दुमका : पर्यटन कल्याण विभाग के सचिवद्वय ने वासुकिनाथ धाम व मलूटी का लिया जायजा

tourisam-officer-visited-dumka
दुमका (अमरेन्द्र सुमन) पर्यटन विभाग के सचिव राहुल शर्मा ने वासुकिनाथ धाम पहंुचकर श्रावणी मेला के दौरान श्रद्धालुओं के लिए की गई व्यवस्था का जायजा लिया। उन्होंने कहा श्रावणी मेला के दौरान सरकार द्वारा श्रद्धालुओं को हर संभव सुविधा दी जा रही है। इस बार की व्यवस्था पिछले वर्षों से बेहतर है। पर्यटन सचिव ने पर्यटन विभाग द्वारा 500 श्रद्धालुओं के लिए बनाये गये निःशुल्क टेंट सिटी का निरीक्षण किया एवं टेंट सिटी में श्रद्धालुओं को दी जाने वाली व्यवस्थाओं पर अपनी संतुष्टि जतायी। उन्होंने कहा कि टेंट सिटी में विश्राम करने वाले श्रद्धालु निश्चित ही एक अच्छा संदेश लेकर अपने घर तक जाते होंगे। इस दौरान समाज कल्याण विभाग की सचिव हिमानी पाण्डेय व दुमका के उपायुक्त मुकेश कुमार उपस्थित थे। वासुकिनाथ धाम में निरीक्षण के उपरांत शीघ्र दर्शनम कूपन कटाकर सचिव राहुल शर्मा व सचिव हिमानी पाण्डेय ने फौजदारी बाबा की पूजा अर्चना की। इसके बाद 108 मंदिर व 108 सरोवरो के गांव मलूटी पहुंचकर मुकेश कुमार ने उन्हें टेराकोटा से निर्मित मंदिरों व माँ मौलीक्षा के दर्शन कराये। सूचना जनसम्पर्क विभाग द्वारा मलूटी में बनाये गये प्रदर्शनी सह सूचना सहायता शिविर में मंदिरों के गांव मलूटी के बारे में विशेष जानकारी दी गई। पर्यटन सचिव राहुल शर्मा ने कहा कि वास्तव में मंदिरों का गांव मलूटी अद्भूत है। एक बार यहां आने वाले श्रद्धालु बार-बार मंदिरों के गांव आना चाहेगें। टेराकोटा से निर्मित सभी मंदिर कम बचे हैं लेकिन बचे मंदिरों का संरक्षण सरकार द्वारा किया जा रहा है। इस अवसर पर समाज कल्याण विभाग के सचिव हिमानी पाण्डेय ने कहा कि मलूटी की संुदरता की कल्पना कोई भी व्यक्ति बिना इस गांव पहुंचे नही कर सकता। उन्होंने कहा कि मंदिरों का गांव मलूटी वास्तव में स्वर्ग है। उपायुक्त मुकेष कुमार ने उन्हें बताया कि श्रावणी मेला से लेकर भादो महोत्सव तक यहां प्रदर्षनी सह सूचना सहायता षिविर सूचना जनसम्पर्क विभाग द्वारा खोला जाता है जिसमें बड़ी तादाद में श्रद्धालु पहंुचकर मलूटी के बारे में जानकारी प्राप्त करते हैं। उपायुक्त ने बताया कि प्रतिवर्ष श्रावणी मेले के दौरान श्रद्धालु बाबा धाम एवं वासुकिनाथ धाम में जलार्पण करने के बाद मंदिरों गांव मलूटी पहंुचते है। 

Share on Google Plus

About आर्यावर्त डेस्क

एक टिप्पणी भेजें
loading...