बाढ़ प्रभावितों के साथ भी मोदी का भेदभाव : कांग्रेस

modi-discriminates-between-flood-affected-people-too
नयी दिल्ली 30 जुलाई, कांग्रेस ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर चुनाव और वोट को ध्यान में रखकर बाढ़ प्रभावितों के साथ भेदभाव करने का आरोप लगाते हुए कहा है कि उनका असम की ओर ध्यान ही नहीं जा रहा है , लेकिन गुजरात के लिये गठरी खोल दी है जहां जल्द विधानसभा चुनाव होने वाले हैं। कांग्रेस महासचिव बी के हरिप्रसाद ने कहा कि श्री मोदी गुजरात के बाढ़ प्रभावितों की मदद कर उन्हें लुभाने का प्रयास कर रहे हैं। इसके लिए उन्होंने गुजरात के प्रभावित इलाकों का हवाई सर्वेक्षण करके राहत की कई घोषणाए की हैं। असम में कई इलाके एक माह से अधिक समय से जलमग्न हैं और स्थिति अत्यधिक खराब हो चुकी है लेकिन श्री मोदी और उनकी सरकार वहां के लोगों की सुध नहीं ले रही है। असम में फिलहाल कोई चुनाव नहीं हैं , इसलिए वहां के लोगों को उनके हाल पर छोड़ दिया गया है। श्री प्रसाद ने कहा कि यह बहुत दुखद है कि श्री मोदी बाढ़ प्रभावितों को राहत देने का काम भी चुनाव और वोट को ध्यान में रखकर कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि वोटरों को लुभाने के लिए ही प्रधानमंत्री ने गुजरात को 500 करोड़ रुपए की तत्काल राहत देने की घोषणा की है। किसानों को बाढ़ के कारण हुए नुकसान का जायजा लेने के लिए केंद्रीय दल भेजने, जल्द बीमा का भुगतान कराने तथा मृतक आश्रितों को प्रधानमंत्री राहत कोष से दो दो लाख और घायलों को 50-50 हजार रुपए की अतिरिक्त सहायता देने की भी घोषणा की है। असम प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष रिपुन बोरा ने भी केंद्र सरकार पर असम के साथ भेदभाव करने और गैरजिम्मेदार रवैया अपनाने का आरोप लगाया है। श्री बोरा ने कहा कि बाढ़ के कारण असम के बिगड़े हालात से केंद्र सरकार को अवगत कराने के लिये उन्हें यहां प्रेस कांफ्रेंस करनी पड़ी । एक माह से अधिक समय से पूरा प्रदेश बाढ़ के पानी की चपेट में है। राज्य के कई गांव और कस्बे बर्बाद हो चुके हैं तथा कई लोग मारे गए हैं और बड़े स्तर पर फसल तबाह हुई है। 

Share on Google Plus

About आर्यावर्त डेस्क

एक टिप्पणी भेजें
loading...