तेजस्वी मामले में राजद से बिंदुवार जवाब की उम्मीद : जदयू

jdu-hope-cross-answer-by-rjd-in-tejaswi-issue
पटना 13 जुलाई, केन्द्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) की छापेमारी के बाद बिहार में सत्तारूढ़ महागठबंधन के बड़े घटक राष्ट्रीय जनता दल (राजद) विधायक दल के नेता एवं उप मुख्यमंत्री तेजस्वी प्रसाद यादव के इस्तीफे को लेकर मचे राजनीतिक घमासान के बीच प्रमुख घटक जनता दल यूनाइटेड(जदयू) ने आज फिर दुहराया कि पार्टी राजद से उप  मुख्यमंत्री पर लगे आरोपों के बिन्दुवार जवाब की उम्मीद रखती है।  जदयू के प्रदेश मुख्य प्रवक्ता एवं विधान परिषद के सदस्य संजय सिंह ने यहां कहा कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार न किसी को बचाते हैं और न ही किसी को फंसाते हैं। आरोप लगने पर उनकी पार्टी ने पूर्व में कई नेताओं के खिलाफ कार्रवाई की है। उन्होंने कहा कि भ्रष्टाचार के मामले में पार्टी की जीरो टॉलरेंस की नीति रही है और यही मूल मंत्र है। श्री सिंह ने कहा कि उप मुख्यमंत्री श्री यादव पर भी आरोप लगे हैं। आरोप लगने पर राजद को भी इस संबंध में जल्द ही फैसला लेना होगा। जदयू के ही प्रदेश प्रवक्ता एवं विधान परिषद के सदस्य नीरज कुमार ने कहा कि सीबीआई ने श्री यादव के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की है। श्री यादव पर आरोप लगने के बाद राजद को बिन्दुवार जवाब देना चाहिए और उनकी पार्टी ऐसी ही उम्मीद रखती है। एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि पार्टी को अभी राजद से बिंदुवार जवाब नहीं मिला है। श्री कुमार ने आश्चर्य व्यक्त करते हुए कहा कि उप मुख्यमंत्री श्री यादव के मामले में राजद क्यों असहज बना हुआ है। उन्होंने सवालिया लहजे में कहा कि राजद विधायक राजबल्लभ यादव और पूर्व सांसद मोहम्मद शहाबुद्दीन के मामले में तो राजद असहज नहीं था। उन्होंने उम्मीद जाहिर करते हुए कहा कि उनकी पार्टी की भावना का राजद जरूर सम्मान करेगा। वहीं, राजद के राष्ट्रीय प्रवक्ता मनोज झा ने कहा कि उप मुख्यमंत्री ने कल अपने दिल की बात सार्वजनिक रूप से कह दी है। जदयू का संशय दूर होने तक संवाद जारी रहेगा। उन्होंने कहा कि राजद विधायक राजबल्लभ यादव और पूर्व सांसद मोहम्मद शहाबुद्दीन के मामले की तुलना उप मुख्यमंत्री श्री यादव से किया जाना उचित नहीं है। उप मुख्यमंत्री पर लगे आरोप राजनीति से प्रेरित हैं।


वहीं, दूसरी ओर महागठबंधन के घटक कांग्रेस विधायक दल के नेता सदानंद सिंह ने कहा कि महागठबंधन में बने गतिरोध को समाप्त करने की जरूरत है। घटक दल जदयू और राजद के शीर्ष नेताओं को तत्काल बातचीत करनी चाहिए। उन्होंने कहा कि महागठबंधन में समन्वय समिति बनाना बेहद जरूरी है। महागठबंधन में तालमेल की कमी दिखाई पड़ रही है। इसबीच विधानसभा में प्रतिपक्ष के नेता प्रेम कुमार ने कहा कि उप मुख्यमंत्री को बर्खास्त करने में महागठबंधन के नेता एवं मुख्यमंत्री नीतीश कुमार देर कर रहे हैं। पहले मुख्यमंत्री श्री कुमार को इस संबंध में फैसला लेना होगा और इसके बाद ही भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) अपना पत्ता खोलेगी। उल्लेखनीय है कि सीबीआई की ओर से उप मुख्यमंत्री श्री यादव पर प्राथमिकी दर्ज होने के बाद से मुख्य विपक्षी भाजपा लगातार उनके इस्तीफे की मांग कर रही है। वहीं, सत्तारूढ़ महागठबंधन के बड़े घटक राजद विधानमंडल दल की बैठक कर उप मुख्यमंत्री के किसी भी हालत में इस्तीफा नहीं देने का निर्णय सुना चुका है। इस बीच प्रमुख घटक जनता दल यूनाईटेड कल विधानमंडल दल, जिलाध्यक्षों तथा विभिन्न प्रकोष्ठों के अध्यक्षों की बैठक कर श्री यादव से जनता के बीच जाकर उनपर लगे आरोपों का तथ्यपरक जवाब देने की मांग कर चुका है। 

Share on Google Plus

About आर्यावर्त डेस्क

एक टिप्पणी भेजें
loading...