पनामागेट, नवाज ने किया इस्तीफा देने से इंकार

panama-papers-row-sharif-says-would-not-quit-pm-s-post
इस्लामाबाद, 22 जुलाई, पाकिस्तानी सुप्रीम कोर्ट द्वारा पनामा पेपर्स लीक मामले में फैसला सुरक्षित रखे जाने के एक दिन बाद आज प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने स्पष्ट तौर पर कहा कि जनता ने उन्हें प्रधानमंत्री चुना है और वह इस पद से इस्तीफा नहीं देंगे। पाकिस्तान की शीर्ष अदालत ने मामले की जांच के लिए गठित संयुक्त जांच टीम (जेआईटी) की रिपोर्ट मिलने और सभी पक्षों की दलीलें सुनने के बाद इस मामले पर फैसला कल सुरक्षित रख लिया था। श्री शरीफ ने अपनी पार्टी पाकिस्तान मुस्लिम लीग-नवाज (पीएमएल-एन) की एक बैठक में अपने रुख पर कायम रहते हुए कहा वह अपने पद से इस्तीफा नहीं देंगे। बैठक के दौरान पीएमएल-एन ने जेआईटी की रिपोर्ट के खंड-10 को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती देने का निर्णय लिया। गृह मंत्री चौधरी निसार अली खान इस बार फिर पार्टी की बैठक में उपस्थित नहीं हुए। मीडिया रिपोर्ट में कहा गया है कि श्री खान पंजाब हाउस में किसी काम में व्यस्त होने के कारण बैठक में उपस्थित नहीं हुए। प्रधानमंत्री के सलाहकार बैरिस्टर जफरुल्लाह ने ‘डॉन’ अखबार को बताया कि यह पनामा पेपर्स मामले पर चर्चा के लिए बुलायी गयी पार्टी की नियमित बैठक थी। उन्होंने बताया कि पार्टी में नये प्रधानमंत्री को लेकर कोई चर्चा नहीं हुई। श्री शरीफ और पीएमएल-एल की कानूनी टीम पूरी तरह आश्वस्त है कि सुप्रीम कोर्ट के आदेश से श्री शरीफ पर कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा। कुछ निजी चैनलों ने हालांकि दावा किया है कि बैठक में प्रधानमंत्री पद के लिए श्री ख्वाजा शरीफ समेत कुछ नामों पर चर्चा हुई। गौरतलब है कि पिछले साल पनामा पेपर्स लीक मामले में श्री शरीफ और उनके परिवार के सदस्यों के नाम का खुलासा होने के बाद से ही पाकिस्‍तान में विपक्षी दलों की ओर से प्रधानमंत्री पद से शरीफ को हटाये जाने की मांग हो रही है। मामले की जांच के लिए सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद छह मई को छह सदस्यीय संयुक्त जांच दल (जेआईटी) का गठन किया गया था। तय समय सीमा के भीतर जेआईटी ने 10 जुलाई को यह रिपोर्ट अदालत को सौंपी थी।

Share on Google Plus

About आर्यावर्त डेस्क

एक टिप्पणी भेजें
loading...