हर स्तर पर श्रेष्ठ प्रदर्शन करने लगे हैं भारतीय क्रिकेटर

  • *कप्तान विराट कोहली के नेतृत्व में श्रीलंका को क्लीन स्वीप किया
  • * कप्तान मिताली राज के नेतृव में वर्ल्ड कप के फाइनल में इंग्लैंड से पराजित
  • * इंडिया - A टीम के कप्तान मनीष पांडे के नेतृत्व में ट्राई सीरीज में फतह
  • * अंडर -19 टीम का कप्तान पृथ्वी शॉ ने इंग्लैंड को क्लीन स्वीप कर दिया

cricket-won-every-level
पटना, कपिल देव, सौरव गांगुली, एम एस धोनी, अजहरुद्दीन जैसे कप्तान भी इस कारनामे को अंजाम नहीं दे पाए थे, लेकिन कोहली ने इसे मुमकिन कर के दिखा दिया. श्रीलंका के खिलाफ टीम इंडिया 3 टेस्ट मैचों की सीरीज के तीनों मैच जीत चुकी है. तीसरा मैच जीतकर कप्तान विराट कोहली ने अपने नाम एक ऐसा रिकॉर्ड दर्ज कर लिया है, जो आज तक भारतीय टेस्ट इतिहास में कभी नहीं बना. कपिल देव, सौरव गांगुली, एम एस धोनी, अजहरुद्दीन जैसे कप्तान भी इस कारनामे को अंजाम नहीं दे पाए थे, लेकिन कोहली ने इसे मुमकिन कर के दिखा दिया. श्रीलंका को पारी और 171 रन से हराया. श्रीलंका की दूसरी केवल 181 रन पर सिमट गई. भारत ने श्रीलंका को तीसरे टेस्ट मैच में हराते हुए 3 मैचों की सीरीज 3-0 से जीत लिया. भारत ने विदेश में पहली बार 3-0 से क्लीन स्वीप किया है. टीम इंडिया के 85 साल के टेस्ट इतिहास में कोई भी कप्तान विदेशी सरजमीं पर 3 या उससे ज्यादा टेस्ट मैचों की सीरीज को क्लीन स्वीप नहीं कर सका है. टीम इंडिया ने 2004 में बांग्लादेश और 2005 में जिम्बाब्वे में जरूर सीरीज क्लीन स्वीप की थी लेकिन वो सिर्फ 2 टेस्ट मैचों की सीरीज थी. इस बार विराट कोहली की अगुवाई में टीम इंडिया ने पहली बार सीरीज को 3-0 से जीत लिया है. भारत ने गॉल में खेले गए पहले टेस्ट में श्रीलंका को 304 रनों से हराया था. इसके बाद कोलंबो में उसने मेजबान टीम को एक पारी और 53 रनों से हराकर सीरीज अपने नाम की थी. यह भारत की श्रीलंका में पारी के अंतर से पहली जीत थी. इसके बाद भारत ने कैंडी का रुख किया और तीसरे टेस्ट में टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करते हुए शिखर धवन (119), लोकेश राहुल (85) और अपने करियर का पहला सैकड़ा जड़ने वाले हार्दिक पांड्या (108) की शानदार पारियों के दम पर अपनी पहली पारी में 487 रन बनाए. इसके बाद भारत ने कुलदीप यादव (40-4) के नेतृत्व में अपने गेंदबाजों के उम्दा प्रदर्शन के दम पर श्रीलंका की पहली पारी 135 रनों पर समेट कर उसे फॉलोऑन को मजबूर कर दिया. श्रीलंका फॉलोऑन करते हुए तीसरे दिन का दूसरा सत्र समाप्त होने से पहले ही 181 रन बनाकर सिमट गई.


