बिहार में बारिश थमने से नदियों के जलस्तर में गिरावट का रूख जारी

water-level-down-in-river-bihar
पटना 15 जुलाई, बिहार में कोसी एवं गंडक समेत प्रमुख नदियों के जलस्तर में गिरावट का सिलसिला जारी है। केन्द्रीय जल आयोग के अनुसार, पिछले 24 घंटों के दौरान राज्य के अधिकतर जिलों में बारिश की रफ्तार लगभग थम गयी है। राज्य में बारिश रूकने से कोसी, गंडक और महानंदा नदियों के जलस्तर में गिरावट का सिलसिला जारी है। बिहार से लगे उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड के विभिन्न स्थानों पर लगातार हो रही वर्षा से हालांकि गंगा नदी के जलस्तर में बक्सर, पटना, मुंगेर और भागलपुर समेत सभी जगहों पर वृद्धि का रुख है। इसके बावजूद गंगा का जलस्तर सभी जगहों पर खतरे के निशान से नीचे है।  आयोग के अनुसार, गंडक का जलस्तर आज सुबह डुमरियाघाट में खतरे के निशान से 10 सेंटीमीटर नीचे दर्ज किया गया। अगले 24 घंटे में गंडक के जलस्तर में करीब 30 सेंटीमीटर कमी की संभावना जताई गयी है। दूसरी तरफ कोसी नदी के जलस्तर में भी गिरावट का सिलसिला जारी है। कोसी नदी का जलस्तर आज सुबह बसुआ और बलतारा में खतरे के लाल निशान से क्रमश: 36 और 37 सेंटीमीटर नीचे दर्ज किया गया। इसी तरह महानंदा नदी के जलस्तर में भी गिरावट का रूख जारी है। सभी नदियों के जलस्तर में अगले 24 घंटे में और कमी आने या फिर स्थिर रहने की संभावना व्यक्त की गयी है। आयोग के पूर्वानुमान में इन नदियों के जलस्तर में अगले 24 घंटे के दौरान अधिकतर स्थानों पर कमी आने की संभावना जताई गयी है। 


इस बीच भागलपुर से यहां प्राप्त रिपोर्ट के अनुसार गंगा और कोसी नदी के जलस्तर में वृद्धि से जिले के नवगछिया अनुमंडल के रंगरा, खरीक, इस्माइलपुर, गोपालपुर, नारायणपुर प्रखंडों के कुछ निचले इलाकों में पानी फैल गया है। पानी के काफी दबाव के कारण देर रात विशु राउत पुल के समीप गाइड बांध का डेढ़ सौ मीटर तक धवस्त हो गया। नवगछिया के अनुमंडल पदाधिकारी डा. आदित्य प्रकाश ने बताया कि घटना की जानकारी के बाद जल संसाधन विभाग के अभियंताओं की देख-रेख में मरम्मति कार्य तेजी से कराया जा रहा है। अन्य बांधों की सुरक्षा के लिए चौबीस घंटे चौकसी बरती जा रही है। प्रभावित क्षेत्रों में राहत केन्द्रो और नावों की व्यवस्था कर ली गई है। इस बीच योजना एवं विकास विभाग की ओर से जारी आंकड़ों के अनुसार प्रदेश में पिछले 24 घंटों के दौरान लगभग सभी जिलों में नहीं के बराबर वर्षा रिकॉर्ड की गयी है। 
Share on Google Plus

About आर्यावर्त डेस्क

एक टिप्पणी भेजें
loading...