि केन्द्र की भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) नीत राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग)सरकार बिहार समेत अन्य राज्यों में विपक्षी दल की सरकारों को कमजोर करने के लिए जांच एजेंसियों का राजनीतिक इस्तेमाल कर रही है। श्री फातमी ने आज यहां कहा कि केन्द्र सरकार राजनीतिक विरोधियों पर वार करने के लिए सीबीआई, आयकर विभाग (आईटी) और प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) का राजनीतिक इस्तेमाल कर रही है। उन्होंने कहा कि राजद अध्यक्ष श्री यादव के आवास पर सीबीआई का छापा मारना और प्राथमिकी दर्ज करना बदले की भावना से की गई कार्रवाई है। केन्द्र की भाजपा सरकार बिहार, पश्चिम बंगाल समेत देश के विभिन्न राज्यों में विपक्षी दलों की सरकार को कमजोर करना चाहती है। सरकार जांच एजेंसियाें का इस्तेमाल कर संघीय ढांचे पर चोट कर रही है। राजद नेता ने कहा कि पार्टी के युवा नेता और बिहार के उप मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव की राजनीति छवि को नुकसान पहुंचाने के लिए बेनामी संपत्ति मामले में जानबूझ कर उनका नाम डाला गया है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के मुकाबले तेजस्वी के पास काफी कम राजनीतिक अनुभव है लेकिन इसके बावजूद उन्होंने बतौर उप मुख्यमंत्री करीब डेढ़ साल में बेहतर काम किया है। मंत्री के तौर पर श्री तेजस्वी यादव पर कोई आरोप नहीं है। दस-बारह साल पुराने मामले में तेजस्वी को फंसाने के लिए छापेमारी कराई गयी है। श्री फातमी ने कहा कि सीबीआई और ईडी की कार्रवाई ऐसे समय में की गयी है जब बिहार में महागठबंधन की तर्ज पर भाजपा के खिलाफ राष्ट्रीय स्तर पर महागठबंधन बनाने की तैयारी की जा रही है। राष्ट्रीय स्तर पर महागठबंधन बनाने की कोशिशों के मद्देनजर राजधानी पटना में 27 अगस्त को पार्टी की ओर से बड़ी रैली के आयोजन को लेकर तैयारी की जा रही है लेकिन केन्द्र सरकार को अपने खिलाफ सुनने की आदत नहीं है, इसलिए इस तरह की छापेमारी करायी गयी है। राजद नेता ने कहा कि एक साजिश के तहत उप मुख्यमंत्री की राजनीतिक छवि को नुकसान पहुंचाने की कोशिश हो रही है लेकिन इसके बावजूद पार्टी के सांसद, विधायक, विधान पार्षद समेत सभी कार्यकर्ता श्री तेजस्वी यादव के साथ हैं। उन्होंने केन्द्रीय जल संसाधन मंत्री उमा भारती समेत केन्द्रीय मंत्रिमंडल में शामिल कई मंत्रियों के नाम गिनाते हुए कहा कि सभी के खिलाफ मामले दर्ज हैं लेकिन वे अब भी अपने पद पर बने हुए हैं। वहीं, इसके उलट सीबीआई की प्राथमिकी में नाम जोड़ने भर से उप मुख्यमंत्री इस्तीफा मांगा जा रहा है। 

Share on Google Plus

About आर्यावर्त डेस्क

एक टिप्पणी भेजें
loading...