एलओसी पर बढ़ीं घुसपैठ की कोशिशें : जेटली

enhanced-intrusion-attacks-on-loc-jaitley
नयी दिल्ली 04 अगस्त, रक्षा मंत्री अरुण जेटली ने आज लोकसभा में कहा कि नियंत्रण रेखा के पार से पाकिस्तान द्वारा घुसपैठ की कोशिशों की मामले इस साल तेजी से बढ़े हैं। हालाँकि श्री जेटली ने आश्वस्त भी किया कि देश की सीमाएँ पूरी तरह से सुरक्षित हैं। श्री जेटली ने प्रश्नकाल के दौरान एक पूरक प्रश्न के उत्तर में बताया कि वर्ष 2016 में जहाँ पूरे साल के दौरान सेना ने घुसपैठ के 228 प्रयासों को विफल किया था वहीं सीमा सुरक्षा बल ने ऐसे 221 मामलों को नाकाम किया था। इस साल अब तक सिर्फ सात महीने में ही घुसपैठ की 285कोशिशें हो चुकी हैं। श्री जेटली ने कहा “नियंत्रण रेखा पर इस साल घुसपैठ बढ़ाने की कोशिश की गयी है। लेकिन, यह भी सच है कि इस कारण दुश्मन पक्ष को जान का नुकसान भी रिकॉर्ड स्तर पर पहुँच गया।” उन्होंने बताया कि पिछले साल घुसपैठ रोकने की कार्रवाई के दौरान आठ भारतीय सैनिक भी शहीद हुये थे। श्री जेटली ने कहा कि सीमा की सुरक्षा एक सतत प्रक्रिया है। उन्होंने कहा “सीमा पर बाड़ और घुसपैठ रोकने के लिए जरूरी उपकरण आदि लगाये गये हैं। पूरी सीमा और नियंत्रण रेखा पर सेना का प्रभाव और दबदबा है।” संवेदनशील जानकारियाँ विस्तार से साझा करने से इनकार करते हुये उन्होंने कहा कि सीमा पर रडार, सेंसर, थर्मल इमेज सबकी व्यवस्था है। सीमा की सुरक्षा को दलगत राजनीति का विषय नहीं बनाने की सलाह देते हुये उन्होंने कहा “कोई भी सरकार रहे, सीमा पर व्यवस्था दिन-ब-दिन बढ़ रही है। इसी कारण सेना को घुसपैठ रोकने में ज्यादा सफलता मिल रही है।” उन्होंने कहा कि सेना के आधुनिकीकरण के लिए सरकार हर तरह के प्रयास कर रही है। एक अन्य प्रश्न के उत्तर में उन्होंने कहा कि कठिन परिस्थिति वाले स्थानों पर तैनात सैनिकों को वेतन के अलावा विशेष भत्ते भी दिये जाते हैं, हालाँकि ऐसे स्थानों पर काम करने वाले सैनिकों को जितनी भी सुविधा दी जाये वह कम है।

Share on Google Plus

About आर्यावर्त डेस्क

एक टिप्पणी भेजें
loading...