तेजस्वी पर जदयू अब भी सख्त, जदयू प्रवक्ताओं पर सुशील मोदी के इशारे पर बयानबाजी का आरोप

jdu-tight-on-tejaswi
पटना 22 जुलाई, बिहार के उप मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव पर केन्द्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) की प्राथमिकी के बाद से राष्ट्रीय जनता दल(राजद) पर जनता दल यूनाइटेड के लगातार दबाव बनाये रखने से बौखलाये श्री यादव के समर्थकों ने आज पोस्टर लगाकर जदयू प्रवक्ताओं पर भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के वरिष्ठ नेता सुशील कुमार मोदी के इशारे पर अनाप-शनाप बयानबाजी का आरोप लगाया गया है। राजद नेता और उप मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव के समर्थन में यहां कई स्थानों पर पोस्टर लगाये गये हैं जिसमें लिखा गया है कि जदयू के प्रवक्ता अनाप-शनाप बयान दे रहे हैं जबकि श्री नीतीश कुमार ने इसके लिए मना किया है । जदयू के प्रवक्ता बावजूद इसके बयानबाजी करने से बाज नहीं रहे हैं। पोस्टर में यह भी लिखा गया है कि जदयू के प्रवक्ता यह सब भाजपा नेता सुशील मोदी के इशारे पर कर रहे हैं । पोस्टर में सर्वश्री अजय आलोक, संजय सिंह, श्याम रजक और नीरज कुमार की तस्वीर लगायी गयी है । हालांकि, पोस्टर किसकी तरफ से लगाया गया है, इसका उल्लेख इसमें नहीं है। 


इस बीच जदयू के प्रवक्ता अजय आलोक ने पोस्टर पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा कि जिसने भी ये पोस्टर लगाये हैं उनके इरादे नेक नहीं हैं। उन्होंने कहा, ‘यह भी साफ हो गया है कि आखिर हमारे सवालों पर इतनी मिर्ची क्यों लग रही है भाई ।’ जदयू प्रवक्ता नीरज कुमार ने कहा कि जिसने भी पोस्टर लगाया है उन्हें हिन्दी लिखना तक नहीं आता है। ऐसे लोगों का ‘गुप्त एजेंडा’ है लेकिन वह कामयाब होने वाला नहीं है। कानून के अनुसार पोस्टर लगाने वाले को अपना नाम देना चाहिए था । उन्होंने कहा कि प्रवक्ता पार्टी की भावना को व्यक्त करते हैं और उप मुख्यमंत्री के मामले पार्टी अपने रूख पर कायम है। श्री कुमार ने कहा कि किसी मामले में आवश्यकता से अधिक मौन रखना भी आरोपों को स्वीकार कर लेना माना जाता है। जदयू ने जो मुद्दे उठाए हैं उस पर राजद को अपना जवाब देना ही पड़ेगा । इतना लंबा मौनव्रत चिंताजनक स्थिति का संकेत कर रहा है। लोग जानना चाहते हैं कि जवाब देने में इतनी देर क्यों हो रही है। 

जदयू प्रवक्ता ने कहा कि चीन और पाकिस्तान गंभीर मसला है यह हम भी मानते हैं, लेकिन हमारी नजर में भ्रष्टाचार भी संगीन मुद्दा है। भ्रष्टाचार किसी भी देश की अर्थव्यवस्था को घून की तरह खोखला कर देता है। बिहार की जनता ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और महागठबंधन को भ्रष्टाचार के खिलाफ जीरो टॉलरेंस की नीति और सात निश्चय पर जनादेश दिया था। राजद के नेताओं को जदयू द्वारा उठाए गए सवालों का जवाब देना चाहिए। राजद बताए कि मौन कब टूटेगा। गौरतलब है कि राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव ने कल रांची से लौटने के बाद पत्रकारों से बातचीत के दौरान कहा था कि मीडिया टीआरपी के चक्कर में महागठबंधन में संकट की खबर दिखा रहा है जबकि वहां सब ठीकठाक है । मीडिया के लोगों को देश की चिंता करनी चाहिए जो टूट रहा है। उन्होंने कहा कि आज देश गंभीर संकट में है। चीन और पाकिस्तान भारत को घेर रहे हैं। यह गंभीर चिंता का विषय है। जदयू के एक अन्य प्रवक्ता संजय सिंह ने कहा कि वे पार्टी के प्रवक्ता की हैसियत से बात रखते हैं। पोस्टर लगाने से उनकी आवाज बंद नहीं होगी और वह सच बोलते ही रहेंगे। वहीं राजद के प्रवक्ता मनोज झा ने कहा कि जिसने भी यह पोस्टर लगाया है इसे उनकी पार्टी सही नहीं मानती है। बिना नाम के पोस्टर का कोई महत्व नहीं है। उन्होंने कहा कि महागठबंधन और बिहार के हित में राजद तथा जदयू के नेताओं को धैर्य का परिचय देना चाहिए। 

Share on Google Plus

About आर्यावर्त डेस्क

एक टिप्पणी भेजें
loading...