जीएसटी से गरीबों को होगा फायदा: योगी

  • अपना दल के संस्थापक सोनेलाल पटेल की 65वीं जयंती पर आयोजित स्वाभिमान रैली को संबोधित की
  • गोरक्षा के नाम पर गुंडागरदी बर्दाश्त नहीं होगी जो सपना सोनेलाल पटेल ने देखा था उनकी पुत्री अनुप्रिया पटेल ने साकार कर दिया है


jst-for-poor-yogi
वाराणयी (सुरेश गांधी)। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि जीएसटी से कालाबाजारी का अंत होगा। जीएसटी का सबसे बड़ा फायदा गरीबों को होने वाला है। जीएसटी का मकसद ही भ्रष्टचार व कालाबाजारी को खत्म करना है। इसी उद्देश्य से प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने भारत में लागू की है। हम सबको प्रधानमंत्री का अभार व्यक्त करना चाहिए। श्री योगी रविवार को पीएम मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में अपना दल के संस्थापक सोनेलाल पटेल की 65वीं जयंती पर आयोजित स्वाभिमान रैली को संबोधित कर रहे थे। श्री योगी ने कहा कि सरकार का उद्देश्य गरीबों को फायदा पहुंचाना है। हमारा नारा ‘सबका साथ सबका विकास‘ है। गोरक्षा के नाम पर हो रही गुंडागरदी पर प्रहार करते हुए योगी ने कहा, गोरक्षा के नाम पर गुंडागर्दी बर्दाश्त नहीं होगी। यूपी में इस तरह की कोई घटना नहीं हुई है। ना ही शरारती तत्वों को स्वीकार किया जाएगा। गोरक्षा के नाम पर शरारती को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। प्रदेश में कोई भी कानून नहीं तोड़ सकता है। गोसेवा हमारी सनातन परंपरा है। गोरक्षा के नाम पर कानून को अपने हाथ में किसी को हक नहीं है। लक्ष्मण रेखा तय है। कोई भी शरारत कर रहा है तो पुलिस ऐसी लोगों को पकड़ रही है। हमने अवैध बूचड़खानों को रोका है जिससे अवैध तस्करी रोकी जा रही है। गो तस्करी के लिए रुट के सभी थाने जिम्मेदार होंगे। योगी ने कहा, जो सपना सोनेलाल पटेल ने देखा था उनकी पुत्री अनुप्रिया पटेल ने साकार कर दिया है। मैं बधाई देता हूं कि अपना दल कांग्रेस के राष्टंीय पार्टी के पहचान को भी छीन रही है। अभी यूपी में कांग्रेस के 2 सांसद हैं। अगर भगवान भोलेनाथ की कृपा रहेगी तो अगली बार कांग्रेस के एक भी सांसद नहीं रहेंगे। इसी तरह कांग्रेस के 7 विधायक हैं लेकिन अपना दल के 9 विधायक हैं। अनुप्रिया पटेल इसके लिए बधाई की पात्र हैं। यूपी को नई दिशा की ओर ले जाना है। वाराणसी में विकास हो रहा है। सरकार आप सबका सहयोग चाहती है। यूपी में किसी तरह का भेदभाव नहीं है। 100 दिन के अंदर हमने रिपोर्ट कार्ड पेश किया। हमने एक प्रयास किया जो कि आपके सामने है। यूपी की सरकार गरीब, किसान, नौजवानों को समर्पित है। आप सबको सोचना चाहिए कि देश में प्रदेश में किसानों की आय कैसे अच्छी की जाए। जितना अन्न उत्पादन हो रहा है उसका चार गुना उत्पादन करने की क्षमता यूपी की धरती में है। आप सबको उस दिशा में काम करना है। इस मौके पर योगी ने पीएम मोदी के सांसद आदर्श गांव ककरहिया भी पहुंचें, वहां पांच महिलाओं को सोलर चर्खा दी। प्राथमिक व जूनियर स्कूल के 15-15 बच्चों को डंेस, पुस्तक, टाई आदि का वितरण किया। इस दौरान केंद्रीय मंत्री अनुप्रिया पटेल भी मौजूद थी। कहा, प्रशासन ने 100 दिन में अच्छा काम किया है। राज्य में विश्वास का माहौल बना है। प्रदेश में बढ़ते अपराध के आंकड़ों पर योगी ने कहा कि इसका प्रमुख कारण ये है कि हमने 100 प्रतिशत एफआईआर दर्ज कराई हैं। अब अपराधियों के खिलाफ चार्जशीट दाखिल होती हैं। पूर्व सीएम अखिलेश यादव पर निशाना साधते हुए योगी ने कहा कि अखिलेश ने काम किया होता तो अभी मेटंो चल रही होती। हमें गड्ढे नहीं भरने पड़ते। अखिलेश के गड्ढे हम भर रहे हैं। सपा-बसपा के गड्ढे को भरने में समय लगेगा। राज्य में काम की परंपरा खत्म हो गई थी। बाबू लंच के बाद काम नहीं करते थे। अ बवह हो रहा है। एंटी रोमियो दल पर सीएम ने कहा कि इसका बहू-बेटियों ने स्वागत किया है। एंटी रोमिया दस्ता मनचलों के खिलाफ है। ये लगातार चलने वाली प्रक्रिया है। हिंसा फैलाने वालों पर योगी ने कहा कि गुंडई करने वाले भगवा ब्रिगेड को कोई छूट नहीं मिलेगी। कानून सबके लिए बराबर है, चाहे वो कोई भी हो। कानून हाथ में लेने वालों के खिलाफ कार्रवाई में कोई भेदभाव नहीं होगा। सहारनपुर हिंसा पर मुख्यमंत्री ने कहा कि सहारनपुर में जातीय हिंसा पैदा करने की कोशिश की गई। इसके पीछे जो भी शामिल लोग हैं वो पकड़े जाएंगे। उन्होंने कहा कि इस हिंसा के पीछे खनन माफियाओं का हाथ है। राम मंदिर निर्माण पर योगी आदित्यनाथ ने कहा कि दोनों पार्टियों की सहमति से रास्ता निकलना चाहिए। सरकार अपनी भूमिका निभाने को तैयार है। मिलकर फैसला लेने से सौहार्द बढ़ेगा। राम मंदिर के लिए लोगों के मन में उम्मीद जाग रही है, जो कि अच्छी बात है। कहा, ताजमहल पर्यटन स्थल हो सकता है, भारत की पहचान नहीं। भारत की पहचान रामायण से हैं, वेदों से है। हिंदू से बड़ा कोई धर्मनिरपेक्ष नहीं। दूसरे अन्य देश भगवान राम और सनातन हिंदू धर्म को मानते हैं, लेकिन भारत में हिंदू को सांप्रदायिक कहा जाता है।

Share on Google Plus

About आर्यावर्त डेस्क

एक टिप्पणी भेजें
loading...