महिला विश्व कप क्रिकेट : बस एक कदम दूर है भारत

वर्ल्ड कप में टीम इंडिया ने 1983 में वेस्ट इंडीज के साथ लॉड्स में फाइनल खेला। महिला वर्ल्ड कप में टीम इंडिया 2017  में इंग्लैंड के साथ लॉड्स में फाइनल खेलेगी। एकमात्र भारत ही देश है जिसके पुरूष और महिला टीम लॉड्स में फाइनल खेल पाये। अगर भारत लॉड्स में इंग्लैंड को फाइनल में  परास्त करने में सफल हो जाती है तो ऐतिहासिक लॉड्स मैदान में इतिहास रचा जाएगा। अब इंतजार करें 23 जुलाई,2017 तक। क्रिकेट प्रेमी की निगाह कप्तान मिताली राज एवं टीम पर है। जो 100 प्रतिशत देकर विजयी हासिलकर विश्व में डंका बजा दें।



one-step-ahead-wome-cricket
महिला क्रिकेट वर्ल्ड कप में कप्तान मिताली राज ने 6000 रन बनाने वाली खिलाड़ी बन गयी हैं। यह कारनामा आईसीसी महिला वर्ल्ड कप के ग्यारहवें संस्करण के दरम्यान कर दिखायी। अब उम्मीद है देशवासियों की लॉड्स फतह कर लें। 26 जून, 2017 से महिला क्रिकेट वर्ल्ड कप शुरू हुआ।  मेजबान इंग्लैंड के दर्शकों के बीच 35 रनों से पटकनी दे मारी। वेस्ट इंडीज को 7 विकेट से रौदा। पाकिस्तान को 95 रनों से कुचल दिया। वहीं श्रीलंका को 16 रनों से मात दे दी। लगातार 4 मैच जीतने के बाद लगातार 2 मैच दक्षिण अफ्रीका से 8 विकेट से और 6 बार की चैम्पियन ऑस्टेलिया से 115 रनों से हार गयी। इसके बफाइनल खेलेगी। केवल भारत महान है जिसका मेल और फिमेल टीम लॉड्स में मैच खेला और खेलेगा।

शानदार वापसी
भारत की कप्तान मिताली राज के शानदार 109 रन और राजेश्वरी गायकवाड के जानदार 15 रन देकर 5 विकेट से धन्य होकर भारत ने न्यूजीलैंड को 186 रनों से पराजित कर सेमीफाइनल में प्रवेश किया। न्यूजीलैंड ने टॉस जीतकर भारत को बल्लेबाजी करने लिए कॉल किया। फैसला किया.निर्धारिक 50 ऑवर में भारत ने 7 विकेट खोकर 265 रन बनाये।निर्धारित रन बनाकर जीतने की उम्मीद लेकर न्यूजीलैंड की महिलाएं मैदान में उतरी.2 लगातार हार से मायुष और सेमीफाइनल नहीं पहुंचने के डर से बेखौफ होकर भारत की महिलाएं उतरी। भारत के सामने न्यूजीलैंड की बोलती बंद गयी।एक आयी और दूसरी गयी की बारी चलती रही. इसका श्रेय भारतीय गेंदबाजों को जाता हैं। खासकर राजेश्वरी गायकवाड रही जो 15 रन देकर 5 विकेट हथिया ली। उसका यह सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन है। न्यूजीलैंड 79 रन पर ही ढेर हो गया अब तक लॉ स्कोर है। इस तरह भारत 186 से विजय हो गया। इस के साथ भारत धमाकेदार से सेमीफाइनल में किया। उसका मुकाबला टाइटल बचाने वाली ऑस्टेलियाई टीम के साथ है।

हरमनप्रीत सिंह के शानदार शतक
सेमीफाइनल में हरमनप्रीत सिंह के 171 अविजित रन की बदौलत टीम इंडिया ने जीत के लिये 282 रन ऑस्ट्रेलिया को दी। ऑस्ट्रेलिया की ओर से एलेक्स ब्लेकवेल ने शानदार 90 रन बनाये। ब्लेकवेल जीत में पत्थर अटका रही थीं। कप्तान ने वेदा कृष्णमूर्ति को गेंद पकड़ायी, काम नहीं आया। तब भरोसेमंद गेंदबाज दीप्ति शर्मा को गेंद दी। जो ब्लेकवेल को बोल्ड करने में कामयाब हो गयीं। शिखा पाण्डेय  ने 2, झूलन गौस्वामी ने 2,पूनम यादव ने1के साथ सभी के योगदान से 36 रनों से 6 बार की विजेता ऑस्ट्रेलिया को परास्त कर फाइनल में प्रवेश किया।



अब प्रथम सेमीफाइनल की विजेता टीम इंग्लैंड के साथ भारत का मुकाबला होगा। अपने प्रथम मैच में 35 रनों से पराजित कर दी भारत ने इंग्लैंड को। बल्लेबाजी में स्मृति मनडाना,मिताली राज,हरमनप्रीत कौर आदि ने शतक जमाया और झूलन गौस्वामी,दीप्ति शर्मा,शिखा पांडेय,पूनम यादव आदि ने शानदार गेंदबाजी की हैं। वहीं क्षेत्ररक्षण भी अव्वल दर्जा का है।वहीं 123 करोड़ देशवासियों की दुआ साथ है।
Share on Google Plus

About आर्यावर्त डेस्क

एक टिप्पणी भेजें
loading...