आप का कार्यालय आवंटन रद्द करने का उपराज्यपाल का आदेश खारिज

hc-sets-aside-lt-gov-s-order-dismissing-aap-s-office-allocation
नयी दिल्ली, 23 अगस्त, आम आदमी पार्टी(आप) को आज दिल्ली उच्च न्यायालय से बड़ी राहत मिली जब न्यायालय ने पार्टी कार्यालय के लिये आवंटित बंगला रद्द करने के उपराज्यपाल का आदेश खारिज कर दिया। न्यायमूर्ति विभू बखरू ने इस मामले पर सुनवाई करते हुए इसे उपराज्यपाल के पास वापस भेज दिया और आठ सप्ताह में तर्कसंगत निर्णय लेने के लिये कहा। न्यायमूर्ति बखरू ने कहा कि उपराज्यपाल के इस वर्ष 12 अप्रैल के आदेश में बंगला आवंटन रद्द करने पर यह जानकारी नहीं दी गयी कि इसके आवंटन में कौन से कानून या नियम का उल्लंघन किया गया है। न्यायालय ने कहा कि राजनीतिक दलों को परिसर आवंटित करने की अगर कोई नीति है तो उसे समान रूप से लागू किया जाना चाहिये। न्यायालय ने दिल्ली सरकार के लोक निर्माण विभाग के 13 जून को पारित दो अहम आदेशों को भी स्थगित रखा है। विभाग ने पार्टी के वैकल्पिक कार्यालय का अनुरोध खारिज कर दिया था। विभाग ने अनुरोध खारिज करने के साथ ही पार्टी को 31 मई तक के बंगले के 27 लाख रुपये से ज्यादा के किराये के बकाया का भुगतान करने को भी कहा था। पार्टी की तरफ से वरिष्ठ अधिवक्ता अरुण कठपालिया ने बताया था कि पार्टी को 31 दिसम्बर 2015 को राउज एवेन्यू पर बंगला क्रमांक 206 आवंटित किया गया था। इसे रद्द करने के लिये इस वर्ष 12 अप्रैल को उपराज्यपाल की तरफ से रदद करने का पत्र मिला था। आप की तरफ से न्यायालय से यह भी कहा गया कि अन्य राजनीतिक दलों को राजधानी में कार्यालय के लिये स्थान मिला हुआ है जबकि उसी के खिलाफ यह कार्रवाई की गयी है। पार्टी ने कहा कि केन्द्र सरकार की नीति के तहत सभी पंजीकृत राजनीतिक दल पार्टी कार्यालय के लिये पात्र हैं।

Share on Google Plus

About आर्यावर्त डेस्क

एक टिप्पणी भेजें
loading...