गुजरात में बाढ/वर्षा से मरने वालों की संख्या 126 हुई

flood-rain-related-incidents-causes-126-deats-in-gujarat
गांधीनगर, 27 जुलाई, गुजरात में बाढ और वर्षा जनित दुर्घटनाओं में मरने वालों की संख्या 126 हो गयी है जिसमें डूबने अथवा बह जाने के कारण हुई मौतों की संख्या सर्वाधिक 72 है जबकि सबसे बुरी तरह बाढ प्रभावित बनासकांठा जिले में सबसे अधिक 42 मौतें हुई हैं।  मरने वालों में 33 बिजली गिरने से, 6 बरसात के दौरान करंट लगने से मरे लोग भी शामिल है। 14 लोगों की मौत दीवाल गिरने अथवा अन्य वर्षा जनित दुर्घटनाओं में हुई है और एक व्यक्ति की पानी जनित रोग से मृत्यु हुई है। अकेले बनासकांठा जिले में 173 गांवों में बिजली की आपूर्ति ठप हो गयी है। राज्य के राजस्व सचिव पंकज कुमार ने आज यह जानकारी देते हुए बताया कि बाढ में बडी संख्या में पशुओं की भी मौत हुई है जिसमें से अकेले बनासकांठा जिले में ही अब तक 800 पशुओं के मरने की सूचना मिली है। ज्ञातव्य है कि बनासकांठा के ही रूणी खारिया गांव से कल एक ही परिवार के 17 लोगों समेत बाढ में डूबे 20 से अधिक शव बरामद किये गये थे। राज्य सरकार ने प्रत्येक मृतक के परिजनों को चार चार लाख रूपये देने की घोषणा की है जबकि इसके अतिरिक्त ऐसे लोगों के परिजनों को प्रधानमंत्री राहत कोष से भी दो दो लाख रूपये दिये जाएंगे। पिछले 24 घंटे में सर्वाधिक आठ ईंच वर्षा अरवल्ली के धनसुरा में हुई है जबकि पौने आठ ईंच अहमदाबाद शहर में हुई है। 15 तालुका में 100 मिमी से अधिक तथा 33 में 50 मिमी से अधिक वर्षा हुई है। वर्षा से अहमदाबाद समेत कई इलाकों में बाढ जैसे हालात बन गये हैं और जनजीवन अस्तव्यस्त हो गया है। अकेले बाढ प्रभावित बनासकांठा और पाटन जिले में सेना की छह टुकडियां, एनडीआरएफ की 15 टीमे, बीएसएफ की छह टीमे, तथा 15 हेलीकाप्टर राहत और बचाव कार्य में लगे हैं। अब तक राज्य भर में बाढ प्रभावित क्षेत्रों से 55000 से अधिक लोगों का स्थानांतरण किया गया है। आज अहमदाबाद तथा महेसाणा जिलों में तीन हजार से अधिक लोगों का स्थानांतरण किया गया।

Share on Google Plus

About आर्यावर्त डेस्क

एक टिप्पणी भेजें
loading...