दो वोटों को रद्द करने पर अडी कांग्रेस, नहीं शुरू हो पायी मतगणना

congress-insists-on-cancellation-of-two-votes-counting-delays
गांधीनगर, 08 अगस्त, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के गृहराज्य गुजरात में आज विपक्षी विधायकाें के कम से कम नौ क्रॉस वोटिग के बीच तीन सीटों पर हुए राज्यसभा चुनाव के बाद इनमें से 2 वोटों को तकनीकी आधार पर रद्द करने की कांग्रेस की मांग को लेकर देर रात तक मतगणना शुरू नहीं हो पायी, हालांकि आयोग के सूत्रों का कहना है कि चुनाव आयोग इस प्रकरण पर बैठक कर रहा है और आज रात ही इस मामले में अपना निर्णय सुना देगा जिसके बाद अगर अदालती पेंच नहीं फंसा तो मतगणना भी हो जाएगी। भाजपा और कांग्रेस दोनो के लिए प्रतिष्ठा का प्रशन बने इस चुनाव में भाजपा अध्यक्ष अमित शाह, केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी और कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के राजनीतिक सचिव अहमद पटेल समेत चार उम्मीदवार हैं। उधर कांग्रेस और भाजपा ने इस मामले में जबरदस्त आरोप प्रत्यारोप के बीच तीन तीन बार चुनाव आयोग के पास अपने पक्ष और संबंधित दस्तावेज रखे। रात दस बजे तक आयोग कोई फैसला नहीं ले सका था। निर्धारित समय चार बजे से करीब दो घंटे पहले ही सभी 176 विधायकों के वोट डालने के कारण मतदान समय पूर्व संपन्न हो गया था। शाम पांच बजे से मतगणना होने वाली थी जो रात दस बजे तक शुरू नहीं हुई। कांग्रेस ने भाजपा के लिए क्रॉस वोटिंग करने वाले पूर्व मुख्यमंत्री शंकरसिंह वाघेला गुट के दो कांग्रेस विधायकों राघव पटेल तथा भोला गोहिल के कथित तौर पर नियमों का उल्लंघन कर भाजपा प्रत्याशी अमित शाह समेत पार्टी के तीनों उम्मीदवारों को बैलेट दिखाने को लेकर अापत्ति की है तथा उनके मत को रद्द करने की चुनाव आयोग से मांग की है। लेकर शाम पांच बजे ही शुरू होने वाली मतगणना अब तक शुरू नहीं हो सकी है। इस मामले के अदालत में भी पहुंचने की संभावना है। तीसरी बार चुनाव अायोग से मुलाकात के बाद कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने फिर कहा कि दोनो मत रद्द होने ही चाहिए। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता तथा गुजरात के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष अर्जुन मोढवाडिया ने आयोग तथा पूर्व में दो बार सेवा विस्तार पा चुके रिटर्निंग ऑफिसर और विधानसभा के सचिव डी एम पटेल की भूमिका पर ही संदेह व्यक्त करते हुए कहा है कि कही आयोग भाजपा के साथ मिली भगत कर कांग्रेस को हराने के लिए वोटों की हेराफेरी में तो शामिल नहीं। उधर नयी दिल्ली में पार्टी के एक और प्रतिनिधिमंडल के साथ आयोग से मिलने वाले पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम ने कहा कि अायोग को 11 जून 2016 को हरियाणा में ऐसे ही मामले की तर्ज पर दोनो मतों को रद्द करना चाहिए। कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि आयोग के पास ही इस मामले में निर्णय लेने का अंतिम अधिकार है। रिटर्निंग ऑफिसर के पास नहीं। इससे पहले श्री मोढवाडिया ने कहा कि राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के स्पष्टीकरण तथा जदयू के इकलौते विधायक के काग्रेस के पक्ष में मतदान की स्पष्टता के बाद भी भाजपा इनके वोटों पर दावा कर रही है जिससे यह संशय पैदा होता है कि कही आयोग के साथ मिल कर सत्तारूढ दल ने वोटों की हेराफेरी तो नहीं कर ली है। दिल्ली में भाजपा आयोग में वरिष्ठ मंत्रियों का जमावडा लगा कर उस पर दबाव बना रही है। उधर इस मामले को लेकर गेंद अब चुनाव आयोग के पाले में है। वित्त मंत्री अरूण जेटली की अगुवाई में भाजपा के उच्च स्तरीय प्रतिनिधिमंडल ने भी अपना पक्ष नयी दिल्ली में आयोग के समक्ष रखा। भाजपा ने भी कांग्रेस की तर्ज पर तीन तीन बार आयोग के समक्ष अपना पक्ष रखा। इसके बाद केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा कि हार के डर से कांग्रेस इस मुद्दे को उठा रही है। उन्होंने मतदान समाप्त होने तक इस मुद्दे को नहीं उठाने पर सवाल खडे किये। उन्होंने कहा कि एक बार मतदान बैलेट बॉक्स में जाने के केवल अदालत के ही निर्देश पर ही कुछ किया जा सकता है। उन्होंने कांग्रेस की ओर से रिटर्निंग ऑफिसर और केंद्रीय पर्यवेक्षकों पर सवाल खडे करने पर एतराज जताया और कहा कि उसके सारे आरोप बेबुनियाद हैं। घटना की वीडियो फुटेज से भी यह स्पष्ट है।

Share on Google Plus

About आर्यावर्त डेस्क

एक टिप्पणी भेजें
loading...