इसके साथ ही भारत ने 2015 से लेकर अब तक लगातार नौ सीरीज जीतकर आस्ट्रेलिया के रिकॉर्ड की बराबरी भी कर ली है. 2005 से 2008 के बीच आस्ट्रेलिया ने लगातार नौ सीरीज जीती थी. फॉलोऑन के लिए उतरी श्रीलंकाई टीम ने दूसरे दिन रविवार को एक विकेट के नुकसान पर 19 रन बनाए थे. सोमवार को पारी को आगे बढ़ाने उतरी मेजबान टीम ने पहले सत्र की समाप्ति तक अपने चार विकेट खोकर 82 रन बनाए. भोजनकाल तक आउट होने वाले तीन बल्लेबाज दिमुथ करुणारत्ने (19), मलिंदा पुष्पकुमारा (1) और कुशल मेंडिस (12) रहे. उपुल थरंगा (7) दूसरे दिन के अंतिम सत्र में आउट हुए थे. दूसरे सत्र में श्रीलंका की पारी को आगे बढ़ाने उतरे कप्तान दिनेश चांडीमल (36) और एंजेलो मैथ्यूज (35) ने 65 रनों की साझेदारी कर टीम को संभालने की कोशिश की लेकिन कुलदीप ने चेतेश्वर पुजारा के हाथों चांडीमल को कैच आउट कर बड़ा रूप लेने से पहले इस साझेदारी को विराम लगा दिया. इसके बाद रविचंद्रन अश्विन ने मैथ्यूज को पगबाधा आउट कर श्रीलंका का छठा झटका दिया. निरोशन डिकवेला (41) ने इसके बाद श्रीलंका की पारी को संभालने की कोशिश की लेकिन दूसरे छोर पर साथ देने आए बल्लेबाज दिलरुवान परेरा (8) और लक्षण संदाकन (8) ज्यादा देर तक मैदान पर टिक नहीं पाए. परेरा को अश्विन ने और संदाकन को शमी ने पवेलियन पहुंचाया. उमेश यादव ने एक छोर पर मेजबान टीम की पारी संभाले डिकवेला को 168 के स्कोर पर रहाणे के हाथों कैच आउट कर मेजबानों का नौंवा विकेट गिराया. अश्विन ने इसके बाद लाहिरु कुमारा (10) को पवेलियन भेजने के साथ ही 181 के स्कोर पर श्रीलंका की पारी समेट दी. दूसरी पारी में भारत के लिए अश्विन ने सबसे अधिक चार विकेट लिए वही शमी तीन और उमेश को दो सफलता हासिल हुई. कुलदीप भी एक विकेट लेने में सफल रहे. कुलदीप ने इस मैच में कुल पांच विकेट विकेट लिये.

आईसीसी विमेंस वर्ल्ड कप के फाइनल में भारत पराजित इंग्लैंड से
रोमांचक मैच में इंग्लैंड ने भारत को 9 रन से हरा वर्ल्ड कप पर किया कब्जा. पहले बल्लेबाजी करते हुए इंग्लैंड ने 7 विकेट खोकर 228 रन बनाए.टारगेट का पीछा करते हुए भारत जीत के करीब पहुंचते ही लड़खड़ाने लगा और महज 9 रन से मैच हार गया.

भारत के लिए सलामी बल्लेबाज पूनम राउत ने सार्वधिक 86 रन बनाए.
इंग्लैंड ने भारत को नौ रनों से हराते हुए रविवार को आईसीसी महिला विश्व कप का खिताब अपने नाम कर लिया है इंग्लैंड ने भारत के सामने 229 रनों का लक्ष्य रखा था, जिसे भारतीय टीम हासिल नहीं कर पाई और 48.4 ओवरों में 219 रन पर अपने सभी विकेट गंवा बैठी.इस तरह उसके हाथ से पहली बार विश्व विजेता बनने दूसरा मौका चला गया. इंग्लैंड ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करते हुए नताली स्काइवर के 51 रन और सारा टेलर के 45 रनों की मदद से निर्धारित 50 ओवरों में सात विकेट खोकर 228 रन बनाए थे.भारतीय महिला टीम एक समय तक इस लक्ष्य को हासिल करती दिख रही थी, लेकिन अंत में इंग्लैंड ने लगातार विकेट लेते हुए उसे ऐतिहासिक जीत से महरूम रखा और भारत के हाथ से जीता-जीताया मैच छीन लिया. भारत के लिए सलामी बल्लेबाज पूनम राउत ने सार्वधिक 86 रन बनाए जबकि सेमीफाइनल में शताकीय पारी खेलने वाली हरमनप्रीत कौर ने 51 रनों का योगदान दिया. इन दोनों ने तीसरे विकेट के लिए 95 रनों की साझेदारी की. अंत में वेदा कृष्णामूर्ति ने 35 रनों का पारी खेलते हुए टीम को जीत दिलाने की कोशिश की, लेकिन सफल नहीं हो पाईं. इंग्लैंड की तरफ से अन्या श्रूबसोले ने छह विकेट लिए.एलेक्स हार्टले ने दो सफलताएं हासिल कीं.



भारत 'ए' ने त्रिकोणीय श्रृंखला जीती,
भारत ‘ए’ ने दक्षिण अफ्रीका ‘ए’ को फाइनल में हराकर त्रिकोणीय सीरीज पर कब्ज़ा किया, श्रेयस अय्यर का बेहतरीन शतक.भारत 'ए' ने प्रिटोरिया में खेले गए त्रिकोणीय सीरीज के फाइनल में दक्षिण अफ्रीका 'ए' को 7 विकेट से हराकर खिताब पर कब्ज़ा कर लिया है. दक्षिण अफ़्रीकी टीम के 267 रनों के जवाब में भारतीय टीम ने मैन ऑफ़ द मैच श्रेयस अय्यर के बेहतरीन शतक की मदद से 47वें ओवर में ही मैच जीत लिया. फरहान बेहरदीन ने दक्षिण अफ्रीका 'ए' की तरफ से 101 रनों की शानदार पारी खेली थी, लेकिन वो बेकार गई. सीरीज में 307 रन बनाने वाले भारत 'ए' के कप्तान मनीष पांडे को मैच ऑफ दी सीरीज चुना गया .

भारत टेस्ट और एक दिवसीय मैच में बेस्ट
भारत ने रोमांचक पांचवें एकदिवसीय में इंग्लैंड को 1 विकेट से हराया, सीरीज पर 5-0 से किया कब्ज़ा टांटन में खेले गए रोमांचक पांचवें एकदिवसीय मुकाबले में भारतीय अंडर 19 टीम ने इंग्लैंड अंडर 19 टीम को 1 विकेट से हराकर पांच मैचों की एकदिवसीय सीरीज पर 5-0 से कब्ज़ा कर लिया. इससे पहले भारत ने टेस्ट सीरीज में भी इंग्लैंड को 2-0 से हराया था.पांचवें मैच में इंग्लैंड ने 222/9 का स्कोर बनाया था, जिसे भारत ने 49.2 ओवरों में 9 विकेट खोकर हासिल कर लिया. भारत के शुबमन गिल को चार मैचों में 278 रन बनाने और 3 विकेट लेने के लिए मैन ऑफ द सीरीज चुना गया.इंग्लैंड की तरफ से टॉम लैमनबाई (151 रन एवं 1 विकेट) मैन ऑफ़ द सीरीज रहे.

1.भारत ने 7 अगस्त को इंग्लैंड को 5
विकेट से हराया.
2. भारत ने 9 अगस्त को इंग्लैंड को 8
विकेट से मात दी.
3. भारत ने 12 अगस्त को इंग्लैंड को 169 रन्स से पराजित कर दी.
4. भारत ने 14 अगस्त को इंग्लैंड को डी/एल/एस पद्धति से 1विकेट हराया.
5.भारत ने 16 अगस्त को इंग्लैंड को 1
विकेट से पराजित कर दिया.
इसके साथ ही इतिहास रच दिया.

इसके पूर्व 2 टेस्ट मैच सीरीज में इंग्लैंड को पानी-पानी कर दिया. 23 जुलाई से शुरू प्रथम टेस्ट में 334 और 31 जुलाई से शुरू द्वितीय मैच में 97 रन्स से हराया.
Share on Google Plus

About आर्यावर्त डेस्क

एक टिप्पणी भेजें
loading...