पटना : ए॰आई॰एस॰एफ॰ ने निकाला संकल्प जुलूस


  • संगठन के 82वें स्थापना दिवस और शहीद दीनानाथ पाण्डेय की शहादत दिवस पर निकला जुलूस, बी॰एन॰ काॅलेज स्थित शहीद स्थल पर छाई गंदगी की सफाई एवं प्राचार्य से मिलकर रोष व्यक्त किया।

aisf-protest-patna
पटना:- आॅल इण्डिया स्टूडेन्ट्स फेडरेशन के छात्रों ने आज पटना वि॰वि॰ गेट से संकल्प जुलूस निकाला। ए॰आई॰एस॰एफ॰ के 82वें स्थापना दिवस और आजादी के बाद प्रथम छात्र शहीद दीनानाथ पाण्डेय की शहादत दिवस पर निकला जुलूस बी॰एन॰ काॅलेज तक गया। पीयू गेट से पटना काॅलेज, पी॰एम॰सी॰एच॰ होते हुए जुलूस बी॰एन॰ काॅलेज स्थित शहीद दीनानाथ पाण्डेय के स्मृति चिन्ह पर छात्रों ने माल्यार्पण किया। हालांकि स्मृति स्थल पर गंदगी देख आक्रोशित छात्रों ने पहले परिसर को साफ किया तथा पुनः प्राचार्य से मिलकर सफाई न होने पर रोष व्यक्त किया। प्राचार्य राजकिशोर प्रसाद ने खेद व्यक्त करते हुए कहा कि माली मात्र एक है जिससे काम प्रभावित हो जाता है लेकिन इस चीज का ख्याल रखा जाएगा। स्मृति स्थल के पास ही ए॰आई॰एस॰एफ॰ के राज्य पार्षद व बी॰एन॰ काॅलेज के छात्र विद्यानंद पासवान की अध्यक्षत में सभा भी हुई। सभा को संबोध्ति करते हुए ए॰आई॰एस॰एफ॰ के राज्य सचिव सुशील कुमार ने कहा कि आज देश के पहले छात्र संगठन ए॰आई॰एस॰एफ॰ का स्थापना दिवस और स्वतंत्रता प्राप्ति के बाद प्रथम छत्र शहीद दीनानाथ पाण्डेय की शहादत दिवस है। आज के वक्त में ए॰आई॰एस॰एफ॰ जैसे संगठन पर जवाबदेही है कि शहीदों के विरासत को जिन्दा रख सबको शिक्षा एवं रोजगार देने की लड़ाई तेज करे। जिला सचिव सुशील उमाराज ने कहा कि 1955 के छात्र शहीद दीनानाथ पाण्डेय के योगदानों से नई पीढ़ी को प्रेरणा लेते हुए सत्ता के खिलाफ अंतिम मुकाम तक संघर्ष चलाना चाहिए। 1955 में छात्र आंदोलन के दबाव मंे प्रधानमंत्री को भी पटना आना पड़ा था। राज्य कार्यकारी सदस्य महेश कुमार ने कहा कि छात्रों के हित में 81 वर्षों के ए॰आई॰एस॰एफ॰ का इतिहास संघर्षों एवं कुर्बानियों का इतिहास है। सभा को राज्य परिषद् सदस्य सुभाष पासवान, मीर सैफ अली, मनीष कुमार, राजीव, मंजीत, उपाध्याय, रजनीश, आफताब, अमृत, अमर ज्योति, रौनक, उपेन्द्र, दिनेश, ध्रुव प्रकाश ने संबोधित किया।

Share on Google Plus

About आर्यावर्त डेस्क

एक टिप्पणी भेजें
loading...