बिहार विधानसभा में लगातार चौथे दिन विपक्ष का हंगामा जारी

fourth-day-rampage-by-opposition-in-bihar-assembly
पटना 24 अगस्त, बिहार विधानसभा में विपक्षी दलों का हंगामा आज चौथे दिन भी जारी रहा जिसके कारण भोजनावकाश से पूर्व कोई भी काम नहीं हो सका । विधानसभा की कार्यवाही शुरू होते हुए राष्ट्रीय जनता दल(राजद) के अब्दुलबारी सिद्दिकी ने राज्य में बाढ़ से हुई तबाही के मामले को उठाया और कहा कि राज्य में 19 जिले के एक करोड़ से अधिक लोग बाढ़ से प्रभावित हैं। राज्य सरकार प्रभावितों को राहत पहुंचाने में पूरी तरह से विफल साबित हो रही है। उन्होंने कहा कि इस गंभीर विषय पर सदन में तुरंत चर्चा होनी चाहिए इसलिए इस संबंध में दिये गये उनके कार्यस्थगन प्रस्ताव को मंजूर किया जाये। इस पर सभा अध्यक्ष विजय कुमार चौधरी ने कहा कि कार्यस्थगन प्रस्ताव नियमानुकूल नहीं है जिसके कारण इसे नामंजूर किया जाता है। उन्होंने कहा कि बाढ़ के मुद्दे पर नियम 43 के तहत चर्चा हो सकती है  भोजनावकाश के बाद इस मामले पर कार्यमंत्रणा समिति की बैठक में विचार कर निर्णय लिया जा सकता है। श्री सिद्दिकी समेत विपक्ष के अन्य नेता सदन में तुरंत बाढ़ पर चर्चा कराने की अपनी मांग पर अड़े रहे । इसपर उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने कहा कि राज्य के लोग एक ओर बाढ़ की विभीषिका झेल रहे हैं वहीं दूसरी ओर श्री लालू प्रसाद यादव पीड़ितों की मदद करने की बजाये राजनीतिक रैली करने में लगे हैं । श्री यादव को बिहार के लोगों की चिंता नहीं है। उन्होंने कहा कि कल ही उन्होंने श्री यादव को रैली रद्द करने का सुझाव दिया था ताकि वह भीड़ नहीं जुटने के कारण होने वाली फजीहत से बच सकें। इसपर भाजपा और राजद सदस्यों के बीच कुछ देर तक नोक झोंक होती रही। राजद के अब्दुल बारी सिद्दीकी ने कहा कि आप लोगों को जो करना हो कर लीजिए लेकिन राजद की रैली 27 अगस्त को होनी है और जरूर होगी। उन्होंने कहा कि बाढ़ की समस्या काफी गंभीर है इसलिए पूर्व निर्धारित कार्यों को रोक कर इस मामले पर सदन में चर्चा होनी चाहिए और ऐसा पहले भी हो चुका है। राजद समेत विपक्ष के अन्य सदस्य इसके बाद सदन के बीच में आकर शोरगुल और नारेबाजी करने लगे । सदन में कुछ देर तक हंगामा होता रहा और उसके बाद सभाध्यक्ष ने सदन को अव्यवस्थित होता देख सभा की कार्यवाही दो बजे दिन तक के लिए स्थगित कर दी। इस कारण सदन में आज भी प्रश्नकाल, शून्यकाल और ध्यानाकर्षण नहीं हो सका । 

Share on Google Plus

About आर्यावर्त डेस्क

एक टिप्पणी भेजें
loading...