राजद कांग्रेस के शोरगुल के कारण विधान परिषद् की कार्यवाही दो बार स्थगित

bihar-council-disturbed-by-rjd-congress
पटना 22 अगस्त,  बिहार विधान परिषद् में आज राष्ट्रीय जनता दल (राजद) और कांग्रेस सदस्यों के बाढ़ एवं सृजन घोटाले को लेकर भारी शोरगुल और नारेबाजी के कारण सदन की कार्यवाही भोजनावकाश से पूर्व दो बार स्थगित करनी पड़ी। उप सभापति हारूण रशीद के आसन ग्रहण करते ही कांग्रेस के दिलीप कुमार चौधरी ने राज्य में आयी भीषण बाढ़ से हुई जानमाल की क्षति का मामला उठाते हुए कहा कि उन्होंने इस पर कार्यस्थगन की सूचना दी है जिसे स्वीकार कर चर्चा करायी जानी चाहिए। उन्होंने कहा कि बाढ़ के कारण प्रदेश में हाहाकार मचा हुआ है। सरकार जो आंकड़ा दे रही है वह पूरी तरह से सही नहीं है। श्री चौधरी ने कहा कि उत्तर बिहार और सीमांचल के बाढ़ प्रभावित जिलों में स्थिति काफी भयावह है। मधुबनी, दरभंगा, सीतामढ़ी, कटिहार, पूर्णिया, किशनगंज और अररिया जिले में राहत के नाम पर सिर्फ खानापूर्ति की जा रही है। उन्होंने कहा कि सरकारी व्यवस्था के नाम पर कुछ नहीं हो रहा है। एक करोड़ से अधिक लोग बाढ़ से प्रभावित हुए हैं। सरकार को सारे कामकाज छोड़कर इस पर चर्चा करानी चाहिए। 



इस पर उप सभापति ने परिषद् की कार्य संचालन नियमावली का हवाला देते हुए उनके कार्यस्थगन प्रस्ताव को नामंजूर कर दिया। इसी दौरान राजद के सुबोध कुमार राय ने कहा कि सृजन घोटाले को लेकर उन्होंने भी कार्यस्थगन की सूचना दी है। सृजन घोटाला व्यापम से भी बड़ा है इसलिए सरकार को इस पर जवाब देना चाहिए। इस पर उप सभापति ने उनके कार्यस्थगन सूचना को भी अस्वीकृत कर दिया। उप सभापति के इतना कहते ही राजद और कांग्रेस के सदस्य सदन के बीच में आ गये और नारेबाजी करने लगे। राजद सदस्य ‘सृजन का चोर गद्दी छोड़’ का नारा लगाते रहे। इसी दौरान पूर्व मुख्यमंत्री श्रीमती राबड़ी देवी ने कहा कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी इस मामले में पहले इस्तीफा करें इसके बाद ही केन्द्रीय जांच ब्यूरो से सही जांच हो पायेगी। शोरगुल के बीच ही स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय ने जनता दल यूनाईटेड (जदयू) के संजीव कुमार सिंह के एक अल्पसूचित प्रश्न का उत्तर दे रहे थे लेकिन राजद और कांग्रेस सदस्यों के नारेबाजी के कारण सुना नहीं जा सका। इसके बाद उप सभापति ने कार्यवाही एक बजे तक के लिए स्थगित कर दी। 

इसके बाद जब फिर कार्यवाही शुरू हुई तब कांग्रेस के दिलीप कुमार चौधरी ने बाढ़ और राजद के सुबोध राय ने सृजन घोटाले का मामला उठाया। इस पर उप सभापति ने कहा कि सदस्य इसे ध्यानाकर्षण की सूचना में लाये सरकार जवाब देगी। तभी संसदीय कार्यमंत्री श्रवण कुमार ने कहा कि सरकार इसका जवाब देने के लिए तैयार है। श्री कुमार के इतना कहते ही राजद और कांग्रेस के सदस्य सदन के बीच फिर से आ गये और नारेबाजी करने लगे। नारेबाजी के बीच ही उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने कहा कि इस बार की बाढ़ पहले से भी भयावह है। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार फिर से आज बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों के सर्वेक्षण के लिए गये हुए हैं। बाढ़ प्रभावित इलाकों में राष्टीय आपदा बल की 28, राज्य आपदा बल की 16 और सेना का सात कॉलम राहत एवं बचाव कार्य में लगा हुआ है। शोरगुल के बीच ही श्री मोदी ने कहा कि इसी तरह 280 नौका प्रभावित इलाकों में 24 घंटे तैनात है। प्रभावित लोगों के बीच खाद्य सामग्री वितरित की जा रही है। प्रभावित इलाकों में अधिकारी 24 घंटे राहत कार्य में लगे हुए हैं। बाढ़ से सवा करोड़ से ज्यादा लोग प्रभावित हुए हैं। उन्होंने कहा कि पांच लाख प्रभावित लोग सामुदायिक शिविरों में रह रहे हैं। प्रत्येक प्रभावित परिवार के लोगों के खाते में छह-छह हजार रुपये दिये जायेंगे। सदन को अव्यवस्थित होते देख उप सभापति ने कार्यवाही भोजनावकाश तक के लिए स्थगित कर दी। 

Share on Google Plus

About आर्यावर्त डेस्क

एक टिप्पणी भेजें
loading...