अग्नि एंव भूधसान प्रभावित क्षेत्रों में रह रहे परिवारों के विस्थापन की डेडलाइन तय

rehabilitation-deadline-in-dhanbad
धनबाद 16 जुलाई, झारखंड में धनबाद जिले के झारिया में भारत कोकिंग कोल लिमिटेड अग्नि एवं भूधसान क्षेत्र में रह रहे 3700 परिवारों को तीन चरणों में स्थान खाली कराने की डेडलाइन मई 2018 तय कर दी है। आधिकारिक सूत्रों ने आज यहां बताया कि कंपनी ने खाली कराने की चरणवार योजना को मूर्तरूप देने के लिए आदेश जारी कर दिया है। यह काररवाई बहुत ही जल्द शुरू की जायेगी। इसके लिए गुप्त निर्णय से संबंधित पत्र जिला प्रशासन और झारखंड नवीकरणीय ऊर्जा विकास एजेंसी (जरेडा) प्रबंधन को भेज दिया गया है और उन्हें यह पत्र प्राप्त भी हो चुका है। पत्र के आलोक में खाली कराने की काररवाई पर पहल की जा चुकी है। सूत्रों ने बताया कि कार्ययोजना के तहत पहले चरण में ग्यारह स्थानों से 400 परिवारों को नवम्बर 2017 तक हटाया जायेगा। इसमें गोधर, कुसुंडा, एना, एनटीएसटी, एबीओसीपी, मुराईडीह, गजलीटांड, एकेडब्ल्यूएमसी, मोदीडीह, सेन्द्रा बांसजोड़ा और लोयाबाद क्षेत्र शामिल है। 


सूत्रों ने बताया कि दूसरे चरण में सात स्थानों से 300 परिवारो को हटाने की कार्रवाई प्रारम्भ की जायेगी। इन सभी को मार्च 2018 तक खाली कराने का निर्णय लिया गया है। इस चरण में जिन स्थानों से लोगों को हटाया जायेगा उनमें घनुडीह, कनकनी, नई गोधर, कुसुंडा, आरओसीपी, एबीओसीपी, कतरास चैतुडीह, गजलीटांड क्षेत्र शामिल है। सूत्रों ने बताया कि तीसरे और अंतिम चरण में कुल तीन हजार परिवारों को विस्थापित करने की योजना है। इन्हें मई 2018 तक हर हाल में हटाया जाना है । इस चरण में विस्थापित करने की कार्रवाई जिन क्षेत्रो में शुरू की जायेगी उनमें एबीओसीपी, फुलारीटांड, एनएकेसी, कतरास चौतुडीह, एकेडब्ल्यूएमसी, मोदीडीह, तेतुलमारी, कनकनी, सेन्द्रा बांसजोड़ा, केन्दुआडीह, न्यू गोधर, कुसुंडा, इंडस्ट्री कोलियरी, झरिया, कुस्तौर, एना इस्लामपुर, बस्ताकोला, भगतडीह, घनुडीह, कुजामा, कुइयां, जयरामपुर एवं बरारी शामिल है। सूत्रों ने बताया कि इन 42 स्थानों में से कुछ-कुछ स्थानों से पहले, दूसरे एवं तीसरे चरण में खाली कराने की कार्रवाई की जायेगी। 
Share on Google Plus

About आर्यावर्त डेस्क

एक टिप्पणी भेजें
loading...