चुनाव आयोग ने रद्द किए दो वोट, वोटों की गिनती शुरू

big-jot-to-congress-ec-rejects-plea
गांधीनगर, 08 अगस्त, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के गृहराज्य गुजरात में आज विपक्षी विधायकाें के कम से कम नौ क्रॉस वोटिग के बीच तीन सीटों पर हुए राज्यसभा चुनाव के बाद इनमें से 2 वोटों को तकनीकी आधार पर रद्द करने की  कांग्रेस की मांग को देर रात चुनाव आयोग ने स्वीकार कर लिया जिसके बाद मतगणना की प्रक्रिया शुरू हो गयी है।  आयोग ने देर रात जारी बयान में कहा है कि इसने वोटिंग संबंधी शिकायत का वीडियो देखा है तथा इससे स्पष्ट है कि दोनो ने वोटिंग के नियमों का उल्लंघन किया है इसलिए इनके मत रद्द होने चाहिए। कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष भरतसिंह सोलंकी ने कहा कि आयोग ने लोकतंत्र में लोगों के विश्वास को बहाल किया है। कांग्रेस प्रत्याशी अहमद पटेल सबसे अधिक मतों से जीतेंगे। भाजपा और कांग्रेस दोनो के लिए प्रतिष्ठा का प्रशन बने इस चुनाव में भाजपा अध्यक्ष अमित शाह, केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी और कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के राजनीतिक सचिव अहमद पटेल समेत चार उम्मीदवार हैं। उधर कांग्रेस और भाजपा ने इस मामले में जबरदस्त आरोप प्रत्यारोप के बीच तीन तीन बार चुनाव आयोग के पास अपने पक्ष और संबंधित दस्तावेज रखे। निर्धारित समय चार बजे से करीब दो घंटे पहले ही सभी 176 विधायकों के वोट डालने के कारण मतदान समय पूर्व संपन्न हो गया था। शाम पांच बजे से मतगणना होने वाली थी जो रात साढे ग्यारह बजे तक शुरू नहीं हुई थी। कांग्रेस ने भाजपा के लिए क्रॉस वोटिंग करने वाले पूर्व मुख्यमंत्री शंकरसिंह वाघेला गुट के दो कांग्रेस विधायकों राघव पटेल तथा भोला गोहिल के कथित तौर पर नियमों का उल्लंघन कर भाजपा प्रत्याशी अमित शाह समेत पार्टी के तीनों उम्मीदवारों को बैलेट दिखाने को लेकर अापत्ति की थी तथा उनके मत को रद्द करने की चुनाव आयोग से मांग की थी। इसको लेकर शाम पांच बजे ही शुरू होने वाली मतगणना रात साढे ग्यारह बजे तक शुरू नहीं हो सकी थी। भाजपा के वरिष्ठ नेता तथा गुजरात के उपमुख्यमंत्री नीतिन पटेल ने कहा कि वीडियो में स्पष्ट है कि कांग्रेस के चुनाव एजेंट शक्तिसिंह गोहिल ने राघवजी पटेल से धक्कामुक्की की तथा हार की आशंका के चलते पहले से सुनियोजित साजिश के तहत ऐसा बर्ताव किया। कांग्रेस ने आयोग पर दबाव बनाया जिससे उसने सही निर्णय नहीं दिया। घटना की सीडी को देश को सार्वजनिक करना चाहिए तथा अपने निर्णय पर पुनर्विचार करना चाहिए। जनता को पता लगेगा कि आयोग जैसी बडी संस्था भी गलती कर सकती है। हालांकि उन्होंने दावा किया कि मत रद्द होने पर भी भाजपा के तीनो उम्मीदवार जीतेंगे। 

Share on Google Plus

About आर्यावर्त डेस्क

एक टिप्पणी भेजें
loading...