लालू ने सामाजिक न्याय और जाति के नाम पर लोगों को ठगा : रघुवर दास

lalu-cheated-people-raghubar-das
पटना 23 जुलाई, झारखंड के मुख्यमंत्री एवं भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के वरिष्ठ नेता रघुवर दास ने आज आरोप लगाया और कहा कि राष्ट्रीय जनता दल (राजद) अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव ने सामाजिक न्याय तथा अपनी जाति के नाम पर लोगों को गुमराह कर बिहार को केवल ठगा है। श्री दास ने यहां तेली साहु समाज के नगर निकायों के चुनाव में विजयी प्रत्याशियों के अभिनंदन समारोह का उद्घाटन करने के बाद कहा कि बिहार में 20 से 25 वर्ष तक एक ही परिवार का शासन रहा । उन्होंने कहा कि इस दौरान राजद अध्यक्ष श्री यादव ने अपनी जाति के नाम पर मतपेटी भरा और सत्ता प्राप्त कर अपने अर्थ की पेटी भर लिया। मुख्यमंत्री ने कहा कि श्री यादव तो अपने अर्थ की पेटी भरकर धनाढ्य हो गये लेकिन उनकी जाति का वह गरीब यादव आज भी दूध दूह रहा है । किस्मत तो श्री यादव, उनकी पत्नी राबड़ी देवी और उनकी पुत्री मीसा भारती की ही बदली। उन्होंने कहा कि समाजिक न्याय और जाति के नाम पर उन्होंने सिर्फ बिहार को ठगा है । श्री दास ने कहा कि श्री यादव ने अपने कार्यकाल में 12 सौ करोड़ रुपये का चारा घोटाला किया और अब इस मामले में पेशी के लिए उन्हें रांची-पटना तथा पटना-रांची की दौड़ लगानी पड़ रही है। जैसी करनी, वैसी भरनी । उन्होंने कहा कि अब उनके पुत्र एवं बिहार के उप मुख्यमंत्री तेजस्वी प्रसाद यादव और पत्नी राबड़ी देवी दिल्ली-पटना तथा पटना-दिल्ली की दौड़ लगायेंगे। मुख्यमंत्री ने सवालिया लहजे में कहा कि श्री यादव दौलत कमाकर क्या करेंगे । गरीबों की आह उन्हें खा जायेगी। उन्होंने कहा कि श्री यादव ने सरकारी योजनाओं की राशि लूटकर ही धन इकट्ठा किया है। राजनीति में शुचिता बनी रहनी चाहिए। उन्होंने कहा कि देश को आजाद हुए 70 वर्ष हो गये लेकिन भ्रष्टाचार की जननी कांग्रेस ने अबतक सिर्फ लूटने का ही काम किया है । श्री दास ने कहा कि जबतक बिहार में एकरस-समरस समाज नहीं हो जाता तबतक प्रदेश का कल्याण होने वाला नहीं है। प्रदेश में जब राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) की सरकार थी तब एकरस-समरस समाज था। उन्होंने कहा कि भाजपा में न वंशवाद है और न ही परिवारवाद। ईमानदारी एवं निष्ठा से काम करने वाला व्यक्ति शिखर पर पहुंचता है, जिसके जीते-जागते उदाहरण दलित समाज से आने वाले देश के नवनिर्वाचित राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद हैं । 


मुख्यमंत्री ने कहा कि झारखंड में स्थायी सरकार है और बिहार में भी भाजपा की अगुवाई में ऐसी ही सरकार की जरूरत है। बिहार जातिवाद एवं समुदायवाद में उलझा हुआ है और यदि सही मायने में कल्याण होना है तो एकरस-समरस समाज बनाना ही होगा। उन्होंने कहा कि बिहार बुद्ध की धरती रही है और उनके बताये मार्ग पर चलकर ही समाज के सभी वर्गों को जोड़ा जा सकता है और भाजपा शासित राज्यों के समान ही विकास कर शिखर पर पहुंचा जा सकता है । श्री दास ने कहा कि कांग्रेस की अगुवाई वाली संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (संप्रग) सरकार के दस वर्षों के कार्यकाल में सिर्फ घोटाले ही हुए। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के सत्ता संभालने के बाद देश में पहली बार बेदाग सरकार बनी है। पहली बार गरीबों के लिए बैंकों में खाते खोले गये और किसानों की चिंता भी की गयी। मुख्यमंत्री ने कहा कि कांग्रेस के 70 वर्ष के कार्यकाल में अधिकांश गांव में शौचालय नहीं थे और मां-बहने शाम ढलने का इंतजार करती थीं, लेकिन स्वच्छ भारत अभियान चलाये जाने के बाद अब ऐसी बात नहीं रह गयी है। उन्होंने कहा कि वर्ष 2018 के अक्टूबर माह तक झारखंड को स्वच्छ बनाने का संकल्प लिया गया है। राज्य में उज्ज्वला योजना के तहत सरकार की ओर से चूल्हा मुफ्त दिया जा रहा है । श्री दास ने कहा कि 14 वर्ष पूर्व झारखंड में सिर्फ भ्रष्टाचार ही होता रहा लेकिन पहली बार बेदाग सरकार बनी है। झारखंड सरकार ने 50 लाख रुपये की संपत्ति के निबंधन कराने पर मात्र एक रुपये लेने का निर्णय लिया है। उन्होंने कहा कि इसी तरह राज्य सरकार ने महिलाओं के लिए रोजगार का सृजन किया है। इस मौके पर बिहार के पूर्व उप मुख्यमंत्री एवं भाजपा विधानमंडल दल के नेता सुशील कुमार मोदी ने कहा कि उप मुख्यमंत्री तेजस्वी प्रसाद यादव पर लगे भ्रष्टाचार के आरोप के 20 दिन बाद अभी तक कोई जवाब सरकार की ओर से नहीं दिया गया है । उन्होंने कहा कि यदि इस मामले में 27 जुलाई तक श्री यादव के खिलाफ कार्रवाई नहीं की गयी तो 27 जुलाई से शुरु हो रहे बिहार विधानमंडल के मानसून सत्र को राजग नहीं चलने देगा। श्री मोदी ने कहा कि उप मुख्यमंत्री का इस्तीफा या उनकी बर्खास्तगी दोनों में से किसी एक को चुनना होगा। उन्होंने कहा कि हवाला मामले में आरोप लगने पर श्री लाल कृष्ण आडवाणी और श्री शरद यादव ने लोकसभा की सदस्यता से इस्तीफा दे दिया था। उन्होंने कहा कि उप मुख्यमंत्री श्री यादव 26 वर्ष की उम्र में ही 26 संपत्ति के मालिक बन गये। उन्होंने सवालिया लहजे में कहा कि इतनी कम उम्र में श्री यादव 750 करोड़ रुपये के मालिक कैसे बन गये। 

Share on Google Plus

About आर्यावर्त डेस्क

एक टिप्पणी भेजें
loading...