अध्यात्म का राजनीति पर प्रभाव जरूरी: कोविंद

spirituality-needed-in-politics
नई दिल्ली, 1 जुलाई, देश के अगले राष्ट्रपति के लिए एनडीए के उम्मीदवार श्री रामनाथ कोविंद ने गच्छाधिपति आचार्य श्रीमद् नित्यानंद सूरीश्वरजी के दीक्षा के 50 वर्ष की संपन्नता पर आयोज्य संयम तप अर्धशताब्दी महोत्सव के लिए अपनी शुभकामनाएं व्यक्त करते हुए कहा कि जैन समाज का राष्ट्र के निर्माण में महत्वपूर्ण योगदान है। देश के संतुलित विकास के लिए अध्यात्म का राजनीति पर प्रभाव जरूरी है। श्री कोविंद ने सुखी परिवार अभियान के प्रणेता गणि राजेन्द्र विजय के सान्निध्य में जैन समाज के शीर्ष प्रतिनिधिमंडल से चर्चा करते हुए उक्त उद्गार व्यक्त किए। उन्होंने आचार्य नित्यानंदजी के अवदानों की चर्चा करते हुए संस्कृति और सांस्कृतिक धरोहर को जीवंतता प्रदान करने में आचार्यजी के द्वारा किये गये प्रयासों को उल्लेखनीय बताया। इस अवसर पर प्रतिनिधिमंडल मंे संसद सदस्य श्री रामसिंह राठवा, अखिल भारतीय संयम तप अर्द्धशताब्दी महोत्सव समिति के श्री दीपक जैन, सुखी परिवार अभियान के राष्ट्रीय संयोजक श्री ललित गर्ग, श्री विजयानंद के संपादक श्री अशोक जैन, श्री शुभकांत जैन, श्री गिरीश पटेल सहित देश के विभिन्न भागों से आये अनेक विशिष्टजन शामिल थे।


गणि राजेन्द्र विजय ने संयम तप अर्द्धशताब्दी महोत्सव के कार्यक्रमों की जानकारी देते हुए बताया कि आचार्य नित्यानंदजी ने संस्कृति के उत्थान, राष्ट्रीय एकता, नैतिक मूल्यों के जागरण, नशामुक्ति, साम्प्रदायिक सद्भावना के लिए उल्लेखनीय उपक्रम किए हैं। उन्होंने श्री कोविंद को राष्ट्रपति बनने के लिए आशीर्वाद प्रदत्त किया एवं अग्रिम शुभकामनाएं दी। श्री ललित गर्ग एवं श्री दीपक जैन ने कोविंदजी को आचार्य नित्यानंदजी का साहित्य भेंट किया। विदित हो कि आचार्य श्रीमद् नित्यानंद सूरीश्वरजी के संयम अर्द्धशताब्दी महोत्सव का भव्य वार्षिक आयोजन का शुभारंभ 2 जुलाई 2017 को प्रातः 10ः00 बजे, तालकटोरा स्टेडियम, नई दिल्ली में होगा। समारोह की अध्यक्षता केन्द्रीय खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति मंत्री श्री रामविलास पासवान करेंगे। अल्पसंख्यक राज्यमंत्री श्री मुख्तार अब्बास नकवी, विदेश राज्यमंत्री श्री वी. के. सिंह, स्वास्थ्य राज्यमंत्री श्री फग्गन कुलस्ते, आदिवासी मामलों के राज्यमंत्री श्री जसवंतसिंह भाभोर, कृषि राज्यमंत्री श्री सुदर्शन भगत सहित अनेक मंत्री एवं सांसद भाग लेंगे।
Share on Google Plus

About आर्यावर्त डेस्क

एक टिप्पणी भेजें
loading...