उपराष्ट्रपति पद की मर्यादा, गरिमा बरकरार रखेंगे: वेंकैया

will-retain-dignity-of-vice-president-s-post--venkaiah
नयी दिल्ली 18 जुलाई, भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता एम वेंकैया नायडू ने राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) की ओर से उपराष्ट्रपति पद के उम्मीदवार बनाये जाने पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और पार्टी अध्यक्ष अमित शाह के प्रति आज आभार व्यक्त किया तथा देश को विश्वास दिलाया कि वह इस उच्च संवैधानिक पद की मर्यादा एवं गरिमा को बरकरार रखेंगे। श्री नायडू ने यहां राज्यसभा के महासचिव शमशेर के शरीफ के समक्ष अपना नामांकन पत्र दाखिल करने के बाद संसद भवन परिसर में संवाददाताओं से कहा कि विशाखापट्नम के लॉ कॉलेज से विधि स्नातक करने के बाद से उनका सार्वजनिक जीवन चार दशक तक जनता के बीच, जनता के लिये और जनता की सेवा करते हुए बीता है। उन्होंने कार्यकर्ता, विधायक, सांसद, मंत्री के रूप में काम किया और जनता के लिये काम करना उनका ध्येय रहा है। उन्होंने कहा कि अब उन्हें जनता के बीच काम करने के बाद अब नयी जिम्मेदारी संभालनी होगी। वह प्रधानमंत्री श्री मोदी और भाजपा अध्यक्ष श्री शाह और राजग के विभिन्न नेताओं, अन्नाद्रमुक, तेलंगाना राष्ट्र समिति, वाईएसआर कांग्रेस और इंडियन नेशनल लोकदल के प्रति आभारी हैं जिन्होंने उन्हें इस दायित्व के लिये उपयुक्त समझा है। उन्होंने कहा कि भारत की सबसे बड़ी ताकत संसदीय लोकतंत्र हैं। उपराष्ट्रपति पद के अपने दायित्व हैं और कार्य की मर्यादायें हैं। इस पद पर सर्वपल्ली राधाकृष्णन, डॉ. ज़ाकिर हुसैन, मोहम्मद हिदायतुल्ला, श्री आर. वेंकटरमण, डॉ. शंकरदयाल शर्मा और श्री भैराेंसिंह शेखावत आदि नेता रहे हैं। वह इन नेताओं द्वारा स्थापित गरिमापूर्ण परंपरा का निर्वाह करेंगे। वह जनता को आश्वस्त करते हैं कि उपराष्ट्रपति के रूप में सभी मर्यादाओं का पालन करेंगे। उपराष्ट्रपति पद की उम्मीदवारी के अनिच्छुक होने की मीडिया रिपोर्टों को लेकर श्री नायडु ने सफाई देते हुए कहा कि उनकी माँ का जब निधन हुआ था तब वह बहुत छोटे थे। उन्होंने भाजपा को अपनी माँ माना और उसकी सेवा करते हुए इस मुकाम तक पहुंचे हैं। इसलिये उन्हें इस पद पर आने के बाद पार्टी से दूर होने की पीड़ा है। उन्हें इस बात का मलाल रहेगा कि वह अब पार्टी कार्यालय भी नहीं जा पायेंगे। वह चाहते थे कि उनकी राजनीतिक सक्रियता के बीच श्री मोदी 2019 में दोबारा प्रधानमंत्री बनें। उसके बाद उनका सामाजिक जीवन में लौटने का मन था। लेकिन नियति को कुछ और ही मंज़ूर था। श्री नायडू ने कहा कि उन्होंने मंत्रिपरिषद से इस्तीफा दे दिया है और पांच अगस्त को उपराष्ट्रपति चुनाव में यदि वह विजयी हुए तो राज्यसभा की सदस्यता से भी त्यागपत्र दे देंगे। उन्होंने संसदीय कार्य मंत्री अनंत कुमार, भाजपा के महामंत्री भूपेन्द्र यादव और भाजपा संसदीय दल के कार्यालय सचिव बालासुब्रह्मण्यम के निरंतर सहयोग के लिये भी आभार व्यक्त किया।

Share on Google Plus

About आर्यावर्त डेस्क

एक टिप्पणी भेजें
loading...