बिहार : बाढ़ को राष्ट्रीय आपदा घोषित करे केंद्र सरकार.


  • भाकपा-माले की राज्यस्तरीय टीम बाढ़ इलाके के दौरे पर.

cpi-ml-demand-announce-national-disster
पटना 20 अगस्त, भाकपा-माले के राज्य सचिव कुणाल ने बिहार में प्रलंयकारी बाढ़ को अविलंब राष्ट्रीय आपदा घोषित करने की मांग की है. उन्होंने कहा कि बाढ़ की चपेट में बिहार के तकरीबन 3 करोड़ लोग किसी न किसी रूप में प्रभावित हुए हैं. बिहार के साथ-साथ असम, पूर्वी यूपी के लोग भी बाढ़ की चपेट में हैं. इसलिए इसे राष्ट्रीय आपदा घोषित करते हुए युद्ध स्तर पर राहत कार्य आरंभ किया जाना चाहिए. केंद्र अथवा बिहार सरकार द्वारा चलाया जा रहा राहत अभियान बेहद न्यूनतम है. इस बीच, भाकपा-माले की एक राज्यस्तरीय टीम आज से बाढ़ प्रभावित इलाके के दौरे पर निकली है. पोलित ब्यूरो सदस्य काॅ. धीरेन्द्र झा, मीना तिवारी व शशि यादव ने आज मुजफ्फरपुर व दरभंगा का दौरा किया. धीरेन्द्र झा व राज्य कमिटी के सदस्य नवल किशोर पूर्णिया, अररिया, कटिहार आदि इलाकों का दौरा करेंगे. बाढ़ प्रभावित इलाकों में निकलने के पूर्व धीरेन्द्र झा ने कहा है कि बाढ़ पीड़ितों के लिए सरकार राहत कार्य में गति लाए. प्रत्येक परिवार के लिए तत्काल 1 क्विंटल अनाज व 15 हजार रु. मुहैया कराए. साथ ही, पुनर्वास व राहत टेंट के लिए आवश्यक कदम उठाये. मृतक के परिजन को 5 लाख के मुआवजे की राशि प्रदान की जाए. उन्होंने कहा कि भाकपा-माले ने बाढ़ पीड़ितों के लिए राहत अभियान की शुरूआत कर दी है. सरकार की ओर से पर्याप्त कदम न उठाने की वजह से बाढ़ पीड़ितों में आक्रोश भी है.

Share on Google Plus

About आर्यावर्त डेस्क

एक टिप्पणी भेजें
loading...