नीतीश की भ्रष्टाचार के खिलाफ जीरो टॉलरेंस नीति पर राजग ने उठाये सवाल

nda-question-on-nitish-zero-tolerance
पटना 19 जुलाई, बिहार के उप मुख्यमंत्री तेजस्वी प्रसाद यादव के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के साथ हुयी बातचीत के बाद सत्तारुढ़ महागठबंधन के राजनीतिक भविष्य को लेकर उठ रहे सवालों पर जहां विराम लग गया वहीं राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) ने मुख्यमंत्री के भ्रष्टाचार के खिलाफ जीरो टॉलरेंस की नीति पर प्रश्न खड़ा किया है । सत्तारूढ़ महागठबंधन के बड़े घटक राष्ट्रीय जनता दल (राजद) विधायक दल के नेता एवं उप मुख्यमंत्री श्री यादव के खिलाफ केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने पांच जुलाई को प्राथमिकी दर्ज की थी और उसके बाद सात जुलाई को सीबीआई ने कई ठिकानों पर छापा मारा था। इसके बाद महागठबंधन के प्रमुख घटक जनता दल यूनाइटेड (जदयू ) ने श्री तेजस्वी यादव पर खुद को बेगुनाह साबित करने के लिए बिंदुवार तथ्यपरक जवाब देने या पद छोड़ने का दबाव बनाया था। इसी के बाद से ही मुख्यमंत्री और उप मुख्यमंत्री के बीच संवादहीनता बढ़ गयी थी । ऐसे में दोनों नेताओं के बीच गतिरोध को समाप्त करने के लिए महागठबंधन के घटक कांग्रेस की ओर से लगातार कोशिश हो रही थी लेकिन इसमें उन्हें सफलता नहीं मिल रही थी । वहीं, जदयू ने पहले ही इस मामले में नरमी का संकेत देते हुए कहा था कि पार्टी ने उप मुख्यमंत्री से इस्तीफे की मांग नहीं की थी बल्कि उनसे पार्टी की अपेक्षा थी कि वह अपने ऊपर लगे आरोपों के संबंध में जनता के बीच सफाई दें। उधर राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव ने साफ कहा था कि सिर्फ प्राथमिकी दर्ज होने के कारण उप मुख्यमंत्री इस्तीफा नहीं देंगे ।


राजद अध्यक्ष ने कहा था कि जहां तक आरोपों का सवाल है वह इस मामले में सीबीआई, आयकर विभाग और प्रवर्तन निदेशालय के समक्ष अपनी बात रखेंगे । वैसे सभी बातें लोगों की जानकारी में है। महागठबंधन में थम रहे विवाद के बीच भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के प्रदेश अध्यक्ष नित्यानंद राय ने आज कहा कि मुख्यमंत्री श्री कुमार एवं उप मुख्यमंत्री श्री यादव के बीच कल हुयी बातचीत को सार्वजनिक करना चाहिए । मुख्यमंत्री ने श्री यादव के इस्तीफे को लेकर भ्रष्टाचार के खिलाफ अपनी जीरो टॉलरेंस नीति से समझौता कर लिया है । इस मामले में श्री कुमार को सामने आकर बताना चाहिए। भाजपा विधानमंडल दल के नेता एवं पूर्व उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने कहा, “मुख्यमंत्री श्री कुमार को यह बताना चाहिए कि उप मुख्यमंत्री श्री यादव से बंद कमरे में मुलाकात के बाद वह भ्रष्टाचार के खिलाफ जीरो टॉलरेंस की नीति पर कायम हैं या कुर्सी बचाने के लिए उन्होंने समझौता कर लिया है। इसके बाद भी क्या मुख्यमंत्री यह कहेंगे कि बिहार में मैं रहूंगा या भ्रष्टाचारी।” उन्होंने कहा कि भ्रष्टाचार के आरोपों पर जनता को बिन्दुवार सफाई नहीं देने वाले श्री तेजस्वी प्रसाद यादव को क्या मुख्यमंत्री ने अपने मंत्रिमंडल से बर्खास्त करने का इरादा छोड़ दिया है। 

भाजपा के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष एवं विधायक नंदकिशोर यादव ने कहा कि मुख्यमंत्री श्री कुमार और उप मुख्यमंत्री श्री यादव की बातचीत का क्या मतलब है। मुख्यमंत्री को इस पर सफाई देनी होगी। उन्होंने सवालिया लहजे में कहा कि श्री कुमार ने भ्रष्टाचार के खिलाफ जीरो टॉलरेंस की नीति से समझौता कर लिया है। राजग के घटक हिन्दुस्तानी आवाम मोर्चा के अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी ने कहा कि मुख्यमंत्री और उप मुख्यमंत्री ने एक योजना के तहत ऐसा किया है। प्रदेश के लोगों का ध्यान विकास के कार्यों से हटाने के उद्देश्य से राजद अध्यक्ष और श्री कुमार नाटक कर रहे हैं। राजद अध्यक्ष श्री यादव और मुख्यमंत्री श्री कुमार के बीच नूरा-कुश्ती चल रही है । वहीं, जदयू के प्रदेश प्रवक्ता अजय आलोक ने कहा कि उनकी पार्टी को आज भी उप मुख्यमंत्री से बिंदुवार तथ्यपरक जवाब की अपेक्षा है। मुख्यमंत्री श्री कुमार और उप मुख्यमंत्री श्री यादव की मुलाकात अपनी जगह है । उन्होंने कहा कि भ्रष्टाचार को लेकर उनकी पार्टी जीरो टॉलरेंस नीति पर कायम है और मुख्यमंत्री इससे समझौता नहीं कर सकते । 

Share on Google Plus

About आर्यावर्त डेस्क

एक टिप्पणी भेजें
loading...