पटना : प्रभारी प्राचार्य व प्राॅक्टर को छात्रों के आक्रोश का करना पड़ा सामना

  • प्राॅक्टर के लिखित आश्वासन के बाद छात्र हुए शांत, शाम में कुलपति ने बुलाकर की बात, 1 सितंबर के पहले आर्ट काॅलेज को मिलेंगे नये प्राचार्य, हाॅस्टल की व्यवस्था, पेयजल, ट्वायलेट की व्यवस्था दुरूस्त करने का दिलाया भरोसा, एम॰एफ॰ए॰ की पढ़ाई के लिए सरकार को पत्र भेजने का आश्वासन।

aisf-protest-patna
पटना आर्ट काॅलेज। पटना आर्ट काॅलेज में 15 महीने बाद पहुँचे प्रभारी प्राचार्य चंद्रभूषण श्रीवास्तव को छात्रों के गुस्से का शिकार होना पड़ा। साथ में पहुंचे पटना वि॰वि॰ प्राॅक्टर जी॰के॰ पिल्लई को भी छात्रों का आक्रोश झेलना पड़ा। दरअसल पिछले वर्ष 80 दिनों चले आंदोलन के बाद त्रिस्तरीय वार्ता में वि॰वि॰ प्रशासन ने प्रभारी प्राचार्य को हटाने एवं केस वापसी का भरोसा दिलाया था। दो माह के लिए प्रो॰ अरुण कमल को प्रभारी प्राचार्य बनाया भी गया था। लेकिन पुनः चंद्रभूषण श्रीवास्तव को प्रभारी प्राचार्य बनाकर घर से ही काॅलेज चलाने के लिए छोड़ दिया गया था। आज अचानक बिना किसी पूर्व सूचना के प्रभारी प्राचार्य चंद्रभूषण श्रीवास्तव काॅलेज में पहुँचे तो छात्रों का आक्रोश फूट पड़ा। मौके पर मौजूद पीयू प्राॅक्टर ने प्रचार्य को पुनः परिसर में नहीं आने का लिखित आश्वासन दिया और शाम में कुलपति से वार्ता तय करायी तब छात्र शांत हुए।

शाम में पटना वि॰वि॰ कुलपति प्रो॰ रासबिहारी प्रसाद सिंह से आठ सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल मिला। प्रतिनिधिमंडल ने प्रभारी प्राचार्य को हटा नये स्थायी प्राचार्य की बहाली, पिछले दिनों किये गये मुकदमें की वापसी, आर्ट काॅलेज में छात्रावास की मरम्मति पेयजल-शौचालय की व्यवस्था छात्रावास एवं काॅलेज में सुदृढ़ करने, काॅलेज में नियमित पढ़ाई व पर्याप्त संख्या में क्लास रूम, एम॰एफ॰ए॰ की पढ़ाई शुरू करने एवं पढ़ाई करा 8वें सेमेस्टर की परीक्षा दिसंबर तक कराने की मांगी की। कुलपति प्रो॰ रासबिहारी सिंह ने 1 सितंबर तक प्राचार्य भेजने, छात्रावासों की मरम्मति, पेयजल-शौचालय की व्यवस्था दुरूस्त करने का भरोसा दिलाते हुए कल काॅलेज में इंजीनियर भेजने की बात कही। एम॰एफ॰ए॰ की पढ़ाई शुरू करने, सरकार को पत्र भेजने की बात कही। वहीं स्थायी प्राचार्य के लिए राजभवन से अंतिम तौर पर स्वीकृति मिलने की स्थिति का जिक्र किया। मुकदमें की समीक्षा करने की बात कही। वहीं कुलपति प्रो॰ सिंह ने नया पीएच॰डी॰ रेगुलेशन की स्वीकृति राज्यपाल के आने के बाद कराने की बात कही। जबकि लाॅ काॅलेज में शुरू में पोट्र्स कोटे का आवेदन जमा नहीं हानेे पर लाॅ काॅलेज प्राचार्य से बात करने का भरोसा दिलाया। प्रतिनिधिमंडल में ए॰आई॰एस॰एफ॰ राज्य सचिव सुशील कुमार, पीयू सचिव संदीप शर्मा, ए॰सी॰एस॰एफ॰ अध्यक्ष रमाकांत उर्फ भगत सिंह, सचिव मुकेश कुमार, नीतेश कुमार, विपिन, विक्की एवं अमित शामिल थे। वार्ता में कुलसचिव रवीन्द्र कुमार, कुलानुशासक जी॰के पिल्लई मौजूद थे। प्रदर्शन में ए॰आई॰एस॰एफ॰ के राज्य सह सचिव रंजीत पंडित, जिला सचिव सुशील उमा राज, उपाध्यक्ष जन्मेजय, धनंजय, अंकुर, अविनाश आदि मौजूद थे।
Share on Google Plus

About आर्यावर्त डेस्क

एक टिप्पणी भेजें
loading